जम्मू कश्मीर मतदाता सूची में अपना नाम कैसे चेक करें और सीईओ  जम्मू कश्मीर मतदाता सूची २०१९  डाउनलोड करें

जम्मू और कश्मीर के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ)  ने २०१९ के लोकसभा चुनावों की नवीनतम मतदाता सूची जारी कर दी है। जिलेवार और निर्वाचन क्षेत्रवार जम्मू और कश्मीर मतदाता सूची पीडीएफ प्रारूप में सीईओ जम्मू और कश्मीर  की आधिकारिक वेबसाइट www.ceojammukashmir.nic.in पर डाउनलोड की जा सकती है। मतदाता सीईओ की वेबसाइट पर मतदाता जम्मू-कश्मीर की मतदाता सूची में अपना नाम भी देख सकते है। मतदाता अपना मतदान केंद्र प्राप्त कर सकते है और वेबसाइट पर विभिन्न मतदाता सेवाएं भी प्राप्त कर सकते है।

                                                                   How To Check Your Name In Jammu & Kasmir (In English):

 मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) जम्मू और कश्मीर

जम्मू और कश्मीर मतदाता सूची में अपना नाम कैसे खोजे?

  • सीईओ जम्मू और कश्मीर की आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • अपना नाम खोजें  लिंक पर क्लिक करें या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करे
  • आपको चुना जाएगा और आप उस वेबसाइट पर जाएं जहां आप मतदाता विवरण और ईपीआईसी नंबर के साथ अपना नाम खोज सकते है।

खोजें मतदाता सूची: नाम, जिला, निर्वाचन क्षेत्र विवरण द्वारा मतदाता सूची में नाम की जाँच करें (स्रोत: electoralsearch.in / nvsp.in)

खोज मतदाता सूची: ईपीआईसी नंबर  / मतदाता पहचान पत्र नंबर द्वारा मतदाता सूची में नाम की जाँच करें (स्रोत: मतदाता सूची .in / nvsp.in)

  • उनमें से एक को चुनें और अपना नाम या ईपीआईसी  नंबर (मतदाता पहचान पत्र नंबर) डालें और खोज करे।
  • आपका नाम दिखाई देंगा यदि आप एक पंजीकृत मतदाता है।

डाउनलोड जम्मू और कश्मीर मतदाता सूची:

  •  जम्मू कश्मीर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पोर्टल पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • डाउनलोड निर्वाचक नामावली लिंक पर क्लिक करें या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करें

जिलेवार, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र-वार और मतदान केंद्र-वार पीडीएफ मतदाता सूची फोटो के साथ डाउनलोड करें (स्रोत: ceojk.nic.in)

  • पीएस वार रिपोर्ट और भाषा पर क्लिक करें और दिखाएं बटन  पर क्लिक करें।
  • अपने जिले, विधानसभा क्षेत्र और मतदान केंद्र का चयन करें।
  • कैप्चा दर्ज करें और प्राप्त विवरण बटन पर क्लिक करें।
  • पीडीएफ मतदाता सूची डाउनलोड हो जाएंगी।

आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी-पीएमजेएवायजेके):

जम्मू-कश्मीर सरकार ने राज्य में आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी-पीएमएवायजेके) शुरू की है। यह भारत देश के प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी मेगा स्वास्थ्य बीमा योजना है।यह योजना आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी-पीएमजेई) पर आधारित है जो राज्य के सभी गरीब परिवारों को नकद रहित उपचार प्रदान करती है। इस योजना से जम्मू-कश्मीर राज्य के ३१ लाख नागरिक लाभान्वित होंगे।

                 Ayushman Bharat – Prdhan Mantri Jan Arogya Yojana Jammu & Kashmir  (In English)

जम्मू-कश्मीर के गवर्नर सत्य पाल मलिक ने आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी-पीएमजेजेके) की शुरुआत की है। उन्होंने १ दिसंबर २०१८  को जम्मू-कश्मीर राज्य में इस योजना को शुरू किया है और योजना जिस दिन सुरु की उस दिन योजना के १० लाभार्थियों को गोल्डन कार्ड भी वितरित किये गए। इस योजना का मुख्य उद्देश्य जम्मू-कश्मीर राज्य के नागरिक अच्छी स्वास्थ्य देखभाल सेवाओं तक पहुंच सके।इस योजना के तहत राज्य के प्रत्येक गरीब परिवार को ५ लाख रुपये राशी का स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाएंगा।लाभार्थी योजना का लाभ उठाने के लिए किसी भी सूचीबद्ध सरकारी या निजी अस्पताल में जा सकते है।

आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी-पीएमजेएवायजेके): भारत देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी-पीएमजेजेजेके) पर आधारित एक गरीब स्वास्थ्य बीमा कार्यक्रम जिसके माध्यम से जम्मू कश्मीर राज्य के सभी गरीब परिवारों को नकद रहित उपचार प्रदान करने के लिए एक योजना है ।

आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी- पीएमजेएवायजेके) का लाभ:

  • जम्मू-कश्मीर राज्य के सभी गरीब परिवारों का नि:शुल्क उपचार किया जाएंगा।
  • राज्य के सभी गरीब परिवारों को  प्रति वर्ष ५ लाख तक नि:शुल्क और नकद रहित उपचार स्वास्थ्य बीमा प्रदान किया जाएंगा।

आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी- पीएमजेएवायजेके) के लिए पात्रता:

  • जम्मू-कश्मीर राज्य के सभी गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवार इस योजना के लिए पात्र है।
  • जिनके नाम सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना (एसईसीसी) -२०११ में घोषित बीपीएल सूची में है वह इस योजना के लिए पात्र है।
  • सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना -२०११ में अपना नाम देखने के लिए यहां क्लिक करें और आयुषमान भारत – प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना जम्मू-कश्मीर (एबी- पीएमजेएवायजेके) लाभार्थी सूची में अपना नाम देखने के लिए यहां क्लिक करें।

एबी-पीएमजेई अस्पतालों की सूची: नि: शुल्क उपचार पाने के लिए आप के पास आयुषमान भारत अस्पतालों की सूची ढूंढने के लिए यहां क्लिक करें। राज्य सरकार ने १४४ अस्पतालों को अब तक सूचीबद्ध किया है।

पूरे राज्य में स्वास्थ्य और कल्याण केंद्र स्थापित किये जा रहे है। आयुषमान मित्र योजना के बारे में अधिक जानकारी और योजनाओं के लाभ प्राप्त करने में लोगों की मदत करेंगे। आयुषमान मित्र पूरे राज्य में चिकिस्ता केंद्र और अस्पतालों में उपलब्ध रहेंगे।

संबंधित योजनाएं:

 

निःशक्तजन छात्रों के लिए जेके सरकार छात्रवृत्ति योजना: मेधावी विकलांग छात्रों के लिए १ लाख / वर्ष

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल श्री सत्य पाल मलिक ने निःशक्तजन छात्रों के लिए जेके सरकार छात्रवृत्ति योजना  की घोषणा की है।इस योजना के माध्यम से छात्रवृत्ति प्रत्येक वर्ष मेधावी विकलांग छात्रों को १ लाख रुपये प्रदान किये जाएंगे।इस योजना की घोषणा ३ दिसंबर यानी विकलांग व्यक्तियों के अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर की गई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य विशेष रूप से विकलांग छात्रों को सशक्त बनाना है।

                                             JK Govt Scholarship Scheme For Differently-able Students (In English)

निःशक्तजन छात्रों के लिए जेके सरकार छात्रवृत्ति योजना: राज्य के अलग ढंग से विकलांग मेधावी छात्रों के लिए जम्मू-कश्मीर सरकार द्वारा एक छात्रवृत्ति योजना है।

निःशक्तजन छात्रों के लिए जेके सरकार छात्रवृत्ति योजना का उद्देश्य:

  • निःशक्तजन छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएंगी।
  • इस योजना के माध्यम से मेधावी छात्रों को प्रोत्साहित और प्रेरित किया जाएंगा।
  • राज्य के सभी विकलांग छात्रों को बराबर अवसर प्रदान किये जाएंगे।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि विकलांग छात्रों ने अपनी पढ़ाई जारी रखी है और बिच में से पढाई नहीं छोड़ी है।

निःशक्तजन छात्रों के लिए जेके सरकार छात्रवृत्ति योजना का लाभ:

  • विकलांग मेधावी छात्रों को १ लाख रुपये की छात्रवृत्ति हर साल प्रदान की जाएंगी।

 निःशक्तजन छात्रों के लिए जेके सरकारी छात्रवृत्ति योजना के आवेदन करने के लिए पात्रता:

  • केवल जम्मू-कश्मीर राज्य के छात्रों के लिए यह योजना लागू है।
  • केवल मेधावी शारीरिक रूप से विकलांग छात्रों के लिए यह योजना लागू है।

छात्रवृत्ति छात्रों को तकनीकी, पेशेवर और व्यावसायिक प्रशिक्षण हासिल करने में मदत करेगी। शैक्षणिक विकलांग छात्रों को एक अच्छी नौकरी और सम्मानित जीवन पाने में मदत करेगी। अन्य सभी विवरण जैसे आवेदन पत्र और छात्रवृत्ति के लिए आवेदन कैसे करें अभी तक उपलब्ध नहीं है। राज्य सरकार जल्द ही छात्रवृत्ति योजना के कार्यान्वयन शुरू करेगी और सभी आवेदन विवरण प्रदान करेगी।

अन्य महत्वपूर्ण योजनाएं:

जम्मू एवं कश्मीर में योजनाओं और सब्सिडी की सूची

छात्रवृत्ति की सूची

छात्रों के लिए योजनाओं की सूची

शारीरिक रूप से विकलांग के लिए योजनाओं की सूची

 

स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) जम्मू-कश्मीर: बीपीएल लड़कियों शादी के लिए वित्तीय सहायता योजना

जम्मू-कश्मीर सरकार ने राज्य के गरीब लड़कियों की मदत के लिए स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) शुरू की है। यह गरीबी रेखा से निचे (बीपीएल) लड़कियों को उनकी शादी के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए एक सामाजिक सहायता योजना है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में गरीब परिवारों की मदद करना है जो वित्तीय बाधाओं के कारण बेटी की शादी नहीं कर सकते है। यह योजना २०१५  में शुरू की गई थी। जम्मू-कश्मीर के सामाजिक कल्याण विभाग के माध्यम से इस योजना को लागू कियागया है।

State Marriage Assistance Scheme (SMAS)

स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) क्या हैजम्मू-कश्मीर के गरीब लड़कियों की शादी के लिए  एक वित्तीय सहायता योजना।

स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) का लाभ:

  •  जम्मू-कश्मीर के गरीब लड़कियों की शादी के लिए २५,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।
  • लड़कियों की शादी के लिए ५ ग्राम सोन प्रदान किया जाता है।

 स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) के लिए पात्रता और कौन आवेदन कर सकता है:

  • योजना केवल जम्मू-कश्मीर में गरीब लड़कियों के लिए है।
  • गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवार इस योजना के लिए आवेदन कर सकते है।
  • जो परिवार लड़की की वित्तीय बाधाओं के कारण शादी नहीं कर सकते है वह इस योजना के लिए पात्र है।
  • आवेदक लड़की की उम्र १८ साल से अधिक होनी चाहिए।
  • आवेदक लड़की जो किसी भी अन्य सरकारी योजना के तहत पहले से ही समान लाभ प्राप्त कर रहे है, तो वह लड़की इस योजना के लिए पात्र नहीं है।
  • इस योजना का लाभ केवल एक बार प्राप्त किया जा सकता है।

 स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) के आवेदन के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  • दो पासपोर्ट आकार की तस्वीर
  • निवास का प्रमाण पत्र  (मतदाता आईडी / आधार कार्ड / ड्राइविंग लाइसेंस)

स्टेट मर्रिज असिस्टेंस स्कीम (एसएमएएस) के लिए आवेदन कहा करे और कैसे करें?

  • बीपीएल परिवार की पहचान डीडीसी / डीएसडब्ल्यूओ सर्वेक्षण सूची में की जानी चाहिए।
  • राज्य विवाह सहायता योजना के लिए आवेदन पत्र डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आवेदन पत्र को प्रिंट करें और आवेदन पत्र को सही तरीके से भरें।
  • एक पासपोर्ट आकार की तस्वीर पेस्ट करें और निवास प्रमाण की वास्तविक प्रति संलग्न करें।
  • निकटतम जिला समाज कल्याण कार्यालय में जाएं और आवेदन पत्र जमा करें।
  • जिला समाज कल्याण कार्यालय आवेदन और लाभ हस्तांतरण के बारे में और जानकारी प्रदान करेंगे।

अन्य महत्वपूर्ण योजनाएं:

हिमायत योजना (एचएस) जम्मू-कश्मीर: बेरोजगार युवाओं के लिए प्रशिक्षण-सह-नियुक्ति कार्यक्रम 

भारत सरकार, ग्रामीण विकास मंत्रालय ने जम्मू-कश्मीर राज्य में हिमायत योजना (एचएस) नामक योजना शुरू की है। इस योजना के तहत, जम्मू-कश्मीर राज्य के बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण सह नियुक्ति प्रदान की जाएगी। कार्यक्रम के तहत ३ महीने अवधि का प्रशिक्षण प्रदान किया जाएंगा।युवाओं को जिन क्षेत्रों में पाठ्यक्रम चाहिएं उन क्षेत्रों में वह पाठ्यक्रम को चुन सकते है।इस कार्यक्रम के तहत राज्य के युवाओं को प्रशिक्षण सह नौकरियां भी प्रदान की जाएंगी।इस योजना का मुख्य उद्देश  राज्य के युवाओं के लिए रोजगार प्रदान करना है। सरकार इस योजना के तहत राज्य के युवाओं को  प्रशिक्षण प्रदान करेंगी जो युवाओं नौकरी पाने या स्वयं रोजगार के लिए इस्तेमाल करने में मदत होंगी। सरकार का उद्देश्य अगले ५ साल में राज्य के कम से कम एक लाख युवाओं को प्रशिक्षित करना और उनमें से कम से कम ७५,००० युवाओं को नौकरियां प्रदान करना है। युवाओं की नियुक्ति जम्मू-कश्मीर और बाहेर के राज्य में की जाएंगी। अगले ५ साल में,  जम्मू-कश्मीर राज्य के सभी क्षेत्रों में प्रशिक्षण केंद्र स्थापित किये जाएंगे।
                                                                               Himayat Scheme (HS) Jammu & kashmir (In English)
हिमायत योजना (एचएस) क्या है:
भारत सरकार, जम्मू-कश्मीर राज्य के  ग्रामीण विकास योजना मंत्रालय द्वारा  जम्मू-कश्मीर राज्य में युवाओं को प्रशिक्षण और नियुक्ति प्रदान करने के लिए एक योजना है।
हिमायत योजना (एचएस) का उद्देश्य:
  • राज्य के बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण और नियुक्ति प्रदान की जाएंगी।
  • राज्य के युवाओं को एक स्थायी जीवन प्रदान किया जाएंगा।
  • जम्मू-कश्मीर राज्य के युवाओं और उनके परिवारों को सशक्त बनाया जाएंगा।
  • स्व-रोज़गार के अवसर निर्माण किये जाएंगे।
हिमायत योजना (एचएस) का लाभ:
  • प्रशिक्षण के पूरा होने के बाद छात्र को नौकरी में शामिल होने के बाद २,००० प्रति माह प्रदान किया जाएगा। यह पैसा छात्र को ६ महीने के बाद दिया जाएगा और जिसके लिए छात्रों को पिछले छह महीनों के लिए वेतन पर्ची की आवश्यकता होंगी। यह राशि युवाओं को नौकरी जारी रखने के लिए  १२००० रुपये   दिए गए हैं। इस राशि को पोस्ट प्लेसमेंट समर्थन कहा जाता है।
  • ६ या ९  महीने के प्रशिक्षण के पूरा होने पर १०००  रुपये पोस्ट-प्लेसमेंट समर्थन के रूप में  प्रति माह प्रदान किये जाएगे  क्योंकि इन छात्रों को उच्च भुगतान की  नौकरियां मिलने में मदत हो सके।
  • इन युवाओं को ८००० से १२,०००  रुपये के वेतन के साथ रखा जाएगा।
हिमायत योजना (एचएस) के लिए पात्रता:
  • यह योजना केवल जम्मू कश्मीर राज्य में युवाओं के लिए लागू है।
  • १८ से ३५  के बीच आयु वर्ग के लिये यह योजना लागू है।
  • स्कूल / कॉलेज छोड़ने वाले छात्रों को इस योजना के लिए प्राथमिकता दी जाएगी।
हिमायत योजना (एचएस) किसे संपर्क करे और  हेल्पलाइन  नंबर:
  • वेबसाइट: himayat.org /
  • फोन नंबर: + ९१-९५९६६९३८०९
हिमायत योजना (एचएस) काकार्यान्वयन और विशेषताएं:
  • भारत सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रालय द्वारा  जम्मू-कश्मीर राज्य के लिए  योजना  शुरू की है।
  • इस योजना के माध्यम से राज्य के बेरोजगार युवाओं को प्रशिक्षण और नियुक्ति प्रदान की जाएगी।
  • राज्य के युवाओं को ३ महीने का  प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।
  • प्रशिक्षण निजी क्षेत्र की कंपनियों और गैर सरकारी संगठनों द्वारा प्रदान किया जाएगा।
  • ५ साल में राज्य के १ लाख  युवाओं को प्रशिक्षित किया जाएंगा और उनमें से कम से कम ७५% युवाओं को नौकरियां प्रदान की जाएंगी।
  • प्रशिक्षण केंद्र राज्य के सभी क्षेत्रों में स्थापित किये जाएंगे।
  • प्रशिक्षण के साथ-साथ नियुक्ति के दौरान प्रशिक्षुओं को समर्थन किया जाएंगा।
  • प्रशिक्षण में कंप्यूटर आधारित कौशल, मुलायम कौशल और अंग्रेजी संचार कौशल शामिल रहेंगा।
  • इस योजना के माध्यम से ७४,३४६  युवाओं को प्रशिक्षित किया गया है और ५६८२९  युवाओं नियुक्ति पर  रखा गया है।
अधिक विवरण और संदर्भ:
  • हिमायत योजना की आधिकारिक वेबसाइट:himayat.org
  • हिमायत योजना की अंग्रेजी विवरणिका
  • हिमायत प्रशिक्षण केंद्र