हरियाणा में डॉ अम्बेडकर चिकित्सा सहायता योजना

डॉ अम्बेडकर चिकित्सा सहायता योजना केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई है और हरियाणा राज्य सरकार, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा कार्यान्वित की गई है। योजना विशेष रूप से अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के लिए पेश की गई है ताकि वे आर्थिक रूप से समर्थन कर सकें। इस योजना को शुरू करने के पीछे मुख्य उद्देश्य जीवन में आने वाली बीमारियों के इलाज के लिए १०० % वित्तीय सहायता प्रदान करना है जैसे की हार्ट सर्जरी, किडनी सर्जरी / डायलिसिस, कैंसर सर्जरी / कीमोथेरेपी / रेडियोथेरेपी आदि योजना गंभीर बीमारियों से पीड़ित रोगियों को चिकित्सा उपचार की सुविधा प्रदान करने के लिए है। इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने  के लिए आवेदक उम्मीदवार को संबंधित अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक द्वारा विधिवत हस्ताक्षरित मूल अनुमानित लागत प्रमाण पत्र प्राप्त करने की आवश्यकता है और कुछ पात्रता मानदंडों को पूरा करने की आवश्यकता है।
                                                                                                                       Dr. Ambedkar Medical Aid Scheme In Hariyana (In English):
डॉ अम्बेडकर चिकित्सा सहायता योजना के लाभ:
  • अम्बेडकर चिकित्सा सहायता योजना उपचार शुरू करने के लिए आवश्यक सभी लागत प्रदान करके लाभ प्रदान करती है। नीचे दी गई वित्तीय सहायता की दरें
  • हार्ट सर्जरी: १,२५ लाख रुपये
  • गुर्दे की सर्जरी / डायलिसिस: ३.५ लाख रुपये
  • कैंसर सर्जरी / कीमोथेरेपी / रेडियोथेरेपी: १.७५ लाख रुपये
  • ब्रेन सर्जरी: १.५० लाख रुपये
  • किडनी / अंग प्रत्यारोपण: १.५० लाख रुपये
  • स्पाइनल सर्जरी: १.०० लाख रुपये
  • अन्य जानलेवा बीमारियाँ: १.०० लाख रुपये
  • उपचार की अनुमानित लागत का १०० % सीधे संबंधित अस्पताल में जारी किया जाएगा।
डॉ अम्बेडकर चिकित्सा सहायता योजना लागू करने के लिए आवश्यक पात्रता और शर्तें:
  • आवेदक का संबंध अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति समुदाय से होना चाहिए।
  • वार्षिक पारिवारिक की आय १ लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • जो लोग बड़ी बीमारियों से पीड़ित है जिन्हें सर्जरी की आवश्यकता होती है जैसे कि किडनी, हृदय, यकृत, कैंसर, मस्तिष्क या कोई अन्य जानलेवा बीमारी जिसमें घुटने की सर्जरी और स्पाइनल सर्जरी शामिल हैं,वह इस योजना के लिए पात्र है।
डॉ अम्बेडकर चिकित्सा सहायता योजना को लागू करने के लिए आवश्यक दस्तावेज:
  • आवेदन पत्र
  • मूल अनुमानित लागत प्रमाण पत्र संबंधित अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक द्वारा विधिवत हस्ताक्षरित है।
  • आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • बीपीएल  राशन कार्ड
  • पहचान पत्र
  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट के आकार की तस्वीर
आवेदन की प्रक्रिया:
  • आवेदक संबंधित अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक द्वारा विधिवत प्रमाणित निर्धारित आवेदन पत्र में चिकित्सा सहायता के लिए आवेदन करना होंगा।
  • उम्मीदवार दिए गए लिंक https://govinfo.me/wp-content/uploads/2016/08/application_form_for_medical_aid.pdf पर जाकर आवेदन पत्र और अन्य आवश्यक प्रमाण पत्र डाउनलोड कर सकते है।
  • आवेदन की सिफारिश डॉ अम्बेडकर फाउंडेशन के महागठबंधन के सदस्यों या स्थानीय संसद सदस्यों (लोकसभा या राज्य सभा) द्वारा या संबंधित जिला के जिलाधिकारी और कलेक्टर / उपायुक्त या सचिव द्वारा की जाएगी। राज्य / केन्द्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य और समाज कल्याण विभागों के प्रभारी विधिवत रूप से भरा हुआ, सर्जरी की तारीख से कम से कम १५ दिन पहले निदेशक, डॉ अम्बेडकर फाउंडेशन, 15, जनपथ, नई दिल्ली तक पहुंचना चाहिए। प्राप्त सभी आवेदनों को डॉ अम्बेडकर  फाउंडेशन में संसाधित किया जाएगा।
संपर्क विवरण:
  • आवेदक उम्मीदवार, जिन्हें सहायता की आवश्यकता है, वे संबंधित अस्पताल या सरकारी अस्पतालों के चिकित्सा अधीक्षक से संपर्क कर सकते  है।
संदर्भ और विवरण:

सीईओ हरियाणा मतदाता सूची २०१९: हरियाणा मतदाता सूची में अपना नाम कैसे जांचें?

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ)  ने लोकसभा चुनाव २०१९  के लिए मतदाता सूची जारी कर दी है। नवीनतम मतदाता सूची सीईओ हरियाणा की आधिकारिक वेबसाइट  www.ceoharyana.nic.in  पर उपलब्ध है। मतदाता अपना नाम मतदाता सूची में ऑनलाइन भी देख सकते है। चुनाव आयोग यह सुनिश्चित करना चाहता है कि कोई पात्र मतदाता पीछे न रहे और हर नागरिक मतदान कर सके। उन्होंने मतदाता संबंधी सभी सेवाएँ ऑनलाइन प्रदान की है। नागरिक चुनाव की तारीख, परिणाम की तारीख, विभिन्न आवेदन पत्र प्राप्त कर सकते है और www.ceoharyana.nic.in पर अपनी शिकायतें भी दर्ज कर सकते है।

                                                                                             CEO Haryana Electoral Roll 2019 (In English):

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) हरियाणा

हरियाणा मतदाता सूची में अपना नाम कैसे जांचें?

  • सीईओ हरियाणा की वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • मतदाता सूची में अपने नाम की जाँच लिंक पर क्लिक करें या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करें
  • आप अपने मतदाता विवरण या मतदाता पहचान पत्र से खोज सकते है, उनमें से किसी एक का चयन करें।
  • मतदाता सूची में अपना नाम खोजने के लिए अपना मतदाता विवरण जैसे नाम और पता या मतदाता पहचान पत्र प्रदान करें।

मतदाता विवरण द्वारा सीईओ हरियाणा मतदाता सूची में अपना नाम खोजें (स्रोत: ceoharyana.nic.in)

मतदाता पहचान पत्र द्वारा सीईओ हरियाणा मतदाता सूची में अपना नाम खोजें (स्रोत: ceoharyana.nic.in)

डाउनलोड सीईओ हरियाणा मतदाता सूची:

  • सीईओ हरियाणा पोर्टल पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • अंतिम मतदाता सूची २०१९ के तहत त्वरित लिंक पर क्लिक करे या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करें
  •  अपने विधानसभा क्षेत्र का चयन करें, मतदान केंद्र को चुनें, कैप्चा दर्ज करें और फिर जमा बटन पर क्लिक करें।

 पीडीएफ प्रारूप में सीईओ हरियाणा मतदाता सूची (जिलेवार, विधानसभा क्षेत्रवार, मतदान केंद्र-वार) डाउनलोड करें (स्रोत: ceoharyana.nic.in)

  • एक डाउनलोड पीडीएफ लिंक दिखाई देंगी, पीडीएफ प्रारूप में मतदाता सूची डाउनलोड करने के लिए उस पर क्लिक करें।

 

coaching / कोचिंग

सुपर १०० योजना हरियाणा: मेधावी छात्रों को जेईई और एनईईटी के लिए नि:शुल्क कोचिंग, पात्रता, लाभ और आवेदन कैसे करें

हरियाणा सरकार ने राज्य के सरकारी स्कूलों से मेधावी छात्रों के लिए सुपर १०० योजना  हरियाणा शुरू की है। इस योजना का उद्देश्य छात्रों को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करना और उन्हें मेडिकल और इंजीनियरिंग में प्रवेश के लिए प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में मदत करना है। हरियाणा राज्य में मनोहरलाल खट्टर सरकार ने राज्य के सरकारी स्कूलों के मेधावी छात्रों को बोर्डिंग की सुविधा के साथ-साथ नि:शुल्क में जेईई और एनईईटी कोचिंग प्रदान करेगी।

                                                                                                      Super 100 Scheme Haryana (In English)

सुपर १००  क्या है?

प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए सरकारी स्कूलों के मेधावी छात्रों को नि:शुल्क कोचिंग और बोर्डिंग देने के लिए हरियाणा सरकार की एक योजना है।

सुपर १०० योजना का उद्देश्य:

  • उच्च शिक्षा के लिए छात्रों को प्रोत्साहित किया जाएंगा।
  • आर्थिक रूप से कमजोर पृष्ठभूमि वाले छात्रों को शिक्षा के समान अवसर प्रदान किये जाएंगे।
  • प्रतियोगी परीक्षाओं के विशेषज्ञों से कोचिंग प्रदान की जाएंगी।
  • राज्य भर में इंजीनियरिंग और मेडिकल शिक्षा को बढ़ावा दिया जाएंगा।

सुपर १०० योजना के लाभ:

  • जेईई और एनईईटी परीक्षा के लिए विशेषज्ञों से नि: शुल्क २  साल के लिए कोचिंग प्रदान की जाएंगी।
  • कक्षा ११ वीं और १२  वीं कक्षा तक बोर्डिंग, ठहरने और यात्रा की व्यवस्था (तीन महीने में एक बार) प्रदान की जाएंगी।

सुपर १००  योजना के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल हरियाणा राज्य के छात्रों के लिए लागू है।
  • यह योजना हरियाणा राज्य के सरकारी स्कूलों के छात्रों के लिए लागू है।
  • जिन छात्रों ने ८५% से आधिक अंक हासिल किये उन छात्रों के लिए यह योजना लागू है।
  • राज्य में जून महीने में आयोजित होने वाली प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करने वाले छात्र इस योजना के लिए पात्र है।

सुपर १००  २०१८  प्रवेश परीक्षा तिथि:

  •  प्रवेश परीक्षा जून २०१८  के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जाएगी।

सुपर १००:  यह कैसे काम करता है / आवेदन कैसे करें?

  • सरकारी स्कूलों के २२५  छात्रों को विशेषज्ञ शिक्षकों से नि:शुल्क कोचिंग प्रदान की जाएंगी।
  • प्रवेश परीक्षा के आधार पर छात्रों का चयन किया जाएगा।
  • प्रवेश परीक्षा हरियाणा राज्य के सभी जिलों में जून २०१८  के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जाएगी।
  • १० वी कक्षा के परीक्षा में ८५ % से अधिक अंक प्राप्त करने वाले छात्र प्रवेश परीक्षा के लिए पात्र है।
  • चुने गये २२५ छात्र और छात्राओं को जेईई और एनईईटी प्रवेश परीक्षा के लिए अगले २ सालों के लिए नि:शुल्क कोचिंग प्रदान की जाएगी।
  • १२५  छात्रों को रेवाड़ी के सरकारी स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा और १०० छात्रों को करनाल में प्रवेश दिया जाएगा जहां वे ११ वी और १२ वी कक्षा की पढाई पूरी करेंगे।
  • उन छात्रों को ११ वीं और १२ वीं कक्षा के पढाई के साथ साथ उन्हें इंजीनियरिंग और मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं की तैयारी के लिए नि:शुल्क कोचिंग प्रदान की जाएंगी।
  • इन दो सालों के दौरान २२५ छात्रों के बोर्डिंग, ठहरने और यात्रा की व्यवस्था (तीन महीने में एक बार) का पूरा खर्चा हरियाणा सरकार करेंगी।
  • सरकार ने राज्य के जिला शिक्षा अधिकारियों और प्राचार्य को माता-पिता और छात्रों को सुपर १००  योजना का लाभ उठाने के लिए और प्रवेश परीक्षा में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए निर्देशित किया है।
  • सरकार ने नि:शुल्क कोचिंग संचालित करने के लिए विकास फाउंडेशन रेवाड़ी के साथ एक   समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किये है।
  • छात्रों के लिए जल्दी ही एक और एमओयू बोर्डिंग, ठहरने की व्यवस्था की सुविधा की जाएंगी।
  • इस योजना के लिए लडको और लड़कियों की सामान संख्या का चयन किया जाएंगा।
  • राज्य सरकार ने इस योजना के लिए १ करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।

अन्य महत्वपूर्ण योजना:

haryanaismo.gov.in – हरियाणा सायबर सुरक्षा पोर्टल और टोल फ्री नंबर १८००-१८०-१२३४ सुरु किया गया –

हरियाणा सरकार ने राज्य के नागरिकों को जागरूकता निर्माण करने के लिए और साइबर अपराधों की शिकायत करने के लिए टोल फ्री नंबर १८००-१८०-१२३४ के साथ-साथ एक  हरियाणा सायबर सुरक्षा पोर्टल  haryanaismo.gov.in सुरु किया है। हरियाणा राज्य साइबर सुरक्षा पोर्टल के पहल को सुरु करने वाला भारत देश का पहला राज्य बन गया है। साइबर सुरक्षा पहल का प्राथमिक उद्देश्य ऑनलाइन सुरक्षा के बारे में जागरूकता निर्माण करना है और साइबर अपराध की शिकायत करने के लिए एक मंच प्रदान करना है।

हरियाणा सरकार के ई एंड आईटी विभाग के सूचना सुरक्षा प्रबंधन कार्यालय (आयएसएमओ) ने इस पोर्टल को सुरु किया है। डिजिटल भुगतान, ई-कॉमर्स और ई-गवर्नेंस के विकास के साथ अब सूचना सुरक्षा को बहुत महत्व मिला है। सभी नागरिकों को साइबर चोरी, इंटरनेट हमले, मोबाइल डिवाइस सुरक्षा और साइबर खतरों के बारे में पता होना चाहिए। राज्य सरकार स्कूली पाठ्यक्रम में इंटरनेट सुरक्षा और सुरक्षा से संबंधित विषयों को जोड़ने की योजना बना रही है।

                                                                Haryana Cyber Security Portal & Toll Free Number (English)

हरियाणा साइबर सुरक्षा पोर्टल और टोल फ्री नंबर

पोर्टल पहचान / डेटा चोरी, बच्चों को ऑनलाइन सुरक्षित कैसे रहे, फर्जी एंटी-वायरस आदि के बारे में जानकारी प्रदान करता है। राज्य के नागरिक अब टोल फ्री नंबर पर ऑनलाइन धोखाधड़ी, चोरी आदि की शिकायत कर सकते है।

@सायबरदोस्त  ट्विटर हैंडल:

गृह मंत्रालय ने साइबर अपराधों के बारे में जागरूकता फैलाने और उनकी शिकायत करने के लिए  @सायबरदोस्त  ट्विटर हैंडल  भी सुरु किया है। यह ऑनलाइन सुरक्षा के बारे में बुनियादी जानकारी प्रदान करता है। हाल ही में कई धोखाधड़ी कंपनियां और व्यक्ति नागरिकों की अज्ञानता का लाभ उठा रहे है। हाल ही में ऑनलाइन धोखाधड़ी के कई मामले सामने आये है।

नागरिकों को सुरक्षित रहने और ऑनलाइन से खुद को बचाने के लिए एमएचए @सायबरदोस्त  (MHA’s @CyberDost)  के साथ साथ हरियाणा सायबर सुरक्षा पोर्टल बहुत आवश्यक सहायता प्रदान करता है।

अन्य महत्वपूर्ण योजनाएँ: 

  • हरियाणा में योजनाओं और सब्सिडी की सूची
  • मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर द्वारा योजनाएं

संबंधित योजनाएं:

 हरियाणा

सायबर सुरक्षा

 

 

अन्त्योदय सरल हरियाणा पोर्टल और हेल्पलाइन: नागरिकों के लिए योजनाएं और सेवाओं के वितरण के लिए वेबसाइट-

हरियाणा सरकार ने राज्य के नागरिकों के लिए अन्त्योदय सरल हरियाणा पोर्टल (saralharyana.gov.in / saralharyana.nic.in)  और हेल्पलाइन (१८०० २००० ०२३) को सुरु किया है। वेबसाइट और हेल्पलाइन ऑनलाइन योजनाओं और विभिन्न सरकारी सेवाओं के बारे में जानकारी प्रदान करती है। यह नागरिक केंद्रित सेवाओं और योजनाओं के लिए हरियाणा राज्य सरकार का एक आधिकारिक पोर्टल है।

                                                                         Antyodaya Saral Haryana Portal & Helpline (In English)

 अन्त्योदय सरल हरियाणा पोर्टल: नागरिकों के लिए हरियाणा सरकार की (जी टू सी) सेवाएँ और योजनाएँ का एक वितरण मंच है।

  • आधिकारिक वेबसाइट: saralharyana.gov.in/ saralharyana.nic.in
  • अन्त्योदय सरल हेल्पलाइन: १८०० २००० ०२३ सुबह ७ बजे से रात के ९ बजे तक सेवा सुरु रहेंगी (सोमवार से शनिवार)

अन्त्योदय सरल विशेषताएं:

  • उन्होंने ४८५ से ज्यादा और  सेवाओं (२२० से अधिक योजनाओं और २६० से अधिक  सेवाओं) को डिजिटल कर दिया है और इसे नागरिकों के लिए उपलब्ध कराया है।
  • यह विभिन्न सरकारी विभागों से विभिन्न प्रमाणपत्रों के लिए आवेदन की सुविधा प्रदान करता है।
  • नागरिक भी विभिन्न अनुप्रयोगों की प्रगति को ट्रैक कर सकता है।
  • विभिन्न विभागों की सक्रियता को लाइव ट्रैक किया जा सकता है।
  • सेवाओं को वितरण के समय पर प्रदान किया जाएंगा।
  • सरकारी विभागों से स्पष्ट जानकारी प्रदान की जाएंगी।
  •  सरकारी विभागों में मध्य-मानव काम करता है और भ्रष्टाचार को कम करने में मदत करता है।

हरियाणा अन्त्योदय सरल पोर्टल की लोकप्रिय सेवाएं:

  • आय प्रमाण पत्र (राजस्व)
  • वृद्धावस्था सम्मान भत्ता (सामाजिक न्याय और अधिकारिता)
  • निवासी प्रमाण पत्र (राजस्व)
  • नया बिजली कनेक्शन के लिए आवेदन  (यू / निगम)
  • विक्रेता प्वाइंट पंजीकरण (परिवहन)
  •  नया राशन कार्ड जारी करने के लिए आवेदन (खाद्य एवं आपूर्ति)
  • सूक्ष्म पोषक उर्वरक ( कृषि)
  • डॉ. अम्बेडकर मेधावी चतर योजना (एससीबीसी का कल्याण)
  • साइकिल योजना (बीओसीडब्लू- श्रम)
  • विवाह पंजीकरण (शहरी स्थानीय निकाय)

saralharyana.gov.in –  अन्त्योदय सराल हरियाणा पोर्टल पंजीकरण और लॉगिन:

  • नागरिकों को विभिन्न सेवाओं और योजनाओं की जानकारी प्राप्त करने के लिए पंजीकरण और लॉगिन करने की आवश्यकता है। सफल पंजीकरण के बाद उपयोगकर्ता अंत्योदय सराल हरियाणा पोर्टल पर विभिन्न प्रमाणपत्रों और सेवाओं के लिए आवेदन करने के लिए लॉगिन कर सकते है।
  • अन्त्योदय सरल पंजीकरण: आधिकारिक पोर्टल पर जाने के लिए यहां क्लिक करें और फिर नए उपयोगकर्ता पर क्लिक करें? यहाँ दिए गए लिंक को पंजीकरण करें। अपना नाम दर्ज करने के लिए नाम, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर, पासवर्ड और राज्य दर्ज करें।

अन्त्योदय सरल हरियाणा पोर्टल पंजीकरण आवेदन पत्र (स्रोत: saralharyana.gov.in)

  • लॉग इन पेज पर जाने के लिए अपटन पंजीकरण पर क्लिक करें। अपना उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड प्रदान करें और लॉगिन करें।

 अन्त्योदय सरल पोर्टल: ट्रैक आवेदन की स्थिति

  • हरियाणा सरल वेबसाइट पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें। ट्रैक पर क्लिक करें, विभाग चुनें, सेवा का नाम, अपना आवेदन संदर्भ आईडी दर्ज करें और चेक स्टेटस बटन पर क्लिक करें। आपके आवेदन की आवेदन स्थिति दिखाई जाएगी।

अन्त्योदय सरल पोर्टल: ट्रैक आवेदन की स्थिति (स्रोत: saralharyana.gov.in)

संबंधित योजनाएं:

 

पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) हरियाणा: पंजीकरण,ऑनलाइन आवेदन पत्र और स्थिति की जाँच

हरियाणा राज्य में अनुसूचित जाती, ईसा पूर्व और अन्य पिछड़ा वर्ग  के छात्र पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस)  हरियाणा के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। हरियाणा सरकार के अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्ग के कल्याण विभाग ने एक पोर्टल  hryscbcschemes.in सुरु किया है। पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र, पंजीकरण ऑनलाइन किया जा सकता है। छात्र पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) के लिए आवेदन की स्थिति भी देख सकते है।

                                                                                 Post Matric Scholarship (PMS) Haryana (In English)

पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) के लिए पात्रता:

  • पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति हरियाणा राज्य में पढ़ने वाले छात्रों के लिए लागू है।
  • गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवार के छात्र इस छात्रवृत्ति के लिए आवेदन कर सकते है।
  • यह योजना केवल अनुसूचित जाती, ईसा पूर्व और अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों के लिए लागू है।
  • अनुसूचित जाती के छात्रों की पारिवारिक आय सालाना २.५ लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। ईसा पूर्व वर्ग के छात्रों की परिवार की वार्षिक आय २ लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए और अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों की परिवार की वार्षिक आय १ लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।

पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) हरियाणा ऑनलाइन पंजीकरण:

  • अनुसूचित जाति और पिछड़ा वर्ग विभाग की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें।
  • पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करे बटन पर क्लिक करें (सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करें)
  • सभी निर्देशनों को ध्यान से पढ़ें और फिर पंजीकरण के लिए आगे बढें  बटन पर क्लिक करें।
  • आगे के निर्देशनों का पालन करें, आवेदन पत्र को पूरी तरह से भरें और जमा करें।
  • आपके लिए लॉगिन आईडी और पासवर्ड उत्पन्न किया जाएगा, यहां क्लिक करें आवेदक के लॉगिन पर जाने के लिए अद्यतन करने के लिए / अपने विवरण की जांच करने के लिए।

पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति (पीएमएस) आवेदन की स्थिति देखें:

  • पीएमएस आवेदन पत्र की स्थिति पेज पर जाने के लिए यहां क्लिक करें।
  • अपना आधार नंबर या आवेदन पत्र नंबर डालें और सर्च बटन पर क्लिक करें।

पीएमएस हरियाणा हेल्पलाइन:

 संबंधित योजनाएं:

 

 

 

हरियाणा में कृषि पंप कनेक्शन वितरण योजना: किसानों के लिए ४४,००० कृषि कनेक्शन

हरियाणा सरकार ने राज्य के किसानों के लिए ४४,००० कृषि पंप कनेक्शन प्रदान करने के लिए कृषि पंप कनेक्शन वितरण योजना बना रही है। जिन लाभार्थी को साल २०१४ से बिजली कनेक्शन नहीं मिला ऊन लाभार्थी को अगले ६ महीनों तक बिजली कनेक्शन प्रदान किया जाएंगा। इनमें से २५,००० बिजली कनेक्शन पारंपरिक होंगे और १५,००० सोलर पंप कनेक्शन होंगे। यह योजना केवल कृषि कनेक्शन यानी कुंआ या नलकूप पंप कनेक्शनों के लिए ही लागू है।

                                                         Agriculture Pump Connection Distribution Haryana (In English)

कृषि पंप कनेक्शन वितरण योजना: राज्य के जिन किसानों को को लम्बे समय से कृषि पंप कनेक्शन मिला नहीं है, उन किसानों को ३१  मार्च २०१९  तक कृषि कनेक्शन प्रदान करने के लिए हरियाणा सरकार की योजना है।

कृषि पंप कनेक्शन वितरण योजना के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल हरियाणा राज्य के किसानों के लिए लागू है।
  • बिजली कनेक्शन केवल उन किसानों को प्रदान किया जाएंगा जिन्होंने खेत में बिजली के कनेक्शन के लिए आवेदन १ जनवरी २०१४  से ३१ दिसंबर २०१८  तक किया है।

कृषि पंप कनेक्शन वितरण योजना का लाभ:

  • राज्य के किसानों को कृषि बिजली कनेक्शन प्रदान किये जाएंगे।
  • राज्य के किसानों को कुआ और नलकूप पंप के लिए बिजली कनेक्शन प्रदान किये जाएंगे।
  • इस योजना के तहत २५,००० पारंपरिक बिजली कनेक्शन प्रदान किये जाएंगे।
  • इस योजना के तहत १५,००० सोलर पंप कनेक्शन प्रदान किये जाएंगे।

हरियाणा सरकार पहले से ही ५०,००० सौर ऊर्जा संचालित पंप सेट के वितरण की प्रक्रिया में है। राज्य सरकार ने उनमें से १५,००० सोलर पंप कनेक्शन  के लिए निवेदन जारी कर दीया है। बिजली कनेक्शन वितरण राज्य के किसानों को मदत करेगा जो पहले से ही कई अन्य मुद्दों के कारण संघर्ष कर रहे है। राज्य में गरीब और सीमांत किसानों को सोलर पंप कनेक्शन प्रदान किये जाएंगे।

संबंधित योजनाएं:

शिक्षा सेतु: हरियाणा कॉलेज और पाठ्यक्रम की सूची,प्रवेश शुल्क और उपस्थिति के लिए एक मोबाइल एप्लीकेशन-

हरियाणा राज्य के शिक्षा विभाग ने राज्य में छात्रों के लिए  शिक्षा सेतु मोबाइल एप्लीकेशन सुरु किया है। एप्लिकेशन शैक्षणिक विवरण प्रदान करता है जैसे राज्य के कॉलेज और पाठ्यक्रम की सूची,प्रवेश शुल्क, उपस्थिति, छात्रवृत्ति आदि के बारे में विवरण प्रदान करता है। इस एप्लीकेशन को एंड्रॉइड और आईओएस से डाउनलोड और इंस्टॉल किया जा सकता है। अपने माता-पिता के साथ राज्य के कॉलेजों में पढ़ने वाले छात्र शिक्षा सेतु मोबाइल एप्लीकेशन डाउनलोड कर सकते है और विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों के बारे में सभी नवीनतम अपडेट प्राप्त कर सकते है। यह एप्लीकेशन छात्रों, अभिभावकों, शिक्षकों और प्रशासनों को एक सामान्य मंच प्रदान करता है।

राज्य में शैक्षणिक मानकों में सुधार के लिए नवीनतम तकनीक का उपयोग करना, इस शिक्षा सेतु मोबाइल एप्लीकेशन सुरु करने के पीछे मुख्य उद्देश्य है। शिक्षा सेतु मोबाइल एप्लीकेशन शैक्षणिक विभाग में पारदर्शिता बनाने में मदत करेगा।यह एप्लीकेशन डिजिटल इंडिया कार्यक्रम की दिशा में एक कदम है।

                                                                                                                                   Shiksha Setu (In English)

हरियाणा शिक्षा सेतु मोबाइल एप्लीकेशन: हरियाणा शिक्षा सेतु मोबाइल एप्लीकेशन को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड और इंस्टॉल करने के लिए यहां क्लिक करें।

शिक्षा सेतु एंड्राइड एप्लीकेशन की विशेषताएं:

  • हरियाणा विभाग का संपर्क विवरण
  •  माता-पिता और छात्र के लिए कॉलेज, पाठ्यक्रम और सीटों की सूची जो प्रवेश के समय उपयोगी होगी
  • माता-पिता और छात्र को सहायता करेंगे ताकि वे अपने प्रश्नों के उत्तर जल्दी प्राप्त कर सकें
  • उपस्थिति प्रबंधन: शिक्षक और छात्र उपस्थिति देख सकते है और माता-पिता भी साथ साथ उपस्थिति देख सकते है
  •  शिक्षक और छात्र की प्रोफाइल शुल्क: छात्र, माता-पिता और प्रशासन को शुल्क का विवरण प्रदान करें
  • परिपत्र, समाचार और घटना
  • प्रतिक्रिया
  • स्वच्छं कोना: उपयोगकर्ता स्वच्छता पर लेख बना सकता है और प्रकाशित कर सकते है

संबंधित योजनाएं:

 

 

शिशु देखभाल किट योजना: महाराष्ट्र में नवजात और उनकी माताओं को नि:शुल्क शिशु किट   

महाराष्ट्र सरकार ने नवजात शिशु और उनकी माताओं के लिए शिशु देखभाल किट योजना की घोषणा की है। महाराष्ट्र सरकार से शिशुओं को उपहार के रूप में २,००० रुपये की नि:शुल्क शिशु देखभाल किट प्रदान की जाएगी।यह योजना केवल उन नवजात शिशुओं पर लागू होती है जो सरकारी अस्पतालों और राज्य के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में जन्म लेते है।

इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य उम्मीदवार महिला को सरकारी अस्पतालों और राज्य के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में नवजात शिशु को जन्म देने के लिए प्रोत्साहित करना है।गरीब और दूरदराज क्षेत्र के घरों में कई मामलों में माता पुरानी प्रथाओं के कारन अपने घर पर बच्चों को जन्म देती है।राज्य में पुरानी प्रथाओं और असुविधा के कारन माता और नवजात शिशु की मौत हो जाती है। यह योजना गर्भवती माताओं और परिवार में नवजात शिशु को जन्म देने वाले महिला को अस्पतालों में भर्ती होने के लिए प्रोत्साहित करती है।

                                                                                                                  Baby Care Kit Scheme (In English)

शिशु देखभाल किट योजना का उद्देश्य:

  • महाराष्ट्र राज्य में नवजात शिशु के मृत्यु दर को कम करना इस योजना का मुख्य उद्देश है।

नि:शुल्क शिशु देखभाल किट किसे प्रदान की जाएंगी? नवजात शिशु की माताओं और नवजात शिशु जिसका जन्म महाराष्ट्र राज्य के सरकारी अस्पताल में हुआ है,उनको नि:शुल्क शिशु देखभाल किट प्रदान की जाएंगी।

 शिशु देखभाल किट योजना का लाभ:

  • लाभार्थी नवजात शिशु को २,००० रुपये  की नि:शुल्क शिशु देखभाल किट प्रदान की जाएंगी।
  • गर्भवती माताओं को अस्पतालों में नवजात शिशु को जन्म देने के लिए प्रोत्साहित किया जाएंगा।

इस योजना को शुरू में आंध्र प्रदेश, हरियाणा और तेलंगाना राज्य में लागू किया गया था।अस्पताल में जन्म देने वाली गर्भवती माताओं की संख्या इस योजना के माध्यम से काफी बढ़ गई है।महाराष्ट्र सरकार ने नवजात शिशुओं और उनके माताओं के लिए नि:शुल्क शिशु किट के वितरण के लिए १०० करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।इस योजना का कार्यान्वयन साल २०१८-१९  में शुरू होगा।

शिशु देखभाल किट में वस्तुओं की सूची:  शिशु के कपड़े, शिशु के लिए एक छोटा सा बिस्तर, तौलिया, प्लास्टिक डायपर (नापियां), शरीर की मालिश का तेल, थर्मामीटर, मच्छर दानी, वूलन का कंबल, शैम्पू, नाखून कटर, हाथ मोजे, मोजे, शरीर धोने के लिए एक छोटासा बिस्तर , तरल हाथ प्रक्षालक, माताओं के लिए लोकर के कपड़े और खिलौने आदि शिशु देखभाल किट में वस्तुओं को प्रदान किया जाएंगा।

महाराष्ट राज्य का महिला एवं बाल कल्याण विभाग इस योजना को लागू करेगा। हर साल लगभग १२ लाख गर्भवती महिलाएं जन्म देती है। इनमें से ८ लाख शहरी क्षेत्रों में से है और १२ लाख ग्रामीण क्षेत्रों से है। उनमें से ४ लाख के करीब महिला पहली बार नवजात शिशु को जन्म देती है।

संबंधित योजनाएं:

मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क मार्ग योजना हरियाणा: ग्रामीण सड़कों को मजबूत करने के लिए

हरियाणा राज्य के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राज्य भर में ग्रामीण सड़कों को मजबूत करने के लिए मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क मार्ग योजना की घोषणा की है। इस योजना के तहत प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के ५०० किलोमीटर के आसपास सड़क का निर्माण किया जाएगा। यह योजना अगले ५ वर्षों में लागू की जाएगी।

हरियाणा राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों के सड़क में सुधार लाना इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य है। राज्य में बेहतर सड़क बनाई जाएंगी ताकि राज्य के किसान बाजार तक तुरंत पहुंच सके।अच्छी सड़कों से छात्रों को मदत मिलेगी, मरीज़ जल्दी और सुविधाजनक रूप से जिला मुख्यालयों और शहरों तक पहुंच जाएंगे। चरणबद्ध तरीके से होने वाली सड़कों को सुदृढ़ किया जाएंगा।

                                                                   Mukhyamantri Kisan Khet sadak Marg Yojana (In English)

मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क मार्ग योजना का उद्देश्य:

  • इस योजना के तहत  गांवों  से शहरों के लिए अच्छी कनेक्टिविटी प्रदान की जाएंगी।
  • राज्य के किसान तेजी से बाजार तक पहुंच सके।
  • इस योजना के माध्यम से साल २०२२ तक राज्य के किसान की आय को दोगुना की जाएंगी।

मुख्यमंत्री किसान खेत सड़क मार्ग योजना की विशेषताएं:

  •  ग्रामीण सड़कों को मजबूत किया जाएंगा और कनेक्टिविटी में सुधार करने के लिए एक योजना है।
  • हरियाणा राज्य के ग्रामीण विकास विभाग को इस योजना के कार्यान्वयन की ज़िम्मेदारी दी गई है।
  • चरणबद्ध तरीके से होने वाली सड़कों का निर्माण किया जाएंगा।
  • पहले चरण में प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र के  ३ और ४  गांवों में २५ किलोमीटर के आसपास सड़क का निर्माण किया जाएंगा।
  • सड़कों को खदानजा से बनाया जाएगा और सड़कों का निर्माण अगले ५ साल में पूरा हो जाएगा।
  • किसान सालाना में दो बार अपनी खेती योग्य भूमि और फसल को पंजीकृत कर पाएंगे।
  • सभी गांवों में आम सेवा केंद्र (सीएससी) स्थापित किए जाएंगे।
  • सीएससी में फसल और खेती योग्य भूमि पंजीकरण किया जा सकता है।
  • पंजीकरण मुआवजे, खरीद, बीमा और बैंक ऋण में किसानों की मदत की जाएंगी।
  • सीएससी में खेती योग्य और गैर-खेती योग्य दोनों प्रकार का पंजीकरण किया जा सकता है
  • राज्य सरकार पेरी-शहरी खेती पर ध्यान केंद्रित करेगी।
  • हरियाणा में पेरी-शहरी खेती दिल्ली, फरीदाबाद, नोएडा, गुरुग्राम शहरों की लगभग ४ करोड़ आबादी की सेवा करेगी।

संबंधित योजनाएं: