स्वच्छा योजना, आंध्र प्रदेश

५ अक्टूबर, २०२१ को आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में कक्षा ७ वीं से १२ वीं तक की लड़कियों के लिए स्वच्छा योजना की शुरुआत की । इस योजना के तहत लाभार्थी लड़कियों को नि:शुल्क सैनिटरी नैपकिन प्रदान किया जाएगा। हर साल करीब १२० नैपकिन मुफ्त मुहैया कराए जाएंगे। इस योजना का उद्देश्य लड़कियों के स्वास्थ्य और मासिक धर्म की स्वच्छता की रक्षा करना है। सुविधाओं के अभाव में गरीब ग्रामीण पारिवारिक पृष्ठभूमि की लड़कियों के लिए यह योजना वरदान साबित होगी। इस योजना के तहत किशोरियों के बीच इस्तेमाल किए गए नैपकिन के उचित निपटान और मासिक धर्म स्वच्छता के संबंध में जागरूकता पैदा की जाएगी।

अवलोकन:

योजना स्वच्छा योजना  
योजना के तहत आंध्र प्रदेश सरकार
द्वारा लॉन्च किया गया मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी
लॉन्च की तारीख ५ अक्टूबर २०२१
लाभार्थी सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में कक्षा ७ वीं से १२ वीं तक की छात्राएं।
लाभ मुफ्त सैनिटरी नैपकिन
प्रमुख उद्देश्य राज्य में छात्राओं की मासिक धर्म स्वच्छता में सुधार करना।

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में छात्राओं के स्वास्थ्य और मासिक धर्म की स्वच्छता में सुधार करना है।
  • इस योजना के तहत सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में कक्षा ७ वीं से १२ वीं तक की छात्राओं को नि:शुल्क सैनिटरी पैड वितरित किए जाएंगे ।
  • इस योजना के तहत प्रत्येक छात्रा को हर साल १२० नैपकिन मिलेंगे।
  • यह योजना लड़कियों को इस्तेमाल किए गए नैपकिन के उपयोग और उचित निपटान के बारे में शिक्षित करेगी जिससे उन्हें अच्छी मासिक धर्म स्वच्छता बनाए रखने में मदद मिलेगी।
  • यह लड़कियों के स्वास्थ्य और स्वच्छता में सुधार करने में मदद करेगा जिससे विभिन्न बीमारियों को रोका जा सकेगा।
  • इस योजना का उद्देश्य राज्य में लगभग १० लाख छात्राओं को लाभ पहुंचाना है।

प्रमुख बिंदु:

  • मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी ने ५ अक्टूबर, २०२१ को स्वच्छा योजना की शुरुआत की।
  • महिलाओं के मासिक धर्म स्वच्छता के महत्व को ध्यान में रखते हुए नि:शुल्क सैनिटरी नैपकिन बांटने के लिए यह योजना शुरू की गई है।
  • इस योजना के तहत सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में कक्षा ७ वीं से १२ वीं तक में पढ़ने वाली किशोरियों को नि:शुल्क सैनिटरी नैपकिन वितरित किए जाएंगे ।
  • प्रत्येक छात्रा को प्रतिवर्ष लगभग १२० नैपकिन प्रदान किए जाएंगे।
  • मासिक धर्म की स्वच्छता और सैनिटरी पैड का उपयोग करना हमेशा ग्रामीण गरीब क्षेत्रों में एक महत्वपूर्ण मुद्दा रहा है, साथ ही वित्तीय बाधाएं और अज्ञानता भी इसे बढ़ा देती है।
  • इस योजना का उद्देश्य लड़कियों को इस्तेमाल किए गए नैपकिन के उपयोग और उचित निपटान के बारे में शिक्षित करना है जिससे उन्हें अच्छी मासिक धर्म स्वच्छता बनाए रखने में मदद मिलती है।
  • महिला शिक्षकों और महिला पुलिसकर्मियों द्वारा माह में एक बार मासिक धर्म स्वच्छता के बारे में छात्रों में जागरूकता फैलाई जाएगी।
  • संयुक्त कलेक्टर (आसरा) योजना के क्रियान्वयन की निगरानी करेंगे और एक महिला शिक्षक को नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा।
  • यह योजना सभी लड़कियों के लिए अपने स्वास्थ्य और स्वच्छता को प्राथमिकता देने और बेहतर बनाने के लिए एक वरदान साबित होगी।
  • इस योजना से लगभग १० लाख छात्राओं को लाभ होगा।
  • योजना के लिए कुल परिव्यय ३२ करोड़ रुपये है।
  • राज्य सरकार राज्य में महिलाओं के मासिक धर्म के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए कई अन्य उपाय कर रही है।
  • स्वच्छ आंध्र प्रदेश कार्यक्रम के तहत ६४१७ भस्मक स्थापित किए जाएंगे।
  • चेयुथा की दुकानों पर सस्ती दरों पर सेनेटरी नैपकिन बेचे जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *