ख़ुशी योजना ओडिशा:

ओडिशा सरकार ने ओडिशा राज्य के छात्राओं के लिए ख़ुशी योजना  (नि:शुल्क सैनिटरी नैपकिन / पैड वितरण योजना) शुरू की है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में किशोर लड़की छात्रों के बीच मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में जागरूकता निर्माण करना और सुधार करना है। सरकार ने इस योजना के पांच साल के कामकाज लिए ४४६ करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। ओडिशा राज्य के सरकारी और गैर-सरकारी स्कूलों में ६ वी और ७ वी कक्षा में पढ़ने वाली १७.२५ लाख लड़कियां इस योजना की लाभार्थी है।

इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य महिलाओं के स्वास्थ्य से संबंधित मुद्दों के बारे में जागरूकता बढ़ाना है और साथ ही लड़कियों की स्कूल की शिक्षा बिच में छोड़ने के दर को कम करना है।

                                                                                                               Khushi Scheme Odisha (In English):

  • ख़ुशी योजना
  • वैकाल्पिक नाम: ख़ुशी योजना / नि:शुल्क सैनिटरी नैपकिन / पैड वितरण योजना
  • राज्य: ओडिशा
  • लाभ: स्कूल की छात्राओं को हर महीने नि:शुल्क सैनिटरी पैड प्रदान किये जाएंगे।
  • लाभार्थी: ओडिशा राज्य की स्कूल की लडकिया
  • बजट: ४४६ करोड़ रुपये

पात्रता मापदंड:

  • यह योजना केवल ओडिशा राज्य में लागू है।
  • यह योजना केवल ६ वीं और ७ वीं कक्षा की छात्राओं के लिए लागू है।
  • केवल सरकारी, गैर-सरकारी सहायता प्राप्त विद्यालय, केंद्रीय विद्यालय और जवाहरलाल नवोदय विद्यालय के छात्राओं को इस योजना के तहत शामिल किया जाएंगा।

इस योजना को हाल ही में ओडिशा राज्य के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल की बैठक में मंजूरी दी गई है। नि: शुल्क सैनिटरी पैड वितरण योजना स्कूल और जन शिक्षा, अनुसूचित जनजाति और अनुसूचित जाति विकास और अल्पसंख्यक और पिछड़े वर्ग, और सामाजिक सुरक्षा और विकलांग विभागों के सशक्तिकरण द्वारा कार्यान्वित की जाएगी।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (एमकेवाई) झारखंड: लड़कियों के विवाह के लिए ३०,००० रुपये, आवेदन पत्र और आवेदन कैसे करें –  

झारखंड सरकार ने झारखंड राज्य के गरीब परिवार के लड़कियों के विवाह के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री  कन्यादान योजना (एमकेवाई) शुरू की है। यह योजना राज्य के गरीब परिवारों के लिए है। गरीब परिवारों के लड़कियों के विवाह के समय राज्य सरकार ३०,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।इस योजना का उद्देश्य राज्य के गरीब परिवारों का लड़की की शादी के बोझ को दूर करना है और यह सुनिश्चित करना है कि सही समय पर लड़कियों का विवाह हो जाये।

                                                                             Mukhya Mantri Kandyadan Yojana (MKY) (In English)

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (एमकेवाई) क्या है: राज्य के लड़कियों के लिए एक वित्तीय सहायता योजना है।बेटी की शादी के अवसर पर राज्य के गरीब परिवारों को लड़की के शादी के लिए ३०,००० रुपये दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (एमकेवाई) का उद्देश्य:

  • इस योजना के माध्यम से गरीब परिवारों के लड़की के शादी के बोझ को कम किया जाएंगा।
  • बेटी के शादी के खर्च के साथ उनकी मदत की जाएंगी।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (एमकेवाई) का लाभ:

  • यह योजना केवल झारखंड के स्थायी निवासियों के लिए लागू है।
  • यह योजना केवल उन लोगों के लिए है, जिनकी पारिवारिक की वार्षिक आय ७२,००० रुपये से कम है।
  • विवाह अनुदान केवल लड़कियों के विवाह के अवसर पर दिया जाता है / इस योजना के लिए केवल लड़कियों ही पात्र  है।
  • लड़कियों की उम्र १८ साल के अधिक होना चाहिए और लड़कों की उम्र २१ साल के अधिक होना चाहिए।
  • यह योजना केवल गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवारों के लिए लागू है।
  • यह योजना केवल लड़की के पहली शादी के लिए लागू है।
  • अनाथ लड़किया भी इस योजना के लिए पात्र है।

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (एमकेवाई) आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  • पासपोर्ट  आकार की तस्वीर
  • आधार कार्ड / मतदान कार्ड
  • जन्म प्रमाणपत्र
  • शादी की कार्ड

नोट: ये आवश्यक दस्तावेजों की मूल सूची है, यदि आवश्यक हो तो दस्तावेजों की अतिरिक्त सूची के लिए अधिकारियों से जांच कर सकते है।

 मुख्यमंत्री कन्यादान योजना (एमकेवाई)  आवेदन पत्र और आवेदन कैसे करें?

  • मुख्य मंत्री  कन्यादान योजना के लिए आवेदन पत्र डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आवेदन पत्र भरें।
  • आवेदन पत्र पर हस्ताक्षर करें या मांता और पिता के अंगूठे की छाप दें।
  • आवेदन पत्र को पंचायत, जिला परिषद या सामाजिक कल्याण कार्यालय में जमा करें।
  • सामाजिक और महिला कल्याण विभाग, झारखंड सरकार इस योजना को लागू करती है।

 

सुकन्या समृद्धि योजना (एस एस वाय): लड़कियोकी शिक्षा,शादी और भविष्य सुनिशीत करने के लिये निवेश योजना

भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदीजी ने बेटी बचाओ, बेटी पढाव अभियान के तहत जनवरी २०१५ को सुकन्या समृद्धि योजना शुरू की है। लाभार्थी को सुकन्या समृद्धि योजना के तहत  वर्तमान मे ९.२% व्याज दर प्रदान किया जाएगा। देश  का कोई  भी पोस्टकार्यालय(डाक घर) या कुछ अधिकृत व्यावसायिक बैंको मे इस योजना के तहत लाभार्थी अपना खाता खोल सकते है.

माता-पिता को उनकी बच्चे(महिला) का भविष्य और शादी का खर्च के लिए सशक्त बनाने के लिए प्रोस्ताहित करना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है। १० साल की उम्र के बाद लड़की अपने खाते को संचालित कर सकती है और १८ साल की उम्र के बाद ५०% राशि वापसी की अनुमति दी जाती है। लड़की की उम्र २१ साल होने पर बैंक खाता परिपक्व हो जाता है और खाता बंद नही किया तो प्रचलित दर से व्याज प्रदान किया जाएगा। महिला की उम्र १८ साल के उपर होने पर महिलाने शादी  करली तो बैंक खाते को सामान्य समापन दिया जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना के लाभ:

  • लाभार्थी को जमा राशि पर ९.२% का आकर्षित व्याज दर दिया जाएगा
  • सुकन्या समृद्धि योजना इनकम टैक्स छूट निवेश खंड ८० सी के तहत लाभार्थी को आयकर से छूट दी जाएगी। इसका मतलब यह की उम्मीदवार ने  सुकन्या समृद्धि योजना के माध्यम से जमा की गयी राशि पर उम्मीदवार को कर(टैक्स) भुगतान करने की कोई जरुरत नही है।
  • वापसी की सुविधा: १० साल की उम्र के बाद लड़की अपने खाते को संचालित कर सकती है।लड़की के १८ साल की उम्र के बाद उच्च शिक्षा के लिए ५०% राशि निकालने की अनुमति दी जाती है। खाता महिला के  २१ साल की उम्र मे परिपक्व हो जाता है और खाता बंद नही किया तो लाभार्थी को प्रचलित व्याज दर प्रदान किया जाएगा। महिला की उम्र १८ साल के उपर होने महिलाने शादी  करली तो बैंक खाते को सामान्य समापन दिया जाएगा।

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ लेने के लिए पात्रता:

  • बालिका का  १० साल की उम्र तक प्राकृतिक या अभिभावक द्वारा खाता खोला जा सकता  है
  • जमाकर्ता इस योजना के तहत बालिकाओं के नाम पर केवल एक ही खाता खोल सकता है और एक ही खाते को संचालित कर सकता है
  • अभिभावक द्वारा केवल २ ही बालिका के खाते खोलने की अनुमति दी जाती है और अगर जुडवां लडकियों का जन्म होने     पर  तीसरा खाता खोलने की अनुमति दी जाती है
  • खाते मे १ रुपये से ५०,००० रुपये अधिकतम राशि प्रति वर्ष जमा कर सकते है
  • खाता खोलने के लिए खाते मे न्यूनतम १०० रुपये जमा करने होगे और योजना का लाभ उठाने के लिए १००० रूपये प्रति वर्ष खाते मे जमा करना अनिवार्य है

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ लेने के लिए  आवश्यक दस्तावेज:

  • सुकन्या समृद्धि योजना का  खाता खोलने का आवेदन पत्र
  • लड़की का जन्म का प्रमाण पत्र
  • लड़की का पहचान प्रमाण पत्र
  • लड़की का निवास प्रमाण पत्र

सुकन्या समृद्धि योजना का लाभ लेने के लिए किसे संपर्क करे:

  • लाभार्थी भारतीय डाकघर मे संपर्क कर सकते है
  • लाभार्थी अधिकृत बैंक मे संपर्क कर सकते है

आधिक जानकारी के लिए कृपया यहाँ देखें: