कल्पना चावला छात्रवृति योजना:

हिमाचल प्रदेश राज्य की तीन शीर्ष प्राथमिकताओं में से शिक्षा एक है। राज्य के कुल बजट का १९ प्रतिशत इस महत्वपूर्ण क्षेत्र पर खर्च किया जाता है। हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य के युवाओं के लिए संभव तकनीकी और व्यावसायिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए शिक्षा केन्द्रों को विकसित किया जा रहा है। हिमाचल प्रदेश राज्य में उच्च शिक्षा के लिए एक लाख से अधिक छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। विभिन्न छात्रवृत्ति योजनाओं के तहत छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करने के लिए केंद्र और राज्य सरकार १४.३७ करोड़ रुपये खर्चा करती है। इस योजना का मुख्य उद्देश राज्य के छात्रों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए प्रोत्साहित करना है। इस योजना के तहत १० + २ सभी अध्ययन समूह के  शीर्ष २००० मेधावी छात्राओं यानी विज्ञान, कला और वाणिज्य क्षेत्र की छात्राओं को हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड, धर्मशाला धाराओं द्वारा आपूर्ति की गई योग्यता सूची के अनुसार उत्तीर्ण अनुपात के आधार पर छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है।

                                                                                   Kalpana Chawla Chhatravarty Yojana (In English):

कल्पना चावला छात्रवृति योजना के लाभ:

  • कल्पना चावला छत्रवर्ती योजना के माध्यम से राज्य के छात्रों को उच्च शिक्षा के लिए वित्तीय सहायता के रूप में लाभ प्रदान किया जाएंगा।
  • राज्य के २००० मेधावी छात्राओं को १५,००० रुपये प्रति वर्ष छात्रवृति प्रदान की जाएंगी।

कल्पना चावला छात्रवृति योजना के लिए आवश्यक पात्रता और शर्तें:

  •  छात्र भारत देश और हिमाचल प्रदेश राज्य का नागरिक होना चाहिए।
  • छात्र को किसी भी अधिसूचित मान्यता प्राप्त संस्थानों में पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री / डिप्लोमा के स्तर पर संबंधित संस्थान द्वारा निर्धारित मानदंडों के अनुसार प्रवेश मिलना चाहिए।
  • उम्मीदवार को भारत सरकार की किसी भी अन्य योजना के तहत कोई छात्रवृत्ति का लाभ नहीं लेना चाहिए।
  •  छात्रवृत्ति डिग्री / डिप्लोमा / सर्टिफिकेट कोर्स के पूरा होने तक नवीनीकृत की जाएगी, बशर्ते इसमे कोई विफलता न हो।

कल्पना चावला छात्रवृति योजना को लागू करने के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • पासपोर्ट आकार की तस्वीर
  • आधार कार्ड की स्कैन की गई प्रत
  • हिमाचल प्रदेश का अधिवास प्रमाण पत्र
  • पिछले साल के उत्तीर्ण की गई परीक्षा का दाखला
  • वर्तमान बैंक खाते का विवरण
  • जाति का प्रमाण पत्र
  • प्राधिकरण से लिया गया आय प्रमाण पत्र
  • आयआरडीपी / बीपीएल का  प्रमाणपत्र
  • पोस्ट मैट्रिक के वर्ष का अंतराल होने पर हलफनामा
  • विश्वविद्यालय द्वारा अनुमोदित शुल्क संरचना
  • शुल्क भुगतान की रसीदें
  • चयन के लिए पत्र

आवेदन की प्रक्रिया:

  • छात्रवृत्ति आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं: http://hpepass.cgg.gov.in/NewHomePage.do
  • छात्र लॉगिन के लिए क्लिक करें और आवश्यक जानकारी भरें।
  • आईडी और पासवर्ड उत्पन्न होगा।
  • आईडी और पासवर्ड डालकर लॉगइन करें।
  • आवेदन पत्र  पर तस्वीर अपलोड करे  और आवश्यक जानकारी भरे।
  • उस आवेदन पत्र का प्रिंट आउट लें और उसे सभी दस्तावेजों के साथ स्कूल / संस्थान में जमा करें।

संपर्क विवरण:

  • छात्र संस्थान या कॉलेज से संपर्क कर सकते है, जहां वह शिक्षा प्राप्त कर रहा है।
  • उम्मीदवार को  एम. एस.  नेगी, जेटी निदेशक, उच्च शिक्षा / सरकारी अधिकारी छात्रवृत्ति, हिमाचल प्रदेश सरकार से संपर्क करना होंगा
  • ईमेल आयडी: hp@hp.gov.in
  • फोन नंबर: ०१७७-२६५२५७९
  • मोबाइल नंबर: +९१९४१८११०८४०
  • अधिक संपर्क विवरण के लिए उम्मीदवार संपर्क कर सकते है: http://hpepass.cgg.gov.in/NewHomePage.do?actionParameter=contactUs

संदर्भ और विवरण:

 

 

 

महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना:

महाराष्ट्र राज्य सरकार द्वारा सामाजिक न्याय और विशेष सहायता विभाग के माध्यम से अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना शुरू की है। इस योजना को भारत देश के केंद्र सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाएंगा। महाराष्ट्र सरकार इस योजना के माध्यम से अनुसूचित जाती के छात्रों के लिए  मेडिकल, अभियांत्रिकी, कृषि सबंधी बुक बैंक प्रदान करती है। मेडिकल / अभियांत्रिकी छात्रों के लिए इस योजना के तहत दो छात्र के लिए एक बुक सेट और ७,५०० रुपये प्रदान किये जाएंगे। कृषि संबधी छात्रों के लिए इस योजना के तहत दो छात्र के लिए एक बुक सेट है और ४,५०० रुपये प्रदान किये जाएंगे। पशु चिकित्सा सबंधी छात्रों के लिए इस योजना के तहत दो छात्र के लिए एक बुक सेट और ५,००० रुपये प्रदान किये जाएंगे।  सरकार इस योजना के तहत अनुसूचित जाती के छात्रों को  मेडिकल, अभियांत्रिकी, कृषि, पशु चिकित्सा सबंधी स्नातकोत्तर की पढाई के लिए एक बुक सेट और ५,००० रुपये का लाभ प्रदान करेंगी।  अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना, पोस्ट-मैट्रिक छात्रवृत्ति की केंद्र प्रायोजन योजना के साथ विलीन कर दी गई है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य अनुसूचित जाति समुदायों के आर्थिक रूप से कमजोर है और गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) वाले लाभार्थी के जीवन का कल्याण करना है। सरकार का उद्देश्य उन्हें शैक्षिक, आर्थिक और सामाजिक रूप से विकसित करना है। अनुसूचित जाती के छात्रों को  बुक बैंक का लाभ पाने के लिए छात्र संबंधित कॉलेज / संस्थान से संपर्क करना चाहिए।

                             Book Bank Scheme For Scheduled Caste Students In Maharashtra (In English) 

महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना का लाभ:

  •  मेडिकल / अभियांत्रिकी छात्रों के लिए इस योजना के तहत दो छात्र के लिए एक बुक सेट और ७,५०० रुपये की राशी का लाभ प्रदान किया जाएंगा।
  • कृषि संबधी छात्रों के लिए इस योजना के तहत दो छात्र के लिए एक बुक सेट है और ४,५०० रुपये की राशी का लाभ प्रदान किया जाएंगा।
  • पशु चिकित्सा सबंधी छात्रों के लिए इस योजना के तहत दो छात्र के लिए एक बुक सेट और ५,००० रुपये की राशी का लाभ प्रदान किया जाएंगा।
  • सरकार इस योजना के तहत अनुसूचित जाती के छात्रों को मेडिकल, अभियांत्रिकी, कृषि, पशु चिकित्सा सबंधी स्नातकोत्तर की पढाई के लिए एक बुक सेट और ५,००० रुपये की राशी का लाभ प्रदान किया जाएंगा।

महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना के लिए पात्रता:

  • आवेदक महाराष्ट्र राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • आवेदक अनुसूचित जाति से होना चाहिए।
  • लाभार्थी छात्र को व्यावसायिक पाठ्यक्रम जैसे मेडिकल, अभियांत्रिकी, कृषि आदि में प्रवेश दिया जाना चाहिए।
  • भारत सरकार की छात्रवृत्ति योजना के लिए छात्र पात्र होना चाहिए।

महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • पासपोर्ट आकार की तस्वीर
  • आधार कार्ड
  • जाती का प्रमाण पत्र
  • जाति वैधता प्रमाण पत्र
  • स्थायी निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक खाता विवरण

महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना के लिए आवेदन प्रक्रिया:

  • आवेदक को महाराष्ट्र राज्य के संबंधित कॉलेज / संस्थान से संपर्क करना चाहिए।
  • आवेदक को महाराष्ट्र राज्य के सहायक आयुक्त समाज कल्याण विभाग से भी संपर्क करना चाहिए।

संदर्भ और विवरण:

 महाराष्ट्र में अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए बुक बैंक योजना की आधिक माहिती के लिए निम्लिखित लिंक का उपयोग करे:

 

स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति:   

केरल सरकार (महाविद्यालय सदृश शिक्षा विभाग) द्वारा केरल राज्य के बीपीएल (गरीबी रेखा के निचे) परिवार के छात्रों के लिए स्नातक और स्नातकोत्तर जैसी उच्च शिक्षा प्राप्त करने के सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति सुरु की है। इस योजना का मुख्य उद्देश आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है।

                                                     Suvarna Jubilee Merit Schoarship For UG & PG studies (In English)

  स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति  के लाभ:

  • सुवर्ण जयंती मेरिट छात्रवृत्ति छात्रों को स्नातक और स्नातकोत्तर जैसी उच्च शिक्षा का अध्ययन करने के लिए वित्तीय सहायता का लाभ प्रदान करती है। वित्तीय सहायता की संरचना नीचे उल्लिखित है।
  • चयनित उम्मीदवारों या विद्वानों को १०,००० (दस हजार) रुपये प्रति वर्ष छात्रवृत्ति राशि प्रदान की जाएंगी।
  • छात्रवृत्ति राशि सीधे छात्र के बैंक खाते में जमा की जाएगी।

स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति लागू करने के लिए आवश्यक पात्रता और शर्तें:

  • छात्र सरकार मान्य सहायता प्राप्त कॉलेज या विश्वविद्यालय विभाग में स्नातक (यूजी) या स्नातकोत्तर (पीजी) पाठ्यक्रम के प्रथम वर्ष में होना चाहिए।
  • छात्र को बीपीएल परिवार से संबंधित होना चाहिए।
  • पात्रता परीक्षा में छात्र को ५०% या उससे अधिक अंक प्राप्त करने चाहिए।

स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति  का  आवेदन / प्रवेश प्रक्रिया और आवश्यक दस्तावेज:

  • बीपीएल कार्ड या राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बैंक विवरण, खाता नंबर, शाखा का नाम, खाता धारक का नाम, आयएफएससी कोड, एमआयसीआर कोड
  • पिछले साल के परीक्षा की मार्कशीट (पास)
  • निवास प्रमाण
  • आय प्रमाण पत्र (राशि का उल्लेख नहीं रहा तो चलेंगा लेकिन यह राशि कम का होना चाहिए)
  • पूरी तहर भरा हुआ आवेदन पत्र
  • पहचान प्रमाण
  • वास्तविक प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट आकर की तस्वीर 

आवेदन की प्रक्रिया:

  • उम्मीदवार को केरल सरकार के आधिकारिक छात्रवृत्ति पोर्टल यानी  http://www.dcescholarship.kerala.gov.in  पर लॉगिन करना होगा।
  • उम्मीदवार को छात्रवृत्ति पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  • उम्मीदवार को आवेदन आईडी और पासवर्ड उत्पन्न करना होंगा।
  • उम्मीदवार को आवेदन आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके छात्रवृत्ति पोर्टल पर जाना होगा और अपलोड पासपोर्ट आकार की तस्वीर के साथ सावधानीपूर्वक पूर्ण आवेदन पत्र भरना होगा।
  • उस आवेदन पत्र का प्रिंट आउट प्राप्त करे।

किससे संपर्क करें और कहां संपर्क करें:

  • किसी भी प्रकार के सवालों के लिए, उम्मीदवार कॉलेज / संस्थान से संपर्क कर सकता है, जहां से छात्र  शिक्षा प्राप्त करना चाहता है।
  • महाविद्यालय सदृश शिक्षा विभाग है: ईमेल: dcescholarship@gmail.com

संदर्भ और विवरण:

नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा योजना: कर्नाटक में लड़कियों को सरकारी कॉलेज में नि:शुल्क शिक्षा

कर्नाटक सरकार ने राज्य में पढ़ रहे लड़कियों को नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा प्रदान करने के लिए नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा योजना की घोषणा की है। राज्य सरकार सरकारी कॉलेजों में पूर्व विश्वविद्यालय, स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में पढ़ रहे लड़कियों की कॉलेज शिक्षा लागत का खर्चा प्रदान करेगी।इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य राज्य में लड़कियों को सशक्त बनाना है और उन्हें समान अवसर प्रदान करना है।

                                                                                                Free college Education Scheme (In English)

राज्य में कई कारणों के कारन स्कूल शिक्षा के दौरान ज्यादातर लड़कियां स्कूल से बाहर निकाली जाती है। लडकियों का बिच में से स्कूल छोड़ने ने का प्राथमिक कारण यह है कि परिवारों की वित्तीय स्थितियां उच्च शिक्षा का समर्थन नहीं करती है। नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा योजना लड़कियों को उच्च शिक्षा प्राप्त करने में मदत करेगी। इससे लड़कियों का बिच में से स्कूल छोड़ने का दर भी कम हो जाएंगा।

नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा योजना क्या है? राज्य सरकार के सरकारी कॉलेजों में पढ़ रहे लड़कियों को मुफ्त में कॉलेज शिक्षा प्रदान करने के लिए कर्नाटक सरकार की एक योजना है।

नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा योजना का उद्देश्य:

बिच में स्कूल शिक्षा छोड़ने वाले लड़कियों के दर को कम किया जाएंगा।

लड़कियों का आर्थिक रूप से समर्थन प्रदान किया जाएंगा।

इस योजना के तहत राज्य की लडकिया जितना संभव हो सके उतना अध्ययन कर सकेंगी।

शिक्षा के साथ लड़कियों और उनके परिवारों को सशक्त बनाया जाएंगा।

नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा योजना का लाभ:

सरकारी शैक्षणिक संस्थानों में पूर्व विश्वविद्यालय, स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में पढ़ाई करने वाली लड़कियों को नि:शुल्क कॉलेज शिक्षा प्रदान की जाएंगी।

इस योजना को ३.७  लाख लड़कियों का लाभ होगा और इसकी हर साल की लागत ९५  करोड़ रुपये है।यह योजना अकादमिक वर्ष २०१८-१९ से लागू होगी। राज्य कैबिनेट ने दिसंबर २०१८ में इस योजना को मंजूरी दी है। कर्नाटक के कानून और संसदीय मामलों के मंत्री कृष्णा बिरगौड़ा ने इस योजना की घोषणा है। लड़कियां आमतौर पर स्कूल शिक्षा बिच से छोड़ देती है। शिक्षा का अधिकार अधिनियम स्कूल शिक्षा तक लड़कियों का समर्थन करता है।

संबंधित योजनाएं:

 कर्नाटक में योजनाएं और सब्सिडी की सूची

लडकियों के लिए योजनाओं की सूची

लडकियों के लिए छात्रवृति की सूची

शिक्षा के लिए योजनाओं की सूची

 

मेधा प्रोस्ताहन योजना हिमाचल प्रदेश: १ लाख रुपये की वित्तीय सहायता मेधावी छात्रों को कोचिंग के लिए   

हिमाचल प्रदेश सरकार ने राज्य में १२ वीं कक्षा और कॉलेज के मेधावी छात्रों के लिए मेधा प्रोस्ताहन योजना शुरू की है। कोचिंग के लिए उन्हें १ लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी और विभिन्न प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं की तैयारी के लिए छात्रों को प्रोत्साहित किया जाएंगा।हिमाचल प्रदेश राज्य में छात्रों को प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं में जाने के लिए और उन्हें समर्थन देने के लिए छात्रवृत्ति प्रदान की जाएगी। कमजोर पृष्ठभूमि के गरीब छात्रों के लिए यह योजना सहायक होने की उम्मीद है। मेधा प्रोत्सहन योजना की मदद से छात्र यूपीएससी, एसएससी, एनईईटी, आईआईटी-जेईई, एम्स, सीएलएटी, एएफएमसी परीक्षाओं जैसे प्रतिस्पर्धी परीक्षाओं की तैयारी कर सकेंगे। छात्रों को इस योजना के तहत विशेषज्ञों से कोचिंग प्रदान की जाएंगी।

                                                                       Medha Protsahan Yojana Himachal Pradesh (In English)

हिमाचल प्रदेश सरकार ने साल २०१८ के बजट में इस योजना के लिए ५ लाख रुपये आवंटित किये है।इस योजना से उन लोगों के लिए रोजगार पैदा करने की भी उम्मीद है जो शिक्षकों की नौकरियों की तलाश में है और अपने संबंधित क्षेत्रों में विशेषज्ञ है।

हिमाचल प्रदेश मेधा प्रोस्ताहन योजना: हिमाचल प्रदेश राज्य में मेधावी छात्रों के लिए छात्रवृत्ति योजना है और उन्हें कोचिंग के लिए १ लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

मेधा प्रोस्ताहन योजना का उद्देश्य:

  • विद्यार्थियों को प्रोत्साहित करने और सशक्त बनाने के लिए यह योजना राज्य में शुरू की है।
  • राज्य के छात्रों को उच्च अध्ययन के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि किसी को वित्तीय संकट की वजह से छात्रों को शिक्षा बिच में से छोड़नी ना पड़े।

 मेधा प्रोस्ताहन योजना के लिए पात्रता :

  • यह योजना हिमाचल प्रदेश के निवासियों के लिए लागू है।
  • केवल १२ वीं कक्षा और कॉलेज के मेधावी छात्र इस योजना के लिए पात्र  है।
  •  केवल गरीब छात्रों के लिए यह योजना उपयुक्त है जिनकी पारिवारिक  वार्षिक आय २.५ लाख से अधिक नहीं होनी चाहिए।

मेधा प्रोस्ताहन योजना का लाभ:

  • राज्य के छात्रों को कोचिंग के लिए  १ लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  •  राज्य के छात्रों को  सर्वश्रेष्ठ कोचिंग सेंटर में से  विशेषज्ञों से नि:शुल्क  कोचिंग प्रदान किया जाएगा।

     छात्र राज्य में कोचिंग प्राप्त कर सकते है और राज्य के बाहर से भी कोचिंग प्राप्त कर सकते  है।हिमाचल प्रदेश राज्य के         मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने इस योजना की घोषणा की।

मेधा प्रोस्ताहन योजना का आवेदन कैसे करें:

मेधा  प्रोस्ताहन योजना के लिए आवेदन पत्र संबंधित स्कूलों और कॉलेजों में उपलब्ध होंगे। स्कूल और कॉलेज प्राधिकरण योजना के विवरण और योजना के लिए आवेदन की सूची के साथ योजना का विवरण प्रदान करेंगे।