Archives: स्कुल शिक्षा

बिहार छात्र क्रेडिट कार्ड योजना (बिएससीसीवाई- सात निश्चय कार्यक्रम): छात्रोकों शिक्षा के लिये वित्तिय सहायता एवं ऋण योजना

July 17, 2018 | By hngiadmin | No Comments | Filed in: स्कुल, कॉलेज, अनुसूचित जाती, योजनाएं, अनुसूचित जनजाति, छात्र, खबरें, शिक्षा, अन्य पिछड़ा वर्ग, लड़की, अधिसूचित और वंचित जनजाति, बिहार, लड़का, सामान्य वर्ग (ओपन श्रेणी), बिहार सरकार, युवा, आदिवासी, शिष्यवृत्ती, अल्पसंख्यक, सामाजिक रूप से पिछड़ा वर्ग, आर्थिक रूप से पिछड़ा (बीपीएल), ऋण, दिव्यांग/विकलांग.

बिहार सरकार ने प्रमुख ७ निश्चय  कार्यक्रम के तहत राज्य के छात्रों के लिए बिहार छात्र क्रेडिट कार्ड योजना की घोषणा की है. इस योजना के माध्यम से बिहार में उच्च शिक्षा के लिए गरीब छात्रों को वित्तीय सहयता प्रदान की जाएगी। ७ निश्चय  कार्यक्रम क्या  है? यह बिहार  राज्य के मुख्यमंत्री श्री नीतिश कुमार द्वारा बिहार के विकास • Read More »

Tags: , , , , ,

अनुसूचित जाती / जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यांक छात्रवृत्ती: पहली से बारवीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र/छात्राओं के लिए – योग्यता, आवेदन पत्र, फायदे और आवेदन की प्रक्रिया

June 18, 2018 | By hngiadmin | No Comments | Filed in: स्कुल, अंडमान व नोकोबार द्वीप समूह, अनुसूचित जाती, भारत सरकार, योजनाएं, आंध्र प्रदेश, अनुसूचित जनजाति, छात्र, खबरें, अरुणाचल प्रदेश, शिक्षा, अन्य पिछड़ा वर्ग, असम, लड़की, अधिसूचित और वंचित जनजाति, बिहार, लड़का, सामान्य वर्ग (ओपन श्रेणी), मणिपुर सरकार, छत्तीसगढ़, युवा, आदिवासी, शिष्यवृत्ती, चंडीगढ़, अल्पसंख्यक, दादरा और नगर हवेली, सामाजिक रूप से पिछड़ा वर्ग, दमन और दीव, आर्थिक रूप से पिछड़ा (बीपीएल), राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, गोवा, गुजरात, हरयाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, लक्षद्वीप, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, ओडिशा, पुडुचेरी, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, पंजाब.

Scholarship/Merit Scholarship (Class 1 to 12) (read in english) कक्षा पहली से बारवी में पढ़ने वाले अनुसूचित जाती / जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यांक के छात्रों के लिए केंद्र सरकार द्वारा छात्रवृत्ती दी जाती है| इस छात्रवृत्ति का उद्देश्य पिछड़े वर्ग का उत्थान और विकास करना और साथ ही उन्हें सामान सुविधाएं/अवसर उपलब्ध • Read More »

Tags: , , ,