इलेक्ट्रिक टू व्हीलर प्रोग्राम, केरल

१ सितंबर, २०२१ को केरल के विद्युत मंत्री श्री के कृष्णकुट्टी ने राज्य में इलेक्ट्रिक टू व्हीलर प्रोग्राम का उद्घाटन किया। यह योजना भारत सरकार के बिजली मंत्रालय के तहत एक इकाई एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) की एक राज्य स्वामित्व वाली सहायक कंपनी कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (सीईएसएल) द्वारा शुरू की गई है। यह कार्यक्रम केरल राज्य में सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू किया गया एक अनुकूलित कार्यक्रम है। इस योजना के तहत कर्मचारियों के लिए इलेक्ट्रिक वाहन उपलब्ध कराए जाएंगे। यह राज्य में बढ़ी हुई विद्युत गतिशीलता को बढ़ावा देता है। यह पहल मुख्य रूप से राज्य में हरित परिवहन को बढ़ावा देने के लिए है। इस योजना के तहत दोपहिया वाहन केंद्र सरकार के सब्सिडी कार्यक्रम के तहत लाभ के पात्र होंगे। यह कार्यक्रम ऊर्जा प्रबंधन केंद्र, केरल सरकार के सहयोग से क्रियान्वित किया जाएगा।

अवलोकन:

योजना का नाम इलेक्ट्रिक टू व्हीलर प्रोग्राम
योजना के तहत केरल सरकार
द्वारा लॉन्च किया गया कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (सीईएसएल)
उद्घाटन केरल के विद्युत मंत्री श्री के कृष्णकुट्टी
लॉन्च की तारीख १ सितंबर, २०२१
लाभार्थी राज्य के सरकारी कर्मचारी
मुख्य उद्देश्य राज्य में इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को बढ़ावा देना जिससे इलेक्ट्रिक और ग्रीन मोबिलिटी में वृद्धि हो।

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य इलेक्ट्रिक वाहनों के उपयोग को बढ़ावा देना है।
  • यह राज्य में बिजली और हरित गतिशीलता को बढ़ाता है।
  • इसका उद्देश्य सरकारी कर्मचारियों से लगभग १०००० दुपहिया वाहनों की मांग पैदा करना है।
  • यह योजना रोजगार और स्वरोजगार के अवसरों में वृद्धि के साथ-साथ संबद्ध उद्योगों को बढ़ावा देगी।
  • इससे राज्य में परिवहन के साधन मजबूत होंगे।
  • इलेक्ट्रिक वाहनों के बढ़ते उपयोग से लंबे समय में प्रदूषण के स्तर का उल्लेखनीय रूप से मुकाबला करने में मदद मिलेगी और चारों ओर एक सुरक्षित वातावरण तैयार होगा।
  • योजना के तहत पंजीकृत वाहनों को केंद्र सरकार का सब्सिडी कार्यक्रम मिलेगा।

प्रमुख बिंदु:

  • केरल के विद्युत मंत्री श्री के कृष्णकुट्टी ने केरल राज्य में इलेक्ट्रिक टू व्हीलर प्रोग्राम का उद्घाटन किया।
  • कन्वर्जेंस एनर्जी सर्विसेज लिमिटेड (सीईएसएल), एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (ईईएसएल) की एक राज्य स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है, जो भारत सरकार के बिजली मंत्रालय के तहत एक इकाई है।
  • यह कार्यक्रम राज्य में सरकारी कर्मचारियों के लिए शुरू किया गया है।
  • कार्यक्रम के तहत विभिन्न वाहन निर्माताओं के माध्यम से सीईएसएल द्वारा वाहन उपलब्ध कराए जाएंगे।
  • इन वाहनों को केंद्र सरकार के सब्सिडी कार्यक्रम से भी फायदा होगा।
  • इस कार्यक्रम के तहत लाभार्थियों को एक डिजिटल मार्केट प्लेस भी उपलब्ध कराया जाएगा।
  • यह डिजिटल स्पेस इलेक्ट्रिक दोपहिया वाहनों की बुकिंग और खरीदारी के लिए एक मंच प्रदान करेगा।
  • खरीदने के इच्छुक लाभार्थी आधिकारिक पोर्टल @ www.myev.org.in पर जा सकते हैं।
  • यह वर्तमान कोविड की स्थिति में मदद करेगा जिसमें संभावित खरीदारों को वाहन खरीदने के लिए किसी भौतिक स्टोर पर जाने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • यह प्रोग्राम उपयोगकर्ताओं के लिए वर्चुअल अनुभव को सक्षम करेगा जो भौतिक स्टोर अनुभव के समान होगा।
  • एनर्जी मैनेजमेंट सेंटर (ईएमसी) और सीईएसएल केरल में इंस्टीट्यूशन ऑफ इंजीनियर्स में लाभार्थियों के लिए 4 दिवसीय प्रदर्शनी कार्यक्रम भी आयोजित करेंगे।
  • लाभार्थियों के पास टेस्ट ड्राइव भी हो सकते हैं और इलेक्ट्रिक वाहन का वास्तविक अनुभव प्राप्त कर सकते हैं।
  • केरल सरकार हरित और प्रदूषण मुक्त पर्यावरण के लिए कई पहल कर रही है और यह कार्यक्रम उसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।
  • यह कार्यक्रम राज्य में बिजली और हरित गतिशीलता को बढ़ाने के उद्देश्य से नई तकनीक, नवाचार के संचार को सक्षम करेगा।

डोरस्टेप असिस्टेंस स्कीम, केरल

केरल सरकार राज्य में वृद्ध, अपाहिज, निराश्रित और विकलांग लोगों की सहायता के लिए ‘डोरस्टेप असिस्टेंस स्कीम‘ लेकर आई है। इस योजना की घोषणा मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने १२ अगस्त, २०२१ को की थी। इस योजना के तहत राज्य सरकार यह सुनिश्चित करती है कि आपातकालीन दवाओं की डिलीवरी, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, आजीवन प्रमाण पत्र, सीएम आपदा राहत कोष से सहायता के लिए आवेदन की तैयारी जैसी विभिन्न सेवाएं आदि, उनके दरवाजे पर। सरकार इस योजना के तहत और सेवाओं को जोड़ने की योजना बना रही है। यह उन लाभार्थियों की मदद करने का इरादा रखता है जो अपने घरों पर सेवाएं प्रदान करके बाहर जाने में सक्षम नहीं हैं। यह योजना लाभार्थियों को राज्य में उनके घरों में आसानी से सेवाएं और आवश्यक दवाएं प्राप्त करने में सहायता करेगी।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम डोरस्टेप असिस्टेंस स्कीम
योजना के तहत केरल सरकार
द्वारा घोषित मुख्यमंत्री पिनाराई विजयानी
घोषणा तिथि १३ अगस्त २०२१
लाभार्थी राज्य में वरिष्ठ नागरिक, अपाहिज, बेसहारा और विकलांग लोग
लाभ लाभार्थियों को विभिन्न सेवाएं जैसे आपातकालीन दवाएं, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, आजीवन प्रमाण पत्र, आदि उनके दरवाजे पर प्राप्त होंगे।
उद्देश्य विभिन्न सेवाओं के माध्यम से वृद्ध, अपाहिज, निःशक्त, निराश्रित लोगों को उनके दरवाजे पर सहायता प्रदान करना।

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में वृद्ध, अपाहिज, विकलांग, निराश्रित लोगों की सहायता करना है।
  • इस योजना के तहत विभिन्न सेवाएं जैसे आपातकालीन दवाएं, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, आजीवन प्रमाण पत्र आदि उनके दरवाजे पर उपलब्ध कराई जाएंगी।
  • यह योजना लाभार्थियों को उनके घर पर आवश्यक सेवाएं प्राप्त करने के लिए घर पर आराम करने में मदद करेगी।
  • उन लोगों की सहायता करेगा जो इन महामारी स्थितियों में सरकारी कार्यालयों / चिकित्सा दुकानों आदि के लिए बाहर जाने में सक्षम नहीं हैं।
  • यह लाभार्थियों को उनके घरों की सुरक्षा में सेवाएं प्राप्त करने में सक्षम बनाएगा।
  • इस योजना से लाभार्थियों को सामाजिक सुरक्षा प्रदान करेगी।
  • यह राज्य में लाभार्थियों के कल्याण को सुनिश्चित करता है।

योजना विवरण:

  • १३ अगस्त, २०२१ को मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन डोरस्टेप असिस्टेंस स्कीम योजना की घोषणा की गई।
  • यह योजना राज्य में वृद्ध, अपाहिज, निराश्रित और विकलांग लोगों के कल्याण के लिए बनाई गई है।
  • इस योजना के तहत लाभार्थियों को आपातकालीन दवाओं की डिलीवरी, सामाजिक सुरक्षा पेंशन, आजीवन प्रमाण पत्र, मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष से सहायता के लिए आवेदन तैयार करना, उपशामक देखभाल आदि सेवाएं उनके घर पर मिलती हैं।
  • ये सेवाएं लाभार्थियों को वार्ड सदस्य की अध्यक्षता में स्थानीय सरकारी संस्थानों, आशा कार्यकर्ताओं और स्वयंसेवकों के माध्यम से प्रदान की जाएंगी।
  • समिति सदस्यों के फोन नंबर वाले कार्ड जारी करेगी सरकार।
  • ये कार्ड जनता को दिए जाएंगे और वे आवश्यकतानुसार समिति तक पहुंच सकते हैं।
  • आशा कार्यकर्ता अपनी आवश्यक सेवाओं को समझने के लिए लाभार्थियों से संपर्क करेंगी।
  • आशा कार्यकर्ताओं की सहायता करेंगे अक्षय केंद्र व स्वयंसेवक करेंगे।
  • यह योजना सितंबर, २०२१ के महीने में शुरू होगी।
  • राज्य के ५० स्थानीय निकायों में इसकी शुरुआत सबसे पहले होगी।
  • फिर योजना के प्रदर्शन और सफलता के आधार पर इसे पूरे राज्य में आगे बढ़ाया जाएगा।
  • लाभार्थियों के घर-द्वार पर नि:शुल्क सेवाओं के इस वितरण की समीक्षा एवं निगरानी जिला स्तर पर नियमित अंतराल पर की जाएगी।
  • क्रियान्वयन में गतिविधियों की निगरानी में जिला कलेक्टर एवं जिला योजना समिति की अहम भूमिका होगी।
    यह योजना सहायता प्रदान करेगी और राज्य में लाभार्थियों का कल्याण सुनिश्चित करेगी।

केरल में कैंसर सुरक्षा योजना

कैंसर एक लाइलाज बीमारी में से एक है अगर हम एक प्रारंभिक अवस्था में इस बीमारी का देखभाल करते है तो  इस बीमारी का इलाज योग्य होता है। लेकिन गरीब पृष्ठभूमि वाले परिवार के लिए क्या? क्योंकि इस बीमारी को रोकने के लिए अधिक पैसे  की आवश्यकता लगाती है और इसलिए केरल सरकार ने कैंसर पीड़ितों की सहायता के लिए तत्काल जरूरत प्रदान करने का निर्णय लिया है।केरल राज्य के गरीब परिवार के लिए इस योजना का शुभारंभ किया है। कैंसर सुरक्षा योजना केरल सरकार द्वारा १  नवंबर २००८ को शुरू की गई योजना है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य उन बच्चों के लिए नि:शुल्क उपचार प्रदान करना है जिनकी आयु १८ साल से कम है और कैंसर से पीड़ित है और गरीब परिवार से संबंधित है।
                                                                                                                                             Cancer Suraksha Scheme In Kerala (In English):
कैंसर सुरक्षा योजना के लाभ:
  • एक मरीज को  इस योजना के तहत ५०,००० रुपये की आर्थिक साहयता प्रदान की जाएंगी।
  • आपातकालीन स्थिति में, इस योजना के तहत बच्चों को सर्जरी उपचार भी प्रदान किया जाएगा।
  • इस योजना के तहत जो बच्चें ने पंजीकृत किया है, उस बच्चें को नि:शुल्क में उपचार प्रदान किया जाएंगा।
कैंसर सुरक्षा योजना के लिए आवश्यक पात्रता और शर्तें:
  • बच्चें  केरल राज्य के निवासी होने चाहिए।
  • राज्य के बच्चों को गरीबी रेखा के नीचे (बीपीएल) परिवार से होना चाहिए।
  • बच्चों का मेडिकल बीमा होना चाहिए।
  • यह योजना केवल १८ साल से कम उम्र के बच्चों के लिए ही लाभदायक है, लेकिन यदि वह उपचार के दौरान १८ साल पूरा करता है, तो लाभ एक साल से आगे की अवधि के लिए उपलब्ध है।
योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:
  • निवासी प्रमाण पत्र (जैसे निवास प्राधिकरण से प्रमाण पत्र, मतदाता पहचान पत्र , बिजली का  बिल)
  • बच्चे के माता-पिता का आय प्रमाण पत्र
  • बीपीएल कार्ड
  • बच्चें की मेडिकल रिपोर्ट
कैंसर सुरक्षा योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए किससे और कहां संपर्क करें:
  • केरल सामाजिक न्याय विभाग के कल्याणकारी संस्थानों के अधीक्षक से संपर्क कर सकते है।
  • केरल जिले की महिला निदेशक और संबंधित जिलों के बाल विकास से संपर्क कर सकते है। बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) से संपर्क कर सकते है। आप इस योजना के तहत अस्पताल से संपर्क कर सकते है।
अधिक जानकारी के लिए यहां जाएं:

सीईओ केरल मतदाता सूची २०१९: केरल मतदाता सूची में अपना नाम कैसे जांचें?

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) केरल आम चुनाव २०१९  के लिए तैयार है। उन्होंने लोकसभा चुनाव २०१९ की अंतिम मतदाता सूची तैयार की है। सभी मतदाता की सूची आधिकारिक वेबसाइट ceo.kerala.gov.in पर उपलब्ध है। मतदाता पोर्टल पर केरल मतदाता सूची में ऑनलाइन अपना नाम खोज सकते है। केरल के सीईओ ने अपनी वेबसाइट पर सभी चुनाव संसाधनों को बनाया है। मतदाता पहचान पत्र के आवेदन करने के लिए वेबसाइट पर विभिन्न आवेदन पत्र मौजूद है। नागरिक राज्य चुनाव आयोग को अपने सवालों की शिकायत भी कर सकते है।

                                                                                                 CEO Kerala Electoral Roll 2019 (In English):

मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) केरल

सीईओ केरल मतदाता सूची में अपना नाम कैसे जांचें?

  • सीईओ केरल आधिकारिक वेबसाइट पर जाने के लिए यहां क्लिक करें। 
  • मतदता सूची खोजें मेनू पर क्लिक करें या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करें
  • आप मतदाता विवरण जैसे नाम या मतदाता पहचान पत्र, जिला, विधानसभा क्षेत्र से खोज सकते है और खोजें बटन पर क्लिक करे।

सीईओ केरल मतदाता सूची में अपना नाम खोजें

  • आपका नाम मतदाता सूची में दिखाई देंगा।

सीईओ केरल मतदाता सूची पीडीएफ डाउनलोड कैसे करे:

  • सीईओ केरल पोर्टल पर जाने के लिए यहां क्लिक करे
  •  मतदाता सूची मेनू पर क्लिक करें या सीधे लिंक के लिए यहां क्लिक करें
  • जिला, विधानसभा क्षेत्र का चयन करें मतदाता सूची देखे बटन पर क्लिक करे।
  • मतदान केंद्र के लिहाज से मतदाता सूची दिखाई जाएंगी, पीडीएफ मतदाता सूची डाउनलोड करने के लिंक पर क्लिक करे।

डाउनलोड केरल मतदाता सूची

 

 

 

 

Kerala-Pravasi-Welfare-Board

प्रवासी चिट्टी योजना

केरल सरकार ने प्रवासी चिट्टी योजना शुरू की है। यह देश से बाहर रहने वाले भारतीयों के लिए बचत योजना है। यह योजना केरल राज्य वित्तीय उद्यम (केएसएफई)  द्वारा लागू की गई है। यह एक पुरानी योजना है और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रहने वाले लोगों के लिए लागू थी। अब यह योजना सभी जीसीसी देशों में रहने वाले भारतीयों के लिए विस्तारित की है।

देश के बाहर रहने वाले भारतीय द्वारा निवेश किया गया पैसा केरल सरकार की विभिन्न विकास परियोजनाओं में लगाया जाता है। अब ग्राहक केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड (केआईआईएफबी) परियोजनाओं का चयन कर सकते है और जहां उनके पैसे निवेश करना चाहते वहा निवेश कर सकते है। केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड (केआईआईएफबी)  विभिन्न बुनियादी ढांचे के विकास में राशी जुटाने और निवेश के लिए एक संगठन है।

Pravasi Chitty Scheme (In English)

प्रवासी चिट्टी योजना

  • सरकार: केरल सरकार
  • लाभ: ज्यादा लाभ देने वाली विशसनिया सरकारी बचत योजना
  • लाभार्थी: विदेशों में रहने वाले केरल राज्य के नागरिक

अब तक ४,३०० लोग प्रवासी चिट्टी योजना से जुड़ चुके है। उन्होंने योजना में १४ करोड़ रुपये का निवेश किया है। इस योजना को २०१८ में शुरू किया गया है और इच्छुक लोग ऑनलाइन योजना में निवेश कर सकते है।

सभी ग्राहकों को उनके निवेश के कार्यकाल के दौरान जीवन बीमा प्रदान किया जाता है। यदि ग्राहक की कार्यकाल के दौरान मर जाता है तो एलआईसी बाकी किश्तों का भुगतान करती है। योजना के तहत ग्राहकों को दुर्घटना का भी बिमा प्रदान किया जाता है।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई):

प्रधानमंत्री जन-धन योजना (पीएमजेडीवाई) साल २०१४ में अपने पहले स्वतंत्रता दिवस भाषण पर भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया मिशन है। इस मिशन को शुरू करने का उद्देश्य बैंकिंग बचत और जमा खातों में बीमा,पेंशन और डेबिट / क्रेडिट कार्ड सेवाओं को प्रदान करना है। इस योजना के तहत उपयोगकर्ताओं को शून्य शेष राशि के साथ एक बैंक खाता खोलने की अनुमति दी जाती है और उन्हें रुपये डेबिट कार्ड दिया जाता है। बैंकिंग सेवाओं को इतनी आसानी से उपलब्ध करना प्रधान मंत्री जन-धन योजना का मुख्य उद्देश है।इस योजना के तहत एक हफ्ते की अवधि में अधिकांश बैंक खातों को खोलने का गिनीज विश्व रिकॉर्ड बना है  और एक बड़ी उपलब्धि यह है कि १० फरवरी, २०१६ तक  इस योजना के तहत २००  मिलियन बैंक खाते खोले जा रहे हैं और ३२३.७८ अरब जमा किये गये हैं। यह योजना बैंकिंग उद्योग के लिए एक बड़ी सफलता बन गई है।

प्रधान मंत्री जन-धन योजना के लाभ:

  • शून्य शेष राशि खाता: इस योजना के तहत उपयोगकर्ताओं को कोई भी राष्ट्रीयकृत बैंक खाता खोलने की अनुमति है।
  • डेबिट कार्ड सेवा: लाभार्थी को शून्य शेष राशि खाते के साथ रुपये डेबिट कार्ड की सेवा प्रदान की जाती है।
  • आकस्मिक मृत्यु बीमा:  लाभार्थी की आकस्मिक मौत होने पर खाताधारक के पद उम्मीदवार को १,००,००० रुपये बीमा राशी प्रदान की जाती है।
  • जीवन बीमा कवर: २६ जनवरी २०१५ तक खोले गए सभी खातों को अतिरिक्त ३०,००० रुपये जीवन बीमा राशी दी जाएगी।
  • ओवरड्राफ्ट की अनुमति: लाभार्थी खाता खोलने के छह महीने के बाद ५००० रुपये का ओवरड्राफ्ट कर सकते हैं।   
  • ऑनलाइन बैंकिंग: डिजिटलीकरण के साथ प्रधानमंत्री जन-धन योजना में भी सभी खाते को ऑनलाइन बैंकिंग सुविधाओं का आनंद लेने की अनुमति है।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना के लिए पात्रता:

  • भारतीय राष्ट्रीयता वाला कोई भी व्यक्ति जन-धन योजना के लिए पात्र है।
  • १० साल की आयु का कोई भी व्यक्ति खाता खोलने के लिए पात्र है लेकिन नाबालिगों को अपने खाते का प्रबंधन करने के लिए अभिभावक होना चाहिए।
  • अगर व्यक्ति के पास राष्ट्रीयता का कोई सबूत नहीं है लेकिन बैंक अनुसंधान शोध पर वह व्यक्ति भारतीय पाया जाने पर इस योजना के लिए पात्र है।
  • लाभार्थी का पहले से ही राष्ट्रीयकृत बैंक में बचत खाता है  वह अपना बचत खाता प्रधानमंत्री जन-धन योजना में स्थानांतरित कर सकता है और इस योजना लाभ ले सकता है।

प्रधानमंत्री जन-धन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • पते का सबूत  
  • पासपोर्ट आकार की फोटोग्राफ
  • सरकार द्वारा प्रमाणीकरण किया गया पहचान प्रमाण पत्र  

प्रधानमंत्री जन-धन योजना योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए किससे संपर्क करना है और कहां से संपर्क करना है:

लगभग सभी राष्ट्रीयकृत बैंक (एसबीआई बैंक , बैंक ऑफ महाराष्ट्र, पंजाब नेशनल बैंक, एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, एक्सिस बैंक  और अन्य राष्ट्रीयकृत बैंक ) वहां हैं जहां कोई इस योजना के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकता है।

योजना के लिए नामांकन के लिए ऑनलाइन फॉर्म:

प्रधान मंत्री जन-धन योजना योजना के लिए आवेदन पत्र और प्रक्रियाएं किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंकों में बहुत अच्छी तरह से समझाई गई हैं।

  • हिंदी में प्रपत्र: http://www.pmjdy.gov.in/files/forms/account-opening/hindi.pdf  
  • अंग्रेजी में प्रपत्र: http://www.pmjdy.gov.in/files/forms/account-opening/English.pdf

विवरण और अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के बारे में और जानने के लिए निचे दिए लिंक पर जाएं

विवरण: 

  • http://www.pmjdy.gov.in/

संबंधित योजनाए:

  • प्रधानमंत्री जन-धन योजना

प्रवासी लाभांश पेंशन योजना (पीडीपीएस): गैर-निवासी केरलवासियों (एनआरके) के लिए पेंशन योजना-

केरल सरकार राज्य में जल्द ही गैर-निवासी केरलवासियों (एनआरके) के लिए प्रवासी लाभांश पेंशन योजना (पीडीपीएस) की घोषणा करेगी। केरल राज्य के राज्यपाल पी सतशिवम ने राज्य विधानसभा में अपने संबोधन के दौरान इस योजना की घोषणा की है। एक बार ५ लाख रुपये का भुगतान करने पर गैर-निवासी केरलवासियों (एनआरके) के लिए एक नियमित पेंशन योजना है।

इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य दुनिया भर के विभिन्न देशों में रहने वाले प्रवासी मलयालियों का कल्याण और विकास करना है। प्रवासी लाभांश पेंशन योजना (पीडीपीएस) के तहत एकत्रित धनराशि को केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट फंड बोर्ड (केआयआयएफबी) में निवेश किया जाएगा। इस धनराशि का इस्तेमाल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट प्रोजेक्ट्स के लिए किया जाएगा।

२१ लाख केरलवासी जो विदेशों में पलायन कर चुके है। उनमें से ९०% मध्य पूर्व में रहते है। राज्य में प्रेषण (भेजा हुआ धन) ८५,०९२  करोड़ रुपये है।

                                                                            Pravasi Dividend Pension Scheme (PDPS) (In English):

  • योजना: प्रवासी लाभांश पेंशन योजना (पीडीपीएस)
  • राज्य: केरल
  • लाभ: नियमित पेंशन योजना
  • लाभार्थी:  गैर-निवासी केरलवासि (एनआरके / एनओआरकेए) प्रवासी मलयाली
  • द्वारा घोषणा: केरल राज्य के राज्यपाल पी सतशिवम

एनओआरकेए के लिए शुरू की जाने वाले अंतर्राष्ट्रीय टोल-फ्री नंबर और पोर्टल के साथ कॉल सेंटर।

केरल सरकार गैर-निवासी केरलवासियों (एनआरके) के लिए अंतरराष्ट्रीय टोल-फ्री नंबर के साथ एक कॉल सेंटर शुरू करने पर काम कर रही है। एनआरके जानकारी प्राप्त करने, समस्याओं की रिपोर्ट करने, सहायता प्राप्त करने और शिकायत दर्ज करने के लिए कॉल कर सकते है।

सरकार प्रवासी मलयाली के लिए एक परस्पर संवादात्मक पोर्टल शुरू करने की भी योजना बना रही है। यह पोर्टल जानकारी प्रदान करेगा, विभिन्न नौकरी के अवसर और ऑनलाइन सत्यापन और भर्ती प्रक्रिया को भी प्रदान करेगा। मुख्य रूप से टोल-फ्री नंबर और पोर्टल विदेशों में रहने वाले अनिवासी भारतीयों के लिए संपर्क का बिंदु के रूप में कार्य करेगा।

 

स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति:   

केरल सरकार (महाविद्यालय सदृश शिक्षा विभाग) द्वारा केरल राज्य के बीपीएल (गरीबी रेखा के निचे) परिवार के छात्रों के लिए स्नातक और स्नातकोत्तर जैसी उच्च शिक्षा प्राप्त करने के सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति सुरु की है। इस योजना का मुख्य उद्देश आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है।

                                                     Suvarna Jubilee Merit Schoarship For UG & PG studies (In English)

  स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति  के लाभ:

  • सुवर्ण जयंती मेरिट छात्रवृत्ति छात्रों को स्नातक और स्नातकोत्तर जैसी उच्च शिक्षा का अध्ययन करने के लिए वित्तीय सहायता का लाभ प्रदान करती है। वित्तीय सहायता की संरचना नीचे उल्लिखित है।
  • चयनित उम्मीदवारों या विद्वानों को १०,००० (दस हजार) रुपये प्रति वर्ष छात्रवृत्ति राशि प्रदान की जाएंगी।
  • छात्रवृत्ति राशि सीधे छात्र के बैंक खाते में जमा की जाएगी।

स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति लागू करने के लिए आवश्यक पात्रता और शर्तें:

  • छात्र सरकार मान्य सहायता प्राप्त कॉलेज या विश्वविद्यालय विभाग में स्नातक (यूजी) या स्नातकोत्तर (पीजी) पाठ्यक्रम के प्रथम वर्ष में होना चाहिए।
  • छात्र को बीपीएल परिवार से संबंधित होना चाहिए।
  • पात्रता परीक्षा में छात्र को ५०% या उससे अधिक अंक प्राप्त करने चाहिए।

स्नातक और स्नातकोत्तर अध्ययन के लिए सुवर्णा जयंती मेरिट छात्रवृत्ति  का  आवेदन / प्रवेश प्रक्रिया और आवश्यक दस्तावेज:

  • बीपीएल कार्ड या राशन कार्ड
  • आधार कार्ड
  • बैंक विवरण, खाता नंबर, शाखा का नाम, खाता धारक का नाम, आयएफएससी कोड, एमआयसीआर कोड
  • पिछले साल के परीक्षा की मार्कशीट (पास)
  • निवास प्रमाण
  • आय प्रमाण पत्र (राशि का उल्लेख नहीं रहा तो चलेंगा लेकिन यह राशि कम का होना चाहिए)
  • पूरी तहर भरा हुआ आवेदन पत्र
  • पहचान प्रमाण
  • वास्तविक प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट आकर की तस्वीर 

आवेदन की प्रक्रिया:

  • उम्मीदवार को केरल सरकार के आधिकारिक छात्रवृत्ति पोर्टल यानी  http://www.dcescholarship.kerala.gov.in  पर लॉगिन करना होगा।
  • उम्मीदवार को छात्रवृत्ति पोर्टल पर ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा।
  • उम्मीदवार को आवेदन आईडी और पासवर्ड उत्पन्न करना होंगा।
  • उम्मीदवार को आवेदन आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके छात्रवृत्ति पोर्टल पर जाना होगा और अपलोड पासपोर्ट आकार की तस्वीर के साथ सावधानीपूर्वक पूर्ण आवेदन पत्र भरना होगा।
  • उस आवेदन पत्र का प्रिंट आउट प्राप्त करे।

किससे संपर्क करें और कहां संपर्क करें:

  • किसी भी प्रकार के सवालों के लिए, उम्मीदवार कॉलेज / संस्थान से संपर्क कर सकता है, जहां से छात्र  शिक्षा प्राप्त करना चाहता है।
  • महाविद्यालय सदृश शिक्षा विभाग है: ईमेल: dcescholarship@gmail.com

संदर्भ और विवरण:

उन्नत भारत अभियान:

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) ने भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) और भारतीय विज्ञान संस्थानों सहित उच्च शिक्षा संस्थानों को जोड़ने के उद्देश्य से  उन्नत भारत अभियान नामक एक कार्यक्रम शुरू किया है। अनुसंधान (आईआईएसईआरएस) आदि स्थानीय समुदायों के साथ उपयुक्त प्रौद्योगिकियों के माध्यम से विकास चुनौतियों का समाधान करने के लिए है। इस कार्यक्रम के तहत, उच्च शिक्षा के निम्नलिखित १६ संस्थानों द्वारा हस्तक्षेप के लिए १३२ गांवों की पहचान की गई है।  उन्नत भारत अभियान एक भारत देश के वास्तुकला का निर्माण करने में सहायता ज्ञान संस्थानों का लाभ उठाकर ग्रामीण विकास प्रक्रियाओं में परिवर्तनकारी परिवर्तन की दृष्टि से प्रेरित है।  उन्नत  भारत अभियान उच्च शिक्षा संस्थानों को विकास चुनौतियों की पहचान करने और सतत विकास में तेजी लाने के लिए उचित समाधान विकसित करने के लिए ग्रामीण भारत के लोगों को काम करने में सक्षम बनाना है।उन्नत भारत अभियान का मुख्य उद्देश व्यवसायों के लिए ज्ञान और प्रथाओं को प्रदान करना है और ग्रामीण भारत की विकास आवश्यकताओं के जवाब में सार्वजनिक और निजी दोनों क्षेत्रों की क्षमताओं को तरक्की करने के लिए समाज और एक समावेशी शैक्षणिक प्रणाली के बीच एक सार्थक चक्र बनाना है।

                                                                                                              Unnat Bharat Abhiyaan (in English)

निम्नलिखित १६ संस्थान में उच्च शिक्षा हैं:

  • आईआईटी बॉम्बे
  • आईआईटी इंदौर
  • आईआईटी मंडी
  • आईटी जयपुर
  • आईआईटी भुवनेश्वर
  • आईआईटी जोधपुर
  • आईआईटी पटना
  • आईआईटी दिल्ली
  • आईआईटी कानपुर
  • आईआईटी रुड़की
  • आईआईटी गुवाहाटी
  • आईआईटी खड़गपुर
  • आईआईटी रोपर
  • आईआईटी हैदराबाद
  • आईआईटी मद्रास
  • आईसर भोपाल

उन्नत भारत अभियान के उद्देश्य:

  • ग्रामीण भारत की जरूरतों के अनुरूप अनुसंधान और प्रशिक्षण में उच्च शिक्षा के संस्थानों में संस्थागत क्षमता का निर्माण करना, ग्रामीण शिक्षा को उच्च शिक्षा संस्थानों से पेशेवर संसाधन समर्थन  प्रदान करना है।
  • विशेष रूप से जिन्होंने विज्ञान, इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी और प्रबंधन के क्षेत्र में विद्यापीठ में उत्कृष्टता हासिल की है।

संपर्क विवरण:

प्रोफेसर वी के विजय प्रमुख, ग्रामीण विकास और प्रौद्योगिकी केंद्र, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, नई दिल्ली -११००१६

संदर्भ और विवरण:

अधिक जानकारी के लिए उन्नत भारत अभियान यात्रा करें: http://unnat.iitd.ac.in/index.php/en/

 

प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई):

प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना (पीएमजेजेबीवाई) वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली द्वारा घोषित की गयी योजना है और प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी की पहल है जिसके तहत किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक के खाताधारक इस प्रधान मंत्री जीवन बीमा योजना के लिए नामांकन कर सकते है।किस्त की राशि ३३० रुपये  प्रति वर्ष योजना के  जुड़े खाते से स्वचालित रूप से कटौती की जाएगी। यह योजना प्रधानमंत्री जन धन योजना के तहत खोले गए खातों से जुड़ी होगी।

                                                                                Pradhan Mantri Jivan Jyoti Bima Yojana (In English)

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना का लाभ:

  • २,००,००० रुपये का बीमा: यदि लाभार्थी की दुर्घटना या प्राकृतिक मौत होने पर लाभार्थी  के नामांकित व्यक्ति के खाते  में २,००,००० रुपये प्रदान किये जाएंगे।
    .
  • न्यूनतम किस्त राशि: योजना की किस्त की राशि केवल ३३० रुपये प्रति वर्ष है।योजना के लिए शून्य शेष राशि के साथ पंजीकरण कर सकते है। प्रधान मंत्री जन धन योजना (शून्य शेष राशि खाता) के तहत खोला गया खाता इस योजना से जुड़ा हुआ है।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के लिए पात्रता:

  • लाभार्थी के पास किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक में खाता होना चाहिए।
  • लाभार्थी की आयु १८ से ५० साल होनी चाहिए।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • आधार कार्ड।

प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए किससे संपर्क करना और कहां से संपर्क करना:

  • जो इस योजना के लिए पंजीकरण करना चाहता है, वह किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक से संपर्क कर सकता है।
  • भारतीय डाक घर जहां विवरण उपलब्ध है।

योजना के लिए नामांकन के लिए ऑनलाइन आवेदन पत्र डाउनलोड करें:
 

  •  भारतीय डाक :  http://www.indiapost.gov.in/pdf/Jansuraksha%20Scheme/Final%20PMJJY%20Form.pdf
  • भारतीय स्टेट बैंक :
    http://www.sbilife.co.in/sbilife/images/file/documents/PMJJBY_claim_form_and_dischar
    ge_vouc
  • ऐक्सिस बैंक :  http://axis.bank.com/download/PMJJBY-Scheme-English.pdf
  • एचडीएफसी बैंक :  http://www.hdfc.com/htdocs/common//pdf/Claim-Process-and-forms-for-
    PMJJBY.pdf
  • पंजाब नेशनल बैंक :  https://www.pnbindia.in/new/Upload/En/PMJJBY_yojana.pdf
  • बैंक ऑफ महाराष्ट्र :  https://www.bankofmaharashtra.in/downdocs/Prdhan-Mantri-Jeevn-Joyti-Bima-Yojana

अन्य योजनाए:

  • प्रधान मंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना