चेनेथा बीमा, तेलंगाना

३० जुलाई, २०२१ को तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने राज्य में बुनकरों की भलाई के लिए ‘चेनेथा बीमा’ की घोषणा की। इस योजना को राज्य में लागू करने की योजना बनाई जा रही है। इस योजना के तहत सभी बुनकरों को उनका कल्याण सुनिश्चित करने के लिए बीमा कवर प्रदान किया जाएगा। इस योजना को रायथू बीमा के समान ही अंतिम रूप दिया जाएगा, जिसके तहत किसानों को ५ लाख रुपये का बीमा कवर दिया जा रहा है। इसका उद्देश्य राज्य में हथकरघा और पावरलूम बुनकरों सहित बुनकर समुदाय को लाभान्वित करना है। योजना के प्रभावी नियोजन एवं क्रियान्वयन के लिए उपाय किये जा रहे हैं। यह योजना कठिन समय में श्रमिकों के लिए फायदेमंद साबित होगी जिससे उनका स्वास्थ्य जीवन संतुलन सुनिश्चित होगा।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: चेनेथा बीमा योजना
योजना के तहत: तेलंगाना सरकार
द्वारा घोषित: मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव
घोषणा तिथि: ३० जुलाई २०२१
योजना प्रकार: बीमा योजना
लाभार्थी: राज्य में हथकरघा और पावरलूम बुनकर
लाभ: बीमा कवर
प्रमुख उद्देश्य: राज्य भर में बुनकरों का कल्याण सुनिश्चित करने के लिए

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • इस बीमा योजना का मुख्य उद्देश्य पूरे राज्य में बुनकरों की सहायता करना है।
  • इसका उद्देश्य बुनकरों को बीमा कवर प्रदान करना है।
  • इसे रायथू बीमा योजना के समान डिजाइन किया जाएगा, जिससे ५ लाख रुपये का बीमा कवर मिलेगा।
  • इसका उद्देश्य राज्य में बुनकरों के स्वास्थ्य और जीवन संतुलन को सुनिश्चित करना है।
  • यह बुनकरों के कल्याण के उद्देश्य से समुदाय को लाभान्वित करता है।
  • यह लंबे समय में बुनकरों को स्वास्थ्य और सामाजिक सुरक्षा प्रदान करता है।

प्रमुख बिंदु:

  • चेनेथा बीमा की घोषणा तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने ३० जुलाई, २०२१ को की।
  • यह योजना एक बीमा योजना है जो मुख्य रूप से राज्य में बुनकरों के कल्याण को सुनिश्चित करने के लिए बनाई गई है।
  • इस योजना के तहत लाभार्थियों को बीमा कवर प्रदान किया जाएगा।
  • इसका उद्देश्य स्वास्थ्य और जीवन संतुलन बनाए रखना है।
  • सभी हथकरघा और पावरलूम बुनकरों को इस योजना के तहत कवर किया जाएगा।
  • यह योजना रायथु बीमा के अनुरूप तैयार की जाएगी जिसमें लाभार्थियों को ५ लाख रुपये का बीमा कवर प्रदान किया जाता है।
  • दलित समुदाय के सशक्तिकरण की योजना दलित बंधु के विपरीत, राज्य सरकार ने अब राज्य में बुनकरों के कल्याण के लिए इस महत्वाकांक्षी योजना की घोषणा की है।
  • सीएम ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों से चेनेथा बीमा के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए जल्द ही एक प्रणाली तैयार करने को कहा।
  • तदनुसार, योजना शुरू की जाएगी।
  • यह योजना राज्य में बुनकरों की भलाई सुनिश्चित करेगी।

दलित बीमा, तेलंगाना

२६ जुलाई, २०२१ को मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने राज्य के सभी दलित परिवारों के लिए योजना बनाई जा रही ‘दलित बीमा’ योजना की घोषणा की। तेलंगाना सरकार राज्य में दलित कल्याण सुनिश्चित करने के लिए इस योजना की योजना बना रही है। दलित सशक्तिकरण के लिए दलित बंधु योजना की घोषणा के बाद, इस योजना का उद्देश्य अनुसूचित जाति के लोगों की सुरक्षा और कल्याण सुनिश्चित करना है। इस योजना के तहत राज्य सरकार राज्य के सभी दलित परिवारों को ५ लाख रुपये का बीमा कवरेज प्रदान करती है। लोगों को यह बीमा कवर मुफ्त दिया जाएगा। यह अनुसूचित जातियों के लोगों के अच्छे स्वास्थ्य और कल्याण को बनाए रखने में सक्षम होगा जिससे उनका सामाजिक कल्याण सुनिश्चित होगा।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: दलित बीमा
योजना के तहत: तेलंगाना सरकार
द्वारा घोषित: मुख्यमंत्री, के चंद्रशेखर राव
लाभार्थी: राज्य भर में अनुसूचित जाति के लोग
लाभ: दलित परिवारों को ५ लाख रुपये का बीमा कवर
प्रमुख उद्देश्य: अनुसूचित जाति के लोगों को बीमा कवर प्रदान करना जिससे उनकी भलाई सुनिश्चित हो सके।

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य अनुसूचित जाति के लोगों को मुफ्त बीमा कवर प्रदान करना है।
  • दलित परिवारों को ५ लाख रुपये का बीमा कवर प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना का उद्देश्य लाभार्थियों को सामाजिक कल्याण प्रदान करना है।
  • इसका उद्देश्य समाज में लाभार्थियों का उत्थान और सामाजिक सुरक्षा करना भी है।
  • यह योजना राज्य के सभी दलित परिवारों के जीवन और स्वास्थ्य संतुलन को सुनिश्चित करेगी।
  • यह लंबे समय में लाभार्थी परिवारों के जीवन जीने के तरीके को बेहतर बनाने में योगदान देगा।

प्रमुख बिंदु:

  • दलित बीमा राज्य में दलित समुदाय के कल्याण के लिए तेलंगाना सरकार द्वारा योजना बनाई जा रही एक नई योजना है।
  • मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने २६ जुलाई, २०२१ को इस संबंध में घोषणा की।
  • यह योजना राज्य में अनुसूचित जाति के लोगों को कवर करेगी।
  • इस योजना के तहत प्रत्येक दलित परिवार को ५ लाख रुपये का मुफ्त बीमा कवर प्रदान किया जाएगा।
  • इस बीमा का प्रीमियम राज्य सरकार द्वारा वहन किया जाएगा।
  • इसका उद्देश्य लाभार्थियों की बेहतरी करना है।
  • इसका उद्देश्य लाभार्थियों का समग्र विकास करना भी है।
  • सभी लाभार्थियों को कवर करने के लिए राज्य सरकार द्वारा योजना कार्यान्वयन पर गंभीरता से ध्यान दिया जाएगा।
  • इससे राज्य में अनुसूचित जाति के लोगों की सामाजिक सुरक्षा में सुधार होगा।
  • दलित बीमा के विपरीत, दलित बंधु भी दलित सशक्तिकरण के लिए घोषित योजना में से एक है, जिसमें राज्य सरकार प्रत्येक पात्र लाभार्थियों को स्वरोजगार के अवसर लेने और जीविकोपार्जन के लिए प्रोत्साहित करने के लिए १० लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करती है।
  • राज्य सरकार राज्य में दलित समुदाय के समग्र विकास के लिए विभिन्न सामूहिक प्रयास कर रही है।

नेतन्ना कू चेयुता योजना, तेलंगाना

१५ जून, २०२१ को तेलंगाना सरकार ने नेतन्ना कू चेयुता योजना को फिर से शुरू करने का फैसला किया। कपड़ा मंत्री के टी रामाराव की अध्यक्षता में हथकरघा और कपड़ा विभाग की समीक्षा बैठक में यह निर्णय लिया गया। यह राज्य में बुनकरों के लिए वर्ष २०१७ में शुरू की गई बचत योजना है। अब इस योजना का विस्तार हथकरघा बुनकरों, रंगरों, डिजाइनरों, वाइन्डरों और अन्य सहायक कामगारों तक किया जा रहा है। इस योजना के तहत, राज्य सरकार इस बचत योजना में १६% का योगदान देगी और कार्यकर्ता ८% की हिस्सेदारी का योगदान देगा। यह योजना कठिन समय में श्रमिकों के लिए अति लाभकारी थी और इस प्रकार योजना की सफलता को देखते हुए इस वर्ष के लिए भी योजना का विस्तार किया जा रहा है जिससे लाभार्थियों का कल्याण सुनिश्चित हो सके।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: नेतन्ना कू चेयुता योजना
योजना के तहत: तेलंगाना सरकार
लॉन्च वर्ष: २०१७
पुन: लॉन्च तिथि: १५ जून २०२१
योजना प्रकार: बचत योजना
लाभार्थी: राज्य के बुनकर, रंगकर्मी, डिजाइनर, वाइन्डर और सहायक कर्मचारी
लाभ: लाभार्थी द्वारा वेतन का ८% अंशदान करने पर राज्य सरकार द्वारा वेतन का १६% अंशदान
प्रमुख उद्देश्य: राज्य भर में बुनकरों, रंगाई करने वालों, सहायक श्रमिकों और अन्य लाभार्थियों को सहायता प्रदान करने के लिए

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • बचत योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य भर में बुनकरों और अन्य सहायक श्रमिकों का समर्थन करना है।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार इस बचत योजना में १६% का योगदान देगी और कार्यकर्ता ८% का योगदान देगा।
  • इस योजना में राज्य के सभी बुनकरों, रंगरों, डिजाइनरों, वाइन्डरों और सहायक कामगारों को शामिल किया गया है।
  • इसका उद्देश्य मुश्किल समय में लाभार्थियों की मदद करना है।
  • यह उन्हें भविष्य के लिए योजना बनाने में मदद करता है।
  • यह योजना राज्य भर में लाभार्थियों को सामाजिक और वित्तीय सुरक्षा प्रदान करती है जिससे उनका कल्याण सुनिश्चित होता है।

प्रमुख बिंदु:

  • नेतन्ना कू चेयुता योजना राज्य सरकार द्वारा वर्ष २०१७ में शुरू की गई एक योजना है।
  • कपड़ा मंत्री केटी रामाराव की अध्यक्षता में कपड़ा विभाग की समीक्षा बैठक में १५ जून, २०२१ को तेलंगाना सरकार ने राज्य के सभी बुनकरों, रंगकर्मियों, डिजाइनरों, वाइन्डरों और सहायक श्रमिकों के लिए इस वर्ष योजना का विस्तार करने का निर्णय लिया है।
  • यह सरकार द्वारा शुरू की गई एक बचत योजना है।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार इस बचत योजना में १६% का योगदान देगी और कार्यकर्ता ८% का योगदान देगा।
  • यह योजना लाभार्थियों को मुश्किल समय में मदद करती है और भविष्य के लिए योजना बनाती है।
  • शुरुआत में यह योजना केवल समाज के बुनकरों को कवर करती थी लेकिन अब यह योजना राज्य में हथकरघा बुनकरों, रंगाई करने वालों, डिजाइनरों, वाइन्डरों और सहायक श्रमिकों के लिए लागू है।
  • यह लाभार्थियों की वित्तीय और सामाजिक सुरक्षा सुनिश्चित करता है जिससे उनका कल्याण सुनिश्चित होता है।
  • अब तक लाभार्थियों को १०९ करोड़ रुपये का समग्र लाभ प्रदान किया गया है।
  • योजना के तहत लगभग २५००० बुनकरों और १०००० पावरलूम कामगारों को लाभ होगा।

आसरा पेंशन योजना, तेलंगाना

आसरा पेंशन योजना राज्य में वृद्ध, विधवाओं, ताड़ी निकालने वालों, बुनकरों, बीड़ी श्रमिकों, विकलांगों, फाइलेरिया और एचआईवी मरीजों की सामाजिक सुरक्षा और कल्याण के लिए तेलंगाना सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है। यह योजना राज्य भर में इन कमजोर समूहों को हर महीने वित्तीय सहायता प्रदान करती है। यह योजना इन लोगों को सम्मान के साथ सामाजिक रूप से सुरक्षित जीवन जीने में मदद करेगी। यह उन्हें उनकी दैनिक जरूरतों को पूरा करने और आगे एक शांतिपूर्ण जीवन जीने में मदद करेगी। इस योजना के तहत लाभ प्राप्त करने के लिए आवेदक आधिकारिक वेबसाइट @aasara.telangana.gov.in पर पंजीकरण और आवेदन कर सकता है। ऑफलाइन आवेदन संबंधित इलाकों के सेवा केंद्रों/निगमों में भी किए जा सकते हैं। यह योजना वास्तविक आवश्यकता में कमजोर वर्गों को मुख्य सहायता प्रदान करेगी।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: आसरा पेंशन योजना
योजना के तहत: तेलंगाना सरकार
लॉन्च वर्ष: २०१४
लाभार्थी: राज्य में बुजुर्ग, विधवाएं, ताड़ी निकालने वाले, बुनकर, बीड़ी मजदूर, विकलांग, फाइलेरिया और एचआईवी के मरीज
लाभ: मासिक पेंशन के माध्यम से वित्तीय सुरक्षा
संशोधित पेंशन राशि:
  • विकलांग व्यक्तियों के लिए – रु. ३,०००/- प्रति माह
  • अन्य सभी के लिए – रु. २,०००/- प्रति माह
प्रमुख उद्देश्य: राज्य भर में कमजोर वर्गों को वित्तीय और सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के लिए।
आधिकारिक वेबसाइट: aasara.telangana.gov.in

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य भविष्य के लिए योजना बनाना है।
  • इस योजना का उद्देश्य राज्य में कमजोर वर्गों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करना है।
  • राज्य के सभी वृद्ध, विधवाएं, ताड़ी निकालने वाले, बुनकर, बीड़ी मजदूर, विकलांग, फाइलेरिया और एचआईवी मरीज इस योजना के अंतर्गत आते हैं।
  • सरकार ने पेंशन की राशि बढ़ाकर विकलांग व्यक्तियों के लिए प्रति माह रु. ३,००० और अन्य सभी श्रेणियों के लिए प्रति माह रु. २,०००।
  • यह योजना वित्तीय सुरक्षा प्रदान करेगी इस योजना के तहत कमजोर वर्गों को वित्तीय सुरक्षा प्रदान की जाएगी जिससे उनका कल्याण सुनिश्चित होगा।

पात्रता:

  • योजना का लाभ लेने के लिए आवेदन करने वाला व्यक्ति राज्य का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • यह योजना पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए लागू है।
  • बुजुर्ग / वृद्ध वर्ग के लिए आवेदक की आयु ६५ वर्ष या उससे अधिक होनी चाहिए। एक परिवार में केवल १ पेंशन लागू है, ऐसे मामलों में महिला आवेदकों को वरीयता दी जाएगी।
  • विधवा वर्ग के लिए आवेदक की आयु १८ वर्ष से अधिक होनी चाहिए और वह आदिम और कमजोर जनजातीय समूह से संबंधित होना चाहिए।
  • ताड़ी टैपर/बुनाई श्रेणी के लिए आवेदक की आयु ५० वर्ष से अधिक होनी चाहिए और ग्रामीण/शहरी क्षेत्रों में ताड़ी टैपिंग/बुनाई के पेशे में होना चाहिए।
  • विकलांग/एचआईवी मरीजों की श्रेणी के लिए किसी भी आयु वर्ग के आवेदक पात्र होंगे।

आवश्यक दस्तावेज़:

  • आधार कार्ड
  • आयु प्रमाण
  • पते का सबूत
  • आय प्रमाण पत्र
  • मृत्यु प्रमाण पत्र (विधवाओं के मामले में) / टोडी टैपर या बुनकरों की सहकारी समिति में पंजीकरण की जेरोक्स प्रतियां / सदरम प्रमाण पत्र (विकलांगों के लिए)
  • बैंक खाता
  • पासपोर्ट साइज फोटो
  • मोबाइल नंबर

आवेदन प्रक्रिया:

  • ऑफलाइन आवेदन करते समय आवेदक वेबसाइट से फॉर्म डाउनलोड कर सकता है।
  • इसे भरें, दस्तावेज संलग्न करें और इसे क्रमशः ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में लागू ग्राम राजस्व कार्यालय / ग्राम पंचायत कार्यालय या बिल कलेक्टर कार्यालय में जमा करें।
  • फॉर्म और दस्तावेजों की जांच और सत्यापन के बाद आवेदक को पेंशन की सुविधा जारी की जाएगी।
  • ऑनलाइन आवेदन करते समय आवेदक को सबसे पहले ग्रेटर वारंगल नगर निगम की वेबसाइट @gwmc.gov.in पर जाना होगा।

  • पेंशन आवेदन के बाद ऑनलाइन आवेदन अनुभाग तक स्क्रॉल करें।
  • मोबाइल नंबर दर्ज करें और ओटीपी के माध्यम से उसी का सत्यापन करवाएं।
  • नाम, आधार संख्या, इलाके, लिंग, जाति, पता, आयु, आदि जैसे आवश्यक विवरण भरें।
  • आवश्यक दस्तावेज अपलोड करें और सबमिट करें।
  • फिर आवेदक को आवेदन और पेंशन की स्थिति की जांच के लिए आधिकारिक आसरा वेबसाइट @aasara.telangana.gov.in पर जाना होगा।

  • त्वरित खोज टैब पर क्लिक करें और पेंशनभोगी विवरण खोजें विकल्प चुनें।
  • आईडी, जिला, मंडल, पंचायत, नाम और परिवार के मुखिया जैसा लागू हो दर्ज करें और खोज पर क्लिक करें।
  • आवेदक भविष्य के संदर्भ के लिए फॉर्म का प्रिंटआउट भी ले सकते हैं।

कल्याण लक्ष्मी/शादी मुबारक योजना, तेलंगाना

तेलंगाना सरकार ने तेलंगाना राज्य में अल्पसंख्यक परिवारों में दुल्हनों को सहायता प्रदान करने के लिए ‘कल्याण लक्ष्मी / शादी मुबारक’ नाम से एक नई योजना शुरू की। कल्याण लक्ष्मी हिंदू अल्पसंख्यक दुल्हनों के लिए है और शादी मुबारक मुस्लिम समुदाय से संबंधित दुल्हनों के लिए है। यह योजना सरकार द्वारा वर्ष २०१४ में राज्य में महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए शुरू की गई है। इस पहल के तहत अल्पसंख्यक लड़कियों को विवाह के समय १,००,११६/- रुपये की एकमुश्त वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी। अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/बीसी/ईबीसी की सभी दुल्हनें कल्याण लक्ष्मी पाठकम के तहत कवर की जाएंगी और मुस्लिम समुदाय की सभी दुल्हनें शादी मुबारक के तहत कवर की जाएंगी। योजना के तहत वित्तीय सहायता की राशि सीधे बैंक हस्तांतरण के माध्यम से लाभार्थी की माताओं के बैंक खाते में प्रदान की जाएगी। लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थियों को आधिकारिक पोर्टल @telanganaepass.cgg.gov.in पर अपना पंजीकरण कराना आवश्यक है। यह योजना महिलाओं को स्वतंत्र बनाती है और उन्हें सशक्त बनाती है।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: कल्याण लक्ष्मी/शादी मुबारक
योजना के तहत: तेलंगाना सरकार
लॉन्च वर्ष: २०१४
मुख्य लाभार्थी: राज्य में एससी / एसटी / बीसी / ईबीसी / मुस्लिम समुदायों की दुल्हनें
लाभ: १,००,११६/- रुपये की वित्तीय सहायता
प्रमुख उद्देश्य: अल्पसंख्यक समुदाय की लड़कियों की भलाई के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करना जिससे उन्हें सशक्त बनाया जा सके
आधिकारिक वेबसाइट: telanganaepass.cgg.gov.in

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य अल्पसंख्यक समुदायों की लड़कियों को सहायता प्रदान करना है।
  • यह दुल्हनों को उनकी शादी के लिए प्यार और सहायता का प्रतीक है
  • १,००,११६/- रुपये की वित्तीय सहायता सीधे दुल्हन की मां के संबंधित बैंक खातों में प्रदान किया जाएगा।
  • यह योजना उन माता-पिता की मदद करेगी जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं और आर्थिक तंगी के कारण अपनी बेटी की शादी की व्यवस्था करने की अपनी इच्छा को पूरा नहीं कर सकते हैं।
  • यह राज्य में महिला आबादी की आर्थिक स्थिति में सुधार करेगा जिससे वे स्वतंत्र और सशक्त बनेंगी।

पात्रता:

  • दुल्हन केवल तेलंगाना राज्य की निवासी होनी चाहिए।
  • वधू को क्रमश १८ वर्ष की कानूनी आयु प्राप्त होनी चाहिए।
  • उसे निर्धारित अनुसार अल्पसंख्यक समुदाय से होना चाहिए।
  • अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति/बीसी(शहरी)/ईबीसी (शहरी) और मुस्लिम समुदायों के लिए निर्धारित कुल आय सीमा रु. २,००,०००/- प्रति वर्ष हैं।
  • बीसी (ग्रामीण)/ईबीसी (ग्रामीण) समुदायों के लिए निर्धारित कुल आय सीमा रु. १,५०,०००/- प्रति वर्ष हैं।

आवश्यक दस्तावेज़:

  • आधार कार्ड
  • आयु प्रमाण
  • जाति प्रमाण पत्र
  • विवाह प्रमाणपत्र की प्रति
  • दुल्हन की मां के बैंक खाते का विवरण
  • दुल्हन की पासपोर्ट साइज फोटो

आवेदन कैसे करें:

  • आवेदक को आधिकारिक वेबसाइट @telanganaepass.cgg.gov.in पर जाना होगा।

  • होम पेज पर कल्याण लक्ष्मी/शादी मुबारक अनुभाग लिंक तक स्क्रॉल करें।
  • कल्याण लक्ष्मी/शादी मुबारक के लिए पंजीकरण टैब पर क्लिक करें।

  • तदनुसार, पंजीकरण फॉर्म प्रदर्शित किया जाएगा।
  • पात्रता के लिए विवरण भरें जैसे, नाम, पिता का नाम, आधार संख्या, जाति, उप जाति, आय, योग्यता, पता, बैंक खाता विवरण, दूल्हे का विवरण, विवाह विवरण, आदि।

  • आवश्यक दस्तावेज निर्धारित प्रारूप और आकार में अपलोड करें।
  • दिए गए कोड को दर्ज करें और सबमिट पर क्लिक करें।
  • फॉर्म के सत्यापन के बाद इसे स्वीकृत किया जाएगा और वित्तीय सहायता की राशि दुल्हन की मां के बैंक खाते में स्थानांतरित कर दी जाएगी।
  • आवेदक प्रिंट/स्थिति टैब पर क्लिक करके फॉर्म की स्थिति की जांच कर सकता है।
  • यूआईडी और फोन नंबर दर्ज करें और स्थिति प्राप्त करें/प्रिंट पर क्लिक करें।

  • आवेदक प्रपत्र विवरण को संपादित भी कर सकता है या संपादित/अपलोड विकल्प पर क्लिक करके आवश्यकतानुसार कोई भी दस्तावेज अपलोड कर सकता है।

  • बैंक प्रेषण विवरण को उसी वेबसाइट से भी ट्रैक किया जा सकता है।
  • किसी भी मुद्दे या शिकायत के मामले में भी दर्ज किया जा सकता है।
  • शिकायत विकल्प पर क्लिक करें और विवरण दर्ज करें।
  • सबमिट पर क्लिक करें। शिकायत की स्थिति को भी ट्रैक किया जा सकता है।
  • पोर्टल का उपयोग करते समय किसी भी तकनीकी कठिनाई के मामले में आवेदक ०४०-२३१२०३११ पर संपर्क कर सकता है और सामान्य कठिनाइयों के लिए आवेदक ०४०-२३३९०२२८ पर संपर्क कर सकता है।
  • आवेदक सहायता के लिए telanganaepass@cgg.gov.in पर ईमेल भी कर सकते हैं।

केसीआर किट योजना, तेलंगाना

तेलंगाना राज्य सरकार ने राज्य भर में गर्भवती महिलाओं के लिए केसीआर किट योजना शुरू की। यह योजना वर्ष २०१७ में शुरू की गई थी। यह योजना राज्य में गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सरकारी अस्पताल में २ प्रसव तक लागू है। इस योजना के तहत, गर्भवती महिला को ३ चरणों में १२,००० रुपये की वित्तीय सहायता और बच्ची को जन्म देने की स्थिति में अतिरिक्त १,००० रुपये दिए जाएंगे। लाभार्थी महिलाओं को वित्तीय सहायता के अलावा केसीआर किट प्रदान की जाएगी। इस किट में मां के साथ-साथ उसके बच्चे के लिए आवश्यक वस्तुएं जैसे साबुन, मच्छरदानी, बेबी ऑयल, नैपकिन, डायपर आदि शामिल हैं। योजना का लाभ पाने के लिए महिलाओं को आधिकारिक सरकारी योजना पोर्टल @kcrkit.telangana.gov.in पर अपना पंजीकरण कराना चाहिए। इस योजना का उद्देश्य सरकारी अस्पतालों में अधिक प्रसव को प्रोत्साहित करना और साथ ही राज्य में कन्या भ्रूण हत्या के मामलों को कम करना है। यह माँ के साथ-साथ बच्चे के कल्याण को सुनिश्चित करता है।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: केसीआर किट योजना
योजना के तहत: तेलंगाना सरकार
लॉन्च की तारीख: जून ४, २०१७
लाभार्थी: सरकारी अस्पतालों में प्रसव कराने वाली गर्भवती महिलाएं
लाभ: गर्भवती महिला को ३ चरणों में १२,००० रुपये की वित्तीय सहायता, बच्ची को जन्म देने की स्थिति में अतिरिक्त १,००० रुपये और आवश्यक वस्तुओं वाले केसीआर किट दिए जाएंगे।
प्रमुख उद्देश्य: राज्य भर में गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को सहायता प्रदान करना और उनकी भलाई सुनिश्चित करना।
आधिकारिक वेबसाइट: kcrkit.telangana.gov.in

उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य मातृ महिलाओं की उचित देखभाल को बढ़ावा देना है।
  • इसका उद्देश्य मां और बच्चे की भलाई सुनिश्चित करना है।
  • इस योजना के तहत, गर्भवती महिला को ३ चरणों में १२,००० रुपये की वित्तीय सहायता और बच्ची को जन्म देने की स्थिति में अतिरिक्त १,००० रुपये दिए जाएंगे।
  • लाभार्थी महिलाओं को वित्तीय सहायता के अलावा केसीआर किट प्रदान की जाएगी। इस किट में मां के साथ-साथ उसके बच्चे के लिए आवश्यक वस्तुएं जैसे साबुन, मच्छरदानी, बेबी ऑयल, नैपकिन, डायपर आदि शामिल होंगे।
  • इसका उद्देश्य शिशु मृत्यु दर और कन्या भ्रूण हत्या दर को कम करना है।
  • इसका उद्देश्य सरकारी अस्पतालों में प्रसव को प्रोत्साहित करना भी है।
  • यह योजना मां और उसके बच्चे की उचित देखभाल सुनिश्चित करेगी और उनकी भलाई सुनिश्चित करेगी।

केसीआर किट में शामिल आइटम:

  • माँ और बच्चे के लिए उपयोगी साबुन
  • बच्चों की मालिश का तेल
  • मच्छरदानी
  • शैम्पू
  • पाउडर
  • डायपर
  • नैपकिन
  • तौलिए
  • कपड़े
  • साड़ी
  • हैंड बैग
  • बच्चों के लिए खिलौने

पात्रता:

  • आवेदक तेलंगाना का स्थायी निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक गर्भवती महिला/स्तनपान कराने वाली मां होनी चाहिए।
  • आवेदक को तेलंगाना के सरकारी अस्पताल में प्रसव कराना चाहिए।
  • २ प्रसव तक की गर्भवती महिलाओं को योजना के तहत कवर किया जाएगा।

आवेदन कैसे करें:

केसीआर किट योजना के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • आधिकारिक योजना पोर्टल @ kcrkit.telangana.gov.in पर जाएं।

  • होम पेज पर लॉगिन विकल्प पर क्लिक करें।
  • उपयोगकर्ता नाम, पासवर्ड दर्ज करें और दिए गए अनुसार कैप्चा कोड दर्ज करें।
  • साइन इन पर क्लिक करें।
  • अगले पेज पर आधार/मदर आईडी वेरीफाई करवाएं।
  • और नए पंजीकरण के साथ शुरू करें।
  • नाम, पति का नाम, पंजीकरण की तिथि, डिलीवरी की अपेक्षित तिथि, स्थान विवरण, बैंक विवरण, मोबाइल नंबर, समुदाय आदि जैसे विवरण के साथ प्रदर्शित पंजीकरण फॉर्म भरें।
  • पिछले वितरण विवरण दर्ज करें (यदि कोई हो) ।
  • एएनसी विवरण, वितरण विवरण भरें और अपडेट विकल्प पर क्लिक करें।
  • बच्चे के विवरण जैसे लिंग, जन्म तिथि, वजन, ऊंचाई, रक्त समूह, आदि दर्ज करें और सबमिट करें।
  • फिर फॉर्म का सत्यापन किया जाएगा और तदनुसार पात्रता के अनुसार स्वीकृत होने के बाद रुपये १२,००० की वित्तीय सहायता राशि सीधे लाभार्थी के बैंक खाते में जमा की जाएगी।
  • बच्ची को जन्म देने के मामले में १,००० रुपये के अतिरिक्त राशि जमा की जाएगी।

आवश्यक दस्तावेज़:

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • एलएमपी विवरण
  • बैंक खाता विवरण
  • वैध मोबाइल नंबर

प्रमुख बिंदु:

  • राज्य में गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली माताओं को सहायता प्रदान करने के लिए तेलंगाना सरकार द्वारा केसीआर किट योजना शुरू की गई है।
  • यह योजना वर्ष २०१७ में शुरू की गई थी।
  • यह राज्य में गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सरकारी अस्पताल में २ प्रसव तक लागू है।
  • इस योजना के तहत, गर्भवती महिला को ३ चरणों में १२,००० रुपये की वित्तीय सहायता और बच्ची को जन्म देने की स्थिति में अतिरिक्त १,००० रुपये दिए जाएंगे।
  • लाभार्थी महिलाओं को वित्तीय सहायता के अलावा केसीआर किट प्रदान की जाएगी।
  • किट में शामिल सभी वस्तुएँ प्रसव के बाद माँ के स्वास्थ्य के लिए उपयोगी होने के साथ-साथ ३ महीने तक के बच्चे के पालन-पोषण के लिए भी उपयोगी होंगी।
  • लाभ प्राप्त करने के लिए, महिला को आधिकारिक पोर्टल पर अपना पंजीकरण कराना आवश्यक है या पंजीकरण के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य केंद्र पर जाना आवश्यक है।
  • इस योजना का उद्देश्य सरकारी अस्पतालों में अधिक प्रसव को प्रोत्साहित करने के साथ-साथ राज्य में कन्या भ्रूण हत्या के मामलों को कम करना है।
  • यह महिला और उसके बच्चे की भलाई सुनिश्चित करेगा।

“केसीआर अपतबंधु” योजना, तेलंगाना

तेलंगाना सरकार राज्य में अधिकांश पिछड़ा वर्ग (एमबीसी) के समग्र विकास के लिए “केसीआर अपतबंधु” नामक एक नई योजना शुरू करने वाली है। इसे तेलंगाना राज्य पिछड़ा वर्ग (बीसी) निगम द्वारा लागू किया जाएगा। यह योजना राज्य में मोस्ट बैकवर्ड क्लास के अंतर्गत आने वाली सभी जातियों के लोगों की स्थितियों के समग्र विकास को सक्षम करेगी। लोगों को अपना जीवन यापन करने और उनके जीवन स्तर को सुधारने में सक्षम बनाने के लिए प्रयास किए जाएंगे। इसका उद्देश्य उन्हें बेहतर सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि के साथ आत्मनिर्भर बनाना है। इस वित्तीय वर्ष में राज्य में पिछड़े वर्गों के समग्र उत्थान और कल्याण के लिए ५,५०० करोड़ आवंटित किये है।

योजना का अवलोकन:

योजना का नाम: केआरसी अपतबंधु योजना, तेलंगाना
के तहत योजना: तेलंगाना सरकार
द्वारा घोषित किया गया: बीसी कल्याण मंत्री, गंगुला कमलाकर
लाभार्थी: राज्य भर में अधिकांश पिछड़े वर्गों (एमबीसी) के अंतर्गत आने वाली सभी जातियों के लोग
लाभ: लाभार्थियों का समग्र विकास
प्रमुख उद्देश्य: अधिकांश पिछड़े वर्गों (एमबीसी) से संबंधित लोगों को सशक्त बनाने के लिए उन्हें वित्तीय और सामाजिक स्थिरता प्रदान करना

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य अधिकांश पिछड़े वर्गों से संबंधित लोगों को सशक्त बनाना है
  • इस योजना का उद्देश्य लाभार्थियों को वित्तीय और सामाजिक स्थिरता प्रदान करना है
  • इसका उद्देश्य समाज में लाभार्थियों के उत्थान के लिए भी है
  • इसमें उनके लिए रोजगार, स्वरोजगार के अवसर और सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के विभिन्न उपाय शामिल होंगे
  • रोजगार के लिए, युवाओं को एम्बुलेंस प्रदान की जाएगी और अस्पतालों के साथ जोड़ा जाएगा, महिलाओं को सिलाई मशीन प्रदान की जाएगी, जिससे जीवन की गुणवत्ता पर ध्यान दिया जाएगा
  • इससे राज्य में अनुसूचित जातियों के लाभार्थियों और उनके परिवारों के रहने का तरीका बेहतर होगा

प्रमुख बिंदु:

  • तेलंगाना सरकार राज्य में अधिकांश पिछड़े वर्गों (एमबीसी) से संबंधित लोगों के लिए ‘केआरसी अपतबंधु’ नामक एक नई योजना लेकर आई है।
  • योजना की घोषणा कुछ समय पहले बीसी कल्याण मंत्री, गंगुला कमलाकर द्वारा की गई थी
  • इस योजना में राज्य के अधिकांश पिछड़े वर्ग के अंतर्गत आने वाली सभी जातियों के लोग शामिल हैं
  • इसका उद्देश्य लाभार्थियों के कल्याण और कल्याण के लिए उन्हें सशक्त बनाना है
  • इस योजना के तहत राज्य में अनुसूचित जातियों के लोगों के उत्थान के लिए उपाय किए जाएंगे
  • यह लाभार्थियों के समग्र विकास का लक्ष्य रखेगा
  • यह योजना राज्य में लाभार्थियों को रोजगार, स्व-रोजगार, सुविधाओं की बेहतरी के अवसर प्रदान करने में सक्षम होगी
  • लाभार्थियों को एक सुरक्षित बुनियादी ढांचा प्रदान करने के प्रयास किए जाएंगे
  • इस योजना के तहत, बेरोजगार युवाओं को एम्बुलेंस वितरित की जाएगी और एम्बुलेंस चालक के रूप में रोजगार के लिए राज्य के अस्पतालों से जोड़ा जाएगा।
  • फिर युवाओं को आवश्यकतानुसार अस्पताल अधिकारियों द्वारा निर्देशित और पर्यवेक्षण किया जाएगा
  • महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए सिलाई मशीन उपलब्ध कराने के लिए योजना शुरू की जाएगी
  • राज्य भर में लाभार्थी युवाओं और महिलाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने, प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए नि: शुल्क कोचिंग और कौशल विकास के लिए भी योजना शुरू की जाएगी।
  • तेलंगाना राज्य पिछड़ा वर्ग (बीसी) निगम द्वारा योजना के कार्यान्वयन पर ध्यान दिया जाएगा और सीधे मुख्यमंत्री को रिपोर्ट किया जाएगा
  • इससे राज्य में सबसे पिछड़े वर्गों (एमबीसी) से संबंधित लाभार्थियों की वित्तीय और सामाजिक स्थिरता में सुधार होगा

अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि

तेलंगाना सरकार ने राज्य के अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के छात्रों के लिए छात्रवृत्ति योजना शुरू की है जिसे अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि कहा जाता है। योजना के तहत छात्रों को विदेश में अध्ययन करने के लिए अनुदान दिया जाएंगा। तेलंगाना सरकार के समाज कल्याण विभाग ने इस योजना को लागू किया है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के छात्रों को शिक्षा के समान अवसर प्रदान करना है।

                                                                                          Ambedkar Overseas Vidhya Nidhi (In English)

अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि

  • राज्य: तेलंगाना
  • लाभ: विदेशी विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति
  • लाभार्थी: अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति श्रेणियों के छात्र
  • आधिकारिक वेबसाइट: www.telanganaepass.cgg.gov.in

लाभ:

  • छात्रों को शिक्षा शुल्क, रहने के खर्च, वीजा और इकोनॉमी क्लास एयर-टिकट के लिए १० लाख रुपये की छात्रवृत्ति
  • राष्ट्रीयकृत बैंकों से ५ लाख रुपये तक शैक्षिक ऋण

छात्रवृत्ति के लिए पात्रता:

  • यह योजना तेलंगाना राज्य के छात्रों के लिए ही लागू है।
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति श्रेणियों के छात्रों के लिए ही यह योजना लागू है।
  • आय सीमा: आवेदक की पारिवार की वार्षिक आय २.५ लाख रुपये से कम होनी चाहिए।
  • आयु सीमा: आवेदन की आयु १ जुलाई तक ३५ साल से कम होनी चाहिए।
  • शिक्षा: पात्रता परीक्षा में छात्रों को कम से कम ६०% अंक होने चाहिए।
  • एक परिवार से एक ही बच्चे को छात्रवृत्ति दी जाएगी।
  • आवेदनकर्ता के पास वैध टीओईएफएल / आईईएलटीएस और जीआरई / जीएमएटी परीक्षा का स्कोर होना चाहिए।
  • आवेदक के पास विदेशी विश्वविद्यालय प्रवेश का प्रस्ताव होना चाहिए।

आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  • स्कैन की गई तस्वीर
  • पासपोर्ट की प्रति
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • इ-पासपोर्ट पहचान पत्र का नंबर
  • निवासी प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • परिवार का आय प्रमाण पत्र
  • सभी पात्रता परीक्षा की गुण पत्रिका
  • आवेदनकर्ता के पास वैध टीओईएफएल / आईईएलटीएस और जीआरई / जीएमएटी परीक्षा का स्कोर होना चाहिए
  • विदेशी विद्यालय प्रवेश का प्रस्ताव पत्र
  • आयकर आकलन की प्रति
  • राष्ट्रीयकृत बैंक पासबुक की प्रति

पात्र देश: संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर और कनाडा आदि देश इस योजना के लिए पात्र है।

अनुसूचित जाति (एसी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के छात्रों लिए अंबेडकर प्रवासी विद्या निधि ऑनलाइन आवेदन और स्थिति कैसे जाँच करे?

  • अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि के पंजीकरण में जाने के लिए यहाँ क्लिक करें।
  • आवेदन पत्र को पूरी तरह से भरें।
  • सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करें।
  • आवेदन जमा करें और भविष्य के संदर्भ के लिए आवेदन नंबर को नोट करे।
  • आवेदन की स्थिति की जांच करने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आवेदन नंबर के साथ आवश्यक विवरण प्रदान करें और विवरण प्राप्त करें।

महात्मा ज्योतिबा फुले प्रवासी विद्या निधि योजना

तेलंगाना सरकार ने राज्य के बीसी और ईबीसी छात्रों के लिए महात्मा ज्योतिबा फुले प्रवासी विद्या निधि योजना शुरू की है। इस योजना के माध्यम से राज्य के पिछड़े एवं अतिपिछड़े छात्रों को विदेश में अध्ययन के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएंगी। राज्य के पिछड़े समुदाय के सभी छात्र इस योजना के तहत पात्र है। इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य बीसी और ईबीसी छात्रों को शिक्षा के समान अवसर प्रदान करना है। सरकार चयनित लाभार्थियों को ट्यूशन फीस, एक तरफा इकोनॉमी क्लास एयर टिकट, और वीज़ा शुल्क के लिए अनुदान प्रदान करती है।

Mahatama Jyothiba Phule Overseas Vidhya Nidhi(In English)

 महात्मा ज्योतिबा फुले प्रवासी विद्या निधि योजना

  • राज्य: तेलंगाना
  • लाभ: उच्च शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता
  • लाभार्थी: पिछड़े वर्ग के छात्र
  • आधिकारिक वेबसाइट: www.telanganaepass.gov.in

लाभ:

  • छात्रों को २० लाख रुपये तक का अनुदान दिया जाएंगा।
  • अनुदान में ट्यूशन फीस, इकोनॉमी क्लास एयर-टिकट और वीज़ा शुल्क शामिल रहेंगा।

पात्रता:

  • केवल तेलंगाना राज्य के स्थायी निवासी छात्र इस योजना के लिए पात्र है।
  • छात्रों के परिवार की वार्षिक आय ५ लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • राज्य के केवल बीसी और ईबीसी छात्रों के लिए यह योजना लागू है।
  • आवेदनकर्ता के पास वैध टीओईएफएल / आईईएलटीएस और जीआरई / जीएमएटी परीक्षा का स्कोर होना चाहिए।
  • टीओईएफएल: ८०
  • आईईएलटीएस: ६.५
  • जीआरई: २८०
  • जीएमएटी: ५५०
  • आयु सीमा: आवेदन की वर्ष १ जुलाई को कम से कम ३० साल की आयु के लिए।
  • छात्र के पास विदेशी विश्वविद्यालय का प्रवेश प्रस्ताव पत्र होना चाहिए।

आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  • परिवार का आय प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • निवासी  प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट की प्रति
  • सभी पात्रता परीक्षा की गुण पत्रिका
  • बैंक पासबुक की प्रति
  • आयकर आकलन की प्रति
  • स्कैन की गई तस्वीर
  • प्रवेश प्रस्ताव पत्र

संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, सिंगापुर, जर्मनी, न्यूजीलैंड, जापान, फ्रांस, और दक्षिण कोरिया आदि जैसे देशो के विश्वविद्यालय इस योजना का का हिस्सा है। इच्छुक छात्र इन देशों के अधिकांश मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालयों में आवेदन कर सकते है।

महात्मा ज्योतिबा फुले प्रवासी विद्या निधि योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें?

  • आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • आवेदनकर्ता खुदको  पंजीकृत करे।
  • आवेदन पत्र को पूरी तरह से भरे।
  • आवेदक तस्वीर के साथ सभी आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन की हुई प्रतियाँ अपलोड करें।
  • आवेदन पूरा करने के लिए आगे के निर्देशनों का पालन करें

महात्मा ज्योतिबा फुले प्रवासी विद्या निधि की आवेदन की स्थिति जाँच करे:

  • आवेदक अपने आवेदन स्थिति की जांच और चयनित छात्रों की सूची को ईएपीएस की आधिकारिक वेबसाइट पर ऑनलाइन देख सकते है।
  • यहां क्लिक करें और आवेदन नंबर के साथ आवश्यक विवरण दर्ज करें और विवरण प्राप्त जानकारी बटन  पर क्लिक करें।

बेरोजगारी भत्ता योजना तेलंगाना:

तेलंगाना सरकार ने २२ फरवरी २०१९  को राज्य विधानसभा में अपने बजट २०१९-२० की घोषणा की है। तेलंगाना सरकार ने बेरोजगार युवाओं के लिए एक बेरोजगारी भत्ता योजना का प्रस्ताव दिया है। राज्य के बेरोजगार युवाओं को ३,०१६ रुपये प्रति माह का बिरोजगारी भत्ता प्रदान किया जाएगा। वित्त मंत्रालय का कार्यभाल संभालने वाले तेलंगाना राज्य के मुख्यमंत्री ने बजट को पेश किया है। यह एक वोट-ऑन-अकाउंट बजट है।

राज्य के बेरोजगार युवाओं के लिए वित्तीय सहायता उन्हें खुद को बनाए रखने में मदत करेगी जबकि वे नौकरिया की तलाश भी कर सकेंगे।

                                                                   Unemployment Allowance Scheme Telangana (In English):

 बेरोजगारी भत्ता योजना तेलंगाना

  • राज्य: तेलंगाना
  • लाभ: बेरोजगारी भत्ता
  • लाभार्थी: बेरोजगार युवा

 लाभ:

  • तेलंगाना राज्य के बेरोजगार युवाओं को बिरोजगारी भत्ता प्रदान किया जाएगा।
  •  राज्य के बेरोजगार युवाओं को ३,०१६ रुपये प्रति माह का बिरोजगारी भत्ता प्रदान किया जाएगा।

पात्रता मापदंड:

  • यह योजना केवल बेरोजगार युवाओं के लिए लागू है।
  • यह योजना केवल तेलंगाना राज्य के स्थायी निवासियों के लिए लागू है।

नोट: आयु सीमा, परिवार की आय सूची और अन्य मानदंड की घोषणा की जानी बाकी है। सरकार ने सिर्फ इस योजना की घोषणा की है। योजना के औपचारिक रूप से शुरू होने के बाद तेलंगाना बेरोजगारी भत्ता योजना के लिए आवेदन पत्र और आवेदन प्रक्रिया उपलब्ध होगी।

तेलंगाना सरकार ने बेरोजगारी भत्ते के लिए १,८१० करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है। राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने बजट पेश किया है। उन्होंने कई सामाजिक कल्याण योजनाओं की घोषणा की है और विभिन्न अन्य योजनाओं के बजट में वृद्धि की है। उन्होंने रायथु बंधु योजना के साथ किसानों को दी जाने वाली वित्तीय सहायता में वृद्धि का प्रस्ताव दिया है। बजट में कृषि ऋण माफी की भी घोषणा की गई है। प्रस्तावित कृषि ऋण माफी योजना के तहत राज्य के किसानों ने ११  दिसंबर २०१८ से पहले लिए गये १ लाख रुपये तक के फसल ऋण माफ कर दिया गया है। राज्य में किसान के कर्ज माफी के लिए ६,००० करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया गया है।