अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि

तेलंगाना सरकार ने राज्य के अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के छात्रों के लिए छात्रवृत्ति योजना शुरू की है जिसे अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि कहा जाता है। योजना के तहत छात्रों को विदेश में अध्ययन करने के लिए अनुदान दिया जाएंगा। तेलंगाना सरकार के समाज कल्याण विभाग ने इस योजना को लागू किया है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े वर्गों के छात्रों को शिक्षा के समान अवसर प्रदान करना है।

                                                                                          Ambedkar Overseas Vidhya Nidhi (In English)

अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि

  • राज्य: तेलंगाना
  • लाभ: विदेशी विश्वविद्यालयों में उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति
  • लाभार्थी: अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति श्रेणियों के छात्र
  • आधिकारिक वेबसाइट: www.telanganaepass.cgg.gov.in

लाभ:

  • छात्रों को शिक्षा शुल्क, रहने के खर्च, वीजा और इकोनॉमी क्लास एयर-टिकट के लिए १० लाख रुपये की छात्रवृत्ति
  • राष्ट्रीयकृत बैंकों से ५ लाख रुपये तक शैक्षिक ऋण

छात्रवृत्ति के लिए पात्रता:

  • यह योजना तेलंगाना राज्य के छात्रों के लिए ही लागू है।
  • अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति श्रेणियों के छात्रों के लिए ही यह योजना लागू है।
  • आय सीमा: आवेदक की पारिवार की वार्षिक आय २.५ लाख रुपये से कम होनी चाहिए।
  • आयु सीमा: आवेदन की आयु १ जुलाई तक ३५ साल से कम होनी चाहिए।
  • शिक्षा: पात्रता परीक्षा में छात्रों को कम से कम ६०% अंक होने चाहिए।
  • एक परिवार से एक ही बच्चे को छात्रवृत्ति दी जाएगी।
  • आवेदनकर्ता के पास वैध टीओईएफएल / आईईएलटीएस और जीआरई / जीएमएटी परीक्षा का स्कोर होना चाहिए।
  • आवेदक के पास विदेशी विश्वविद्यालय प्रवेश का प्रस्ताव होना चाहिए।

आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  • स्कैन की गई तस्वीर
  • पासपोर्ट की प्रति
  • जन्म प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • इ-पासपोर्ट पहचान पत्र का नंबर
  • निवासी प्रमाण पत्र
  • जाति प्रमाण पत्र
  • परिवार का आय प्रमाण पत्र
  • सभी पात्रता परीक्षा की गुण पत्रिका
  • आवेदनकर्ता के पास वैध टीओईएफएल / आईईएलटीएस और जीआरई / जीएमएटी परीक्षा का स्कोर होना चाहिए
  • विदेशी विद्यालय प्रवेश का प्रस्ताव पत्र
  • आयकर आकलन की प्रति
  • राष्ट्रीयकृत बैंक पासबुक की प्रति

पात्र देश: संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर और कनाडा आदि देश इस योजना के लिए पात्र है।

अनुसूचित जाति (एसी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के छात्रों लिए अंबेडकर प्रवासी विद्या निधि ऑनलाइन आवेदन और स्थिति कैसे जाँच करे?

  • अम्बेडकर प्रवासी विद्या निधि के पंजीकरण में जाने के लिए यहाँ क्लिक करें।
  • आवेदन पत्र को पूरी तरह से भरें।
  • सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करें।
  • आवेदन जमा करें और भविष्य के संदर्भ के लिए आवेदन नंबर को नोट करे।
  • आवेदन की स्थिति की जांच करने के लिए यहां क्लिक करें।
  • आवेदन नंबर के साथ आवश्यक विवरण प्रदान करें और विवरण प्राप्त करें।

अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति –

राजस्थान सरकार ने राज्य के अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना सुरु की है। इस योजना के तहत अनुसूचित जाति (एससी) के छात्र को छात्रवृत्ति प्रदान की जाएंगी। ६ वीं से ८ वीं कक्षा के छात्र इस योजना के लिए पात्र है। राज्य के अनुसूचित जाति के छात्रों को कुछ मानदंडों के आधार पर छात्रवृत्ति प्रदान की जाएंगी। यह योजना साल १९८४  से सक्रिय है और साल २००९ और साल २०१२  में इस योजना में कुछ बदलाव किये गए है। राज्य के छात्रों के स्कूल के खर्चों को पैमाने को देखते हुए छात्रवृत्ति राशी उन छात्रों को किताबें खरीदने, स्कूल की यात्रा करने के लिए और कुछ अन्य स्थिर जरूरतों का समर्थन करने के लिए प्रदान की जाएंगी। इस योजना के तहत लड़कों और लड़कियों को छात्रवृति राशी अलग-अलग प्रदान की जाएंगी। लड़कियों को लड़कों की तुलना में छात्रवृति राशि अधिक मिलती है और इस छात्रवृति राशि का इस्तेमाल छात्र उनके अन्य खर्चों के लिए कर सकते है।

                                                      Pre-Matric Scholarship For Scheduled Caste Students (In English)

अनुसूचित जाति के छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति का लाभ:

  • लड़कों को छात्रवृत्ति: अनुसूचित जाति समुदाय के छात्र जो ६ वीं, ७ वीं या ८ वीं कक्षा में है,उन छात्रों को मूल जरूरतों के लिए ७५ रुपये  प्रति माह छात्रवृत्ति राशी प्रदान की जाएंगी।
  • लड़कियों को छात्रवृत्ति: इस योजना में लड़कियों को लड़कों की तुलना में थोड़ी ज्यादा राशि मिलेगी यानी लड़कियों को १२५ रुपये प्रति माह छात्रवृत्ति राशी प्रदान की जाएंगी।
  • दलितों को शिक्षा: इस योजना के कारण समाज में दलितों को शिक्षा हासिल करने और तथाकथित शिक्षित समाज में समान दर्जा हासिल करने का मौका प्रदान किया जाएंगा।

अनुसूचित जाति के छात्रों को प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए पात्रता:

  • छात्र राजस्थान राज्य का रहिवासी होना चाहिए।
  • छात्र अनुसूचित जाति से होना चाहिए।

अनुसूचित जाति के छात्रों को प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए आवश्यक दस्तावेज़:

  • आवेदन पत्र
  • पिछले साल की मार्कशीट
  • रहिवासी दाखला (बिजली बिल, पानी कनेक्शन बिल, गैस कनेक्शन बिल, राशन कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, आधार कार्ड, पैन कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस)
  • आधार कार्ड
  • जाती का प्रमाण पत्र
  • जाति की वैधता का प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट आकर की तस्वीर (आवश्यक नहीं है लेकिन कम से कम एक प्रति रखने की सिफारिश की जाती है। )छात्र के माता पिता का आय प्रमाण पत्रस्कूल का पहचान पत्र

आवेदन पत्र:

छात्रों को इस योजना का आवेदन करने के लिए संबंधित स्कूल के प्राचार्य को आवश्यक दस्तावेजों के साथ एक आवेदन जमा करना होगा, जहां लड़का / लड़की अध्ययन कर रहे है (यहां आवेदन पत्र डाउनलोड करें: अनुसूचित जाति के छात्र के लिए प्री-मैट्रिक  छात्रवृत्ति के लिए आवेदन पत्र)

संपर्क विवरण:

  • संबंधित स्कूल के  प्राचार्य
  • संबंधित क्षेत्र के शैक्षिक मंत्री

संदर्भ और विवरण:

योजना के बारे में अधिक जानने के लिए निम्नलिखित लिंक का पालन करें:

  • राजस्थान सरकार द्वारा आधिकारिक पत्र: अनुसूचित जाती के छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति के लिए दिशानिर्देश
  • आवेदन पत्र: अनुसूचित जाती के छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति का आवेदन पत्र

 

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना: वाणिज्यिक वाहन और ई-रिक्शा खरीदने के लिए बेरोजगारों के लिए  

दिल्ली सरकार ने राज्य में बेरोजगार युवाओं के लिए स्व:रोजगार ऋण योजना शुरू की है। राज्य सरकार लाभार्थी को वाणिज्यिक वाहन और  बैटरी संचालित ई-रिक्शा खरीदने के लिए ऋण मुहैया करेंगी। यह योजना अनुसूचित जाति (एससी), अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), अल्पसंख्यक और सफाई करमचारियों के बेरोजगार युवाओं के लिए है।

इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य सामाजिक रूप से पिछड़े वर्ग के युवाओं और उनके परिवारों को सशक्त बनाना है। दिल्ली स्व-रोजगार ऋण योजना राज्य के गरीब परिवारों के लिए आजीविका कमाने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।इस योजना के माध्यम से दिल्ली में स्व-रोजगार और रोजगार के अवसर को निर्माण किये जाएंगे।

Delhi Self Employment Loan Scheme For Unemployed To Purchase Commercial Vehicles & E-Rickshaws (In English):

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना: दिल्ली के बेरोजगार युवाओं को वाणिज्यिक वाहन और बैटरी संचालित ई-रिक्शा खरीदने के लिए ऋण प्रदान करने के लिए दिल्ली सरकार की एक योजना है।

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना: बेरोजगार  युवाओं को वाणिज्यिक वाहन और बैटरी संचालित ई-रिक्शा खरीदने के लिए

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना के लाभ:

  • दिल्ली के बेरोजगार युवाओं को वाणिज्यिक वाहन और बैटरी संचालित ई-रिक्शा खरीदने के लिए ऋण प्रदान किया जाएंगा।

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना के लिए पात्रता:

  • अनुसूचित जाति (एससी), अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी), अल्पसंख्यक और सफाई  कर्मचारी केवल आवेदन कर सकते है।
  • उम्र की सीमा: आवेदनकर्ता की उम्र १८  से ४५  साल के बिच होनी चाहिए।
  • आवेदनकर्ता के पास बैज के साथ  वैध वाणिज्यिक वाहन का परवाना होना चाहिए।
  • आवेदक पिछले ५ साल  से दिल्ली का निवासी होना चाहिए।
  • आय सीमा:  अनुसूचित जाति (एससी) / अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के श्रेणी के लाभार्थी की वार्षिक आय  ३ लाख रुपये  से अधिक नहीं होनी चाहिए।  अल्पसंख्यक समुदाय की वार्षिक आय १.२० लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए और सफाई कर्मचारीयों के लिए कोई आय सीमा नहीं है।

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  •  मतदाता पहचान पत्र
  • राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • अनुसूचित जाति और ओबीसी आवेदकों के लिए जाति प्रमाण पत्र
  •  क्षेत्र स्वच्छता अधीक्षक द्वारा जारी किया गया सफाई कर्मचारी  का प्रमाण पत्र
  • अल्पसंख्यकों के मामले में हलफनामा

दिल्ली स्व रोजगार ऋण योजना आवेदन पत्र:

आवेदन पत्र नीचे उल्लिखित निगम कार्यालयों में मुफ्त में उपलब्ध है। आवेदक किसी भी कार्यालय दिवस पर सबेरे १० बजे से शाम ३ बजे के बीच आवेदन पत्र को प्राप्त कर सकते है:

  • मुख्य कार्यालय: अम्बेडकर भवन, सेक्टर १६, रोहिणी, दिल्ली
  • सेंट्रल जोन: २ बैटरी लेन, राजपुर रोड, दिल्ली
  • वेस्ट जोन: ए-३३-३८, बी ब्लॉक, लाल बिल्डिंग, मंगोलपुरी, दिल्ली
  • ईस्ट जोन: ए-ब्लॉक, पहली मंजिल, बुनकर कॉम्प्लेक्स, डिप्टी कमिश्नर ऑफिस (उत्तर पूर्व), गगन सिनेमा के पास, नंद नागरी, दिल्ली

दिल्ली स्व:रोजगार ऋण योजना के लिए आवेदन कैसे करें:

  • ऊपर उल्लिखित समय पर निगम कार्यालयों से संपर्क करे।
  • वाणिज्यिक वाहन और बैटरी संचालित ई-रिक्शा के ऋण के लिए आवेदन पत्र का चयन करें।
  • आवेदन पत्र को पूरी तरह से भरें।
  • आवश्यक दस्तावेजों को संलंग्न करें और दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करें।
  • जिस कार्यालय से आवेदन पत्र लिया है वह पर ही आवेदन पत्र को जमा करे।

संबंधित योजनाएं:    

 

shadianudan.upsdc.gov.in  उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना: लड़की की शादी के लिए सहायता, ऑनलाइन आवेदन पत्र और आवेदन की स्थिति की जांच करें:  

उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के गरीब परिवारों के लड़की की शादी के वित्तीय सहायता के   लिए  शादी अनुदान योजना को शुरू किया है। इस योजना का उद्देश्य गरीब परिवारों के लड़की की शादी के खर्च से बचाना है। यह योजना अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), आर्थिक रूप से पिछड़े वर्ग और अल्पसंख्यक समुदायों के लिए है।इस योजना के माध्यम से सरकार एक परिवार के पहली २  लड़की के शादी के लिए २०,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करती है।उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना के लिए आवेदन  shadianudan.upsdc.gov.in वेबसाइट पर ऑनलाइन किया जा सकता है। उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना के लिए आवेदन पत्र वेबसाइट पर ऑनलाइन उपलब्ध है।आवेदकों को आवेदन पत्र को पूरी तरहा से भरना होंगा और आवेदन पत्र को जमा करना होंगा।

                                                                                                           UP  Shadi Anudan Yojana (In English)

 शादी अनुदान योजना: उत्तर प्रदेश राज्य में गरीब परिवारों की लड़कियों के लिए एक विवाह सहायता योजना है।

शादी अनुदान योजना का लाभ:

 इस योजना के माध्यम से सरकार एक परिवार के पहली २  लड़की के शादी के लिए २०,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करती है।

शादी अनुदान योजना के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल उत्तर प्रदेश राज्य के स्थायी निवासियों के लिए लागू है।
  • अनुसूचित जाति (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), आर्थिक रूप से पिछडा वर्ग (ईबीसी) और अल्पसंख्यक समुदाय इस योजना के लिए पात्र है।
  • योजना मुख्य रूप से केवल गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवार के लिए लागू होती है।
  • ग्रामीण क्षेत्रों के लिए परिवार की वार्षिक आय ५६,४६० रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • शहरी क्षेत्रों के लिए परिवार की वार्षिक आय ४६,०८० रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • शादी के समय लड़की की उम्र १८  साल से कम नहीं होनी चाहिए।

शादी अनुदान योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज़:

  • आवेदक और शादी करने वाली लड़की की स्कैन की गई तस्वीर
  • स्कैन किया गया हुआ आधार कार्ड
  • लड़की का जन्म प्रमाण पत्र (स्कैन की गई प्रतिलिपि)
  • शादी का कार्ड (स्कैन की गई प्रति)
  • बैंक पासबुक की स्कैन की गई प्रति

शादी अनुदान योजना के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र और ऑनलाइन आवेदन कैसे करे:

  • उत्तर प्रदेश शादी अनुदान योजना ऑनलाइन आवेदन पर जाने के लिए यहां क्लिक करें।
  • अनुसूचित जाती (एससी), अनुसूचित जनजाति (एसटी), आर्थिक रूप से पिछडा वर्ग (ईबीसी) और अल्पसंख्यकों के लिए आवेदन पत्र उपलब्ध है, अपनी श्रेणी पर क्लिक करें।
  • आवेदन पत्र को पूरी तरह से भरें।
  • सभी आवश्यक दस्तावेजों की स्कैन की गई प्रतियों को अपलोड करें आवेदन पत्र को जमा करें।
  • शादी अनुदान योजना के लिए आवेदन सामान्य सेवा केंद्र (सीएससी), जन सुविधा केंद्र (जेएसके) में ऑफलाइन भी किया जा सकता है। आवेदन शादी की तारीख से ९० दिन या शादी होने के ९० दिन के बाद किया जाना चाहिए।

शादी अनुदान योजना की ऑनलाइन आवेदन स्थिति की जांच करें:

उत्तर प्रदेश शादी अनुदान आवेदन की स्थिति ऑनलाइन देखने के लिए यहां क्लिक करें। अपना जिला चुनें, अपना आवेदन पंजीकरण नंबर दर्ज करें और खोज बटन पर क्लिक करें।

संबंधित योजनाएं:

  • उत्तर प्रदेश में विवाह सहायता योजना
  • गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवार के लिए योजना की सूची
  • अल्पसंख्यक समुदायों के लिए योजना की सूची

 

समृद्धि योजना: एससी/एसटी उद्यमिता योजना कर्नाटक  

कर्नाटक सरकार ने एससी / एसटी (अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति) श्रेणियों के युवाओं के लिए उद्यमिता को बढ़ावा देने के लिए समृद्धि योजना शुरू की है। इस योजना का उद्देश्य छोटे व्यवसायों के माध्यम से राज्य में स्व-रोजगार को बढ़ावा देना है। यह योजना रोजगार के अवसर प्रदान करेगी और पिछड़े वर्गों के युवाओं को सशक्त बनाएगी। उद्यमशीलता के लिए युवाओं को प्रशिक्षित करने के लिए सरकार निजी कंपनियों के साथ भागीदारी करेगी।सामाजिक कल्याण मंत्री श्री प्रियंका खड़गे ने इस योजना की घोषणा की है। उनके अनुसार सरकार  अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति  समूहों को वित्तीय रूप से स्वतंत्र बनाने के लिए उद्योग के स्वामित्व वाले निजी उद्यम बनाने की योजना बना रही है। यह योजना रोज़गार के वैकल्पिक साधन बनाने के लिए कौशल विकास पर ध्यान केंद्रित करेगी।

समृद्धि योजना: उद्यमशीलता को बढ़ावा देने के लिए कर्नाटक राज्य के  अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति युवाओं के लिए एक कौशल विकास / प्रशिक्षण योजना है।

                                                                                                                      Samruddhi Scheme (In English)

समृद्धि योजना का उद्देश्य:

  • अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति युवाओं को इस योजना के माध्यम से सशक्त बनाया जाएंगा।
  • राज्य में स्व-रोज़गार के अवसर पैदा किये जाएंगे।
  • राज्य में रोजगार निर्माण किये जाएंगे।
  • राज्य में अर्थव्यवस्था को मजबूत किया जाएंगा।

समृद्धि योजना के लिए पात्रता:

  • योजना केवल कर्नाटक राज्य में लागू है।
  • अनुसूचित जाति / अनुसूचित  जनजाति के श्रेणियों के युवा केवल इस योजना के लिए आवेदन कर सकते है।

समृद्धि योजना का लाभ:

  • आकांक्षा उद्यमियों के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति युवा सशक्त निधि के लिए कौशल विकास प्रशिक्षण और प्रमाण पत्र प्रदान किए जाएंगे।
  • प्रशिक्षण और वित्त पोषण उद्यमियों को अपने खुदरा (रिटेल)आउटलेट या फ़्रैंचाइज़ी शुरू करने में मदद करेगी।

समृद्धि योजना का विशेषताएं और कार्यान्वयन :

  • कर्नाटक के सामाज कल्याण विभाग द्वारा एक योजना है।
  • व्यवसाय स्वामित्व वाली निजी उद्यम बनाई जाएगी।
  • कर्नाटक सरकार ने ३० खुदरा (रिटेल) कंपनियों के साथ समझौता किया है।
  • योजना को कर्नाटक राज्य के अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति श्रेणियों के २५,०००  युवाओं को लाभ होगा।
  • कर्नाटक सरकार अगले तीन वर्षों के लिए सालाना १०,०००  उद्यमियों को तैयार करने की योजना बना रही है।
  • राज्य में आर्थिक और सामाजिक रूप से हाशिए वाले समाजों को लाभान्वित किया जाएंगा।
  • यह योजना ग्रामीण क्षेत्रों और कर्नाटक के दूसरे शहरों पर केंद्रित होगी।
  • सरकार इस योजना के तहत महत्वाकांक्षी उद्यमियों को बीज अनुदान प्रदान करेगी वित्तीय सहायता प्रशिक्षित युवाओं को अपनी फ्रेंचाइजी या खुदरा (रिटेल) दुकानों को शुरू करने में मदत करेगी।

समृद्धि योजना के लिए फ्रेंचाइज़र के पैनल के लिए आवेदन:

स्थापित कंपनियों / फर्म राज्य में उद्यमशीलता में तेजी लाने के लिए खुद को फ्रेंचाइजी बनने के लिए तैयार कर सकते है। इच्छुक कंपनियां samruddhiyojane.com पर समृद्धि पोर्टल पर खुद को ऑनलाइन नामांकित कर सकती  है।