सीईओ उत्तराखंड नवीनतम मतदाता सूची २०१९ और उत्तराखंड मतदाता सूची में अपना नाम खोजें

सीईओ उत्तराखंड ने नवीनतम मतदाता सूची २०१९ जारी की है। मतदाता सूची मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) उत्तराखंड www.ceo.uk.gov.in पर उपलब्ध है। मतदाता अपना नाम मतदाता सूची में ऑनलाइन भी खोज सकते है। जिलेवार, विधानसभा क्षेत्रवार सीईओ उत्तराखंड मतदाता सूची पीडीएफ प्रारूप में डाउनलोड की जा सकती है। नागरिक पोर्टल पर भी मतदाता कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते है। इस पोर्टल में चुनाव सेवाओं से संबंधित विभिन्न  आवेदन पत्र भी है। नागरिक अपनी शिकायतें ceo.uk.gov.in वेबसाइट पर भी दर्ज कर सकते है।

CEO Uttarakhand Latest Electoral Roll 2019 & Search Your Name In The Uttarakhand Voter List (In English):

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) उत्तराखंड

सीईओ उत्तराखंड मतदाता सूची में अपना नाम खोजें:

  • उत्तराखंड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी के पोर्टल पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • मतदाता खोज लिंक पर क्लिक करें या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करे
  • आप मतदाता विवरण जैसे नाम या मतदाता पहचान पत्र से खोज सकते है।
  • मतदाता विवरण जैसे की नाम, लिंग, जन्म तिथि, राज्य, जिला, विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र या ईपीआईसी नंबर / मतदाता पहचान पत्र नंबर दर्ज करें।

मतदाता सूची खोजें: नाम, जिला, निर्वाचन क्षेत्र विवरण द्वारा मतदाता सूची में नाम की जाँच करें (स्रोत: electoralsearch.in / nvsp.in)

मतदाता सूची खोजें: मतदाता सूची में ईपीआईसी नंबर / मतदाता पहचान पत्र नंबर द्वारा नाम की जाँच करें (स्रोत: electoralsearch.in / nvsp.in)

  • खोज बटन पर क्लिक करें आपका नाम विवरण सहित सूचीबद्ध किया जाएगा।

सीईओ उत्तराखंड मतदाता सूची पीडीएफ डाउनलोड कैसे करे:

  • उत्तराखंड सीईओ की आधिकारिक वेबसाइट ceo.uk.gov.in  पर जाने के लिए यहां क्लिक करें
  • बाएं पैनल में मतदाता सूची लिंक पर क्लिक करें।

उत्तराखंड निर्वाचक नामावली पीडीएफ डाउनलोड करें (स्रोत: ceo.uk.gov.in)

  • जिस मतदाता सूची को आप डाउनलोड करना चाहते है, उसे चुनें जिला, विधानसभा क्षेत्र का चयन करें, कैप्चा दर्ज करें और देखें पीडीएफ बटन पर क्लिक करें।
  • पीडीएफ मतदाता सूची डाउनलोड की जाएगी।

 

मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना (एमएएवाई):

उत्तराखंड सरकार ने राज्य के स्कूल के बच्चों के लिए मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना (एमएएवाई) की शुरुआत की है।उत्तराखंड राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने देहरादून में योजना का शुभारंभ किया है। योजना के तहत आंगनवाड़ी केंद्रों के बच्चों को सप्ताह में दो बार नि:शुल्क दूध दिया जाएगा। राज्य में २०,०००  आंगनवाड़ी केंद्रों में पढ़ने वाले २.५  लाख बच्चों को सप्ताह में दो बार १००  मिलीलीटर दूध नि:शुल्क में दिया जाएगा।

                                                                        Mukhymantri Anchal Amrit Yojana (MAAY) (In English):

मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना (एमएएवाई)

  • राज्य: उत्तराखंड
  • लाभ: स्कूल के बच्चों को नि:शुल्क दूध प्रदान किया जाएंगा
  • लाभार्थी: आंगनवाड़ी केंद्रों में पढ़ने वाले बच्चे
  • द्वारा शुरू की: उत्तराखंड राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत
  • प्रारंभ तिथि: ७ मार्च २०१९

उद्देश्य:

  • बच्चों को आवश्यक पोषण प्रदान किया जाएंगा।
  • इस योजना के तहत राज्य में स्वस्थ जीवन शैली को बढ़ावा दिया जाएंगा।
  • राज्य में कुपोषण को कम किया जाएंगा।
  • राज्य के बच्चे के स्कूल छोड़ने के दर को कम किया जाएंगा।

पात्रता मापदंड:

  • यह योजना केवल उत्तराखंड राज्य के लिए लागू है।
  • यह योजना केवल आंगनवाड़ी केंद्रों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए लागू है।

उत्तराखंड राज्य में १८,००० छात्र कुपोषण ग्रस्त है। मुख्यमंत्री आंचल अमृत योजना (एमएएवाई) के माध्यम से राज्य के स्कूल के छात्रों के कुपोषण के दर को कम करने की उम्मीद है। राज्य सरकार इस योजना के तहत राज्य के स्कूल में मिठाई. दूध पावडर प्रदान करेंगी। राज्य के स्कूल में बच्चों को सप्ताह में दो बार नि:शुल्क दूध प्रदान करने के निर्देश दिये गये है।

 

 

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय): ऑनलाइन पंजीकरण, आवेदन पत्र और जाँच पात्रता

उत्तराखंड सरकार ने एक मेगा स्वास्थ्य देखभाल योजना शुरू की है, जिसे अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) कहा जाता है। यह योजना राज्य के सभी गरीब परिवारों को ५ लाख रुपये का स्वास्थ्य देखभाल प्रदान करती है। ऑनलाइन पंजीकरण और आवेदन पत्र अपनी आधिकारिक वेबसाइट ayushmanuttarakhand.org पर उपलब्ध है। यह योजना प्रधानमंत्री मोदी की आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (एबी-पीएमजेएवाई) पर आधारित है। यह एक देशव्यापी स्वास्थ्य कवरेज योजना है जो बीपीएल परिवारों को नि:श्लुक इलाज प्रदान करती है। राज्य के २३  लाख परिवारों को इस योजना का लाभ मिलेगा। उत्तराखंड में चिकित्सा स्वास्थ्य और परिवार कल्याण सरकार विभाग योजना को लागू करता है।

                                                                      Atal Ayushman Uttarakhand Yojana (Aauya) (In English)

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय):  उत्तराखंड राज्य में हर साल ५ लाख रुपये तक का कैशलेस उपचार प्रदान करने के लिए उत्तराखंड सरकार की एक योजना है।

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) का लाभ:

  • उत्तराखंड में सभी गरीब परिवारों को हर साल ५ लाख रुपये स्वास्थ्य देखभाल के लिए प्रदान किये जाएंगे।
  • इस योजना के लाभार्थी के परिवारों को माध्यमिक और तृतीयक देखभाल प्रदान किया जाएंगा।
  • सरकारी और चयनित निजी अस्पतालों में कैशलेस उपचार प्रदान किया जाएंगा।
  • गरीब परिवारों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है।
  • पूर्व और बाद के अस्पताल में भर्ती लाभ शामिल है।

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल उत्तराखंड राज्य में लागू है।
  • यह योजना केवल उन लोगों के लिए जिनका नाम २०११ की सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना (एसईसीसी) सूची में मौजूद  है।
  • उम्र, लिंग और परिवार के आकार पर कोई प्रतिबंध नहीं है।

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) के लिए पात्रता की जांच कैसे करें?

आप अपना नाम अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) लाभार्थियों की सूची में देख सकते है। ऑनलाइन अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय)  पात्रता जांच पर जाने के लिए यहां क्लिक करें। मोबाइल नंबर / नाम / मतदाता पहचान पत्र / एनएफएसए राशन कार्ड / आधार कार्ड / एमएसबीवाई कार्ड नंबर / पेंशनर कार्ड नंबर आदि द्वारा खोज सकते है। यदि आप पात्र है तो खोज परिणामों में आपको परिवार का नाम दिखाई देगा।

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय)  पात्रता ऑनलाइन की जाँच करें (स्रोत: ayushmanuttaradhand.org)

उत्तराखंड एकीकृत हेल्पलाइन

१०४/०१३५-२६०८६४६  / ayushmanuttarakhand@gmail.com

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) ऑनलाइन पंजीकरण: अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) के लिए ऑनलाइन आवेदन / पंजीकरण अपनी आधिकारिक वेबसाइट पर ayushmanuttarakhand.org पर ही किये जा सकते है।

  • एएयुवाय ऑनलाइन पंजीकरण आवेदन पत्र पर जाने के लिए यहां क्लिक करें।

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना (एएयुवाय) ऑनलाइन पंजीकरण आवेदन पत्र (स्रोत: ayushmanuttarakhand.org)

  • सभी विवरण जैसे परिवार का विवरण, नाम, पता, मतदाता पहचान पत्र नंबर, राशन कार्ड नंबर, ईएसआईसी नंबर, आरएसबीवाई कार्ड नंबर, मोबाइल नंबर, ईमेल आदि प्रदान करें।
  • अपने परिवार के सभी सदस्यों को शामिल करे।
  • कैप्चा दर्ज करें और सबमिट बटन पर क्लिक करें।

एएयुवाय की अनुभवजन्य अस्पतालों की सूची:

  • सरकारी और निजी अस्पतालों की सूची प्राप्त करने के लिए यहाँ क्लिक करें।
  • एएयूवाई की अनुभवजन्य औषधालय प्रयोगशाला की सूची प्राप्त करने के लिए यहां क्लिक करें।

एएयुवाय शिकायत बॉक्स: राज्य के नागरिक अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना से संबंधित अपनी शिकायतें ऑनलाइन दर्ज कर सकते है। एएयुवाय  शिकायत बॉक्स पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें। शिकायत के साथ अपना विवरण प्रदान करें।

अटल आयुष्मान उत्तराखंड योजना लाभार्थी शिकायत पेटी

संबंधित योजनाएं:

 

 

 

११२ डायल योजना उत्तराखंड: अपराध या सेहत ख़राब होने के स्तिति में आपातकालीन मदत के लिए हेल्पलाइन

उत्तराखंड सरकार ११२ डायल योजना नामक नई योजना पर काम कर रही है। इस योजना का उद्देश्य राज्य के नागरिकों को एक ही टेलीफोन नंबर पर सभी आपातकालीन सेवाएं प्रदान करना है। यह योजना राज्य के नागरिकों को तत्काल सहायता प्रदान करेगी और लाभार्थी का समय भी बचाएगी। उत्तराखंड राज्य के नागरिक अब अपराध की रिपोर्ट करने के लिए या सेहत ख़राब होने के आपात स्थिति के मामले में ११२ डायल कर सकते है। इस योजना से प्रदेश के लोगो को आपात स्तिथि में त्वरित मदत मिलेगी। नागरिकों को अब अलग-अलग नंबरों पर कॉल करने की आवश्यकता नहीं है। लाभार्थी पुलिस नियंत्रण संख्या १००, अग्निशमन संख्या  १०१, स्वास्थ्य सेवा संख्या  १०८, बाल सहायता लाइन संख्या १०९८ , महिला सहायता लाइन संख्या  १०९० के बजाय  सिर्फ ११२ पर कॉल कर सकते  है। राज्य के डीजीपी इस योजना की देखरेख के लिए जिम्मेदार रहेंगे।

112 Dial Yojana (In English)

देहरादून डायल ११२ योजना के लिए मुख्यालय होगा और हरिद्वार में एक नियंत्रण कक्ष स्थापित किया जाएगा। यह कॉल सीधे देहरादून से हरिद्वार तक पहुंच जाएगी और उसके बाद, यह कॉल संबंधित क्षेत्रों को भेज दी जाएगी। जिस लाभार्थी को सहायता चाहिए उसे तत्काल राहत प्रदान की जाएगी। योजना प्रारंभ होने के बाद शिकायतकर्ता को अलग-अलग प्रकार की मदद पाने के लिए अलग-अलग नंबरों पर कॉल नहीं करना पड़ेगा। यह योजना हरिद्वार में एक परीक्षण के आधार पर प्रारंभ की जाएगी। इस योजना के तहत, राज्य आपातकालीन सहायता प्रणाली भी सभी कोतवाली और पुलिस स्टेशनों के वैन में लगाई जाएगी। योजना की निगरानी राज्य पुलिस विभाग द्वारा की जाएगी।

११२ डायल योजना क्या है? उत्तराखंड राज्य सरकार के नागरिकों के लिए एक ही संख्या (११२) के माध्यम से सभी आपातकालीन सेवाएं प्रदान करने के लिए एक योजना।

उत्तरखंड राज्य आपातकालीन सेवाएं हेल्पलाइन / टोल फ्री नंबर

११२

११२  डायल योजना का उद्देश्य:

  • एक ही संख्या (११२) के माध्यम से सभी आपातकालीन सेवा प्रदान करना
  • नागरिकों को तत्काल सहायता प्रदान करना
  • योजना के माध्यम से लाभार्थी का समय और जीवन बचाना
  • मौके पर तत्काल राहत प्रदान करना
  • राज्य में हर किसी को तत्काल आपातकालीन सहायता प्रदान करना

११२  डायल योजना के लिए पात्रता और कौन आवेदन कर सकता है:

  • यह योजना केवल उत्तरखंड राज्य में ही उपलब्ध है
  • प्रदेश का कोई भी निवासी ११२ डायल कर के मदत मांग सकता है

११२ डायल योजना का लाभ:

  • एक ही संख्या (११२) के माध्यम से सभी आपातकालीन सेवाएं
  • राज्य के नागरिकों को तत्काल सहायता
  • लाभार्थी को  घटना स्थल पर तत्काल राहत और चिकित्सा सेवाएं

११२  डायल योजना के  सेवाओं का लाभ कैसे प्राप्त करें:

पुलिस, चिकित्सा विभाग, प्राकृतिक आपदा की रिपोर्ट करने या किसी अन्य प्रकार की सहायता की आवश्यकता के लिए बस अपने मोबाइल या पास के लैंडलाइन से  ११२ पर कॉल करें और योजना का लाभ उठाये।

११२ डायल योजना का कार्यान्वयन और विशेषताएं:

  • इस योजना उत्तराखंड राज्य में जल्द ही प्रारंभ किया जाएगा
  • इस योजना का पर्यवेक्षण राज्य के डीजीपी द्वारा किया जाएगा
  • इस योजना का उद्देश्य राज्य के नागरिकों को एक ही संख्या में सभी आपातकालीन सेवाएं प्रदान करना है
  • राज्य के नागरिकों को तुरंत मदत प्रदान की जाएगी
  • पुलिस नियंत्रण संख्या १००, अग्निशमन संख्या  १०१, स्वास्थ्य सेवा संख्या १०८, बाल सहायता रेखा संख्या  १०९८, महिला सहायता रेखा संख्या  १०९० सभी को  ११२ के माध्यम से पहुंचा जा सकता है
  • लाभार्थी को इन सभी नंबरों की सभी सेवाओं को केवल एक ही संख्या के माध्यम से दी जाएगी
  • इसका मुख्यालय देहरादून में बनाया गया है और इसका नियंत्रण कक्ष हरिद्वार में बनाया जाएगा
  • यह योजना हरिद्वार में एक परीक्षण के आधार पर शुरू की गई है

अन्य महत्वपूर्ण योजनाएं: