स्वाहिद कुशल कोंवर  सरजनिं  ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम: वरिष्ठ नागरिकों के लिए पेंशन योजना:

असम के मुख्यमंत्री श्री सरबानंद सोनोवाल ने राज्य के वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वाहिद कुशल  कोंवर  सरजनिं  ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम योजना की शुरुआत की है।इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के वरिष्ठ नागरिकों का समर्थन करना है। इस योजना के तहत वरिष्ठ नागरिको या वृद्ध लोगों को हर महीने में पेंशन प्रदान की जाएगी ताकि वे  सम्मान के साथ रह सकें। राज्य सरकार इस योजना के माध्यम से वरिष्ठ नागरिको या वृद्ध लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।इस योजना के लिए ४०० करोड़ रुपये आवंटित किए गए है। इस योजना को २  अक्टूबर २०१८ को महात्मा गांधी जयंती के कार्यक्रम के शुभ अवसर पर शुरू कीया है।

                            Swahid Kushal Konwar Sarbajanin Briddha Pension Achoni Assam (In English):

 स्वाहिद कुशल कोंवर  सरजनिं  ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम क्या है?

 असम राज्य में वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक पेंशन योजना है।

 स्वाहिद कुशल कोंवर सरजनिं ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल असम राज्य के निवासियों के लिए लागू है।
  • ६० साल से अधिक उम्र के लोग इस योजना के लिए  आवेदन कर सकते है।
  • लाभार्थी अन्य सरकारी योजनाओं के तहत पहले से ही लाभ प्राप्त कर रहा हो, वे इस योजना के लिए पात्र नही है।
  •  जो लोग सरकारी नौकरियों में काम कर रहे हैं वे इस योजना के लिए पात्र नहीं है।
  •  जो लोग आयकर चुका रहे  है या जिनकी वार्षिक आय २.५  लाख से अधिक है वह इस  योजना के लिए पात्र नहीं है।

 स्वाहिद कुशल कोंवर सरजनिं ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम आवेदन करने के लिए आवश्यक दस्तावेजों की सूची:

  • बैंक खाता
  • जन्म प्रमाण पत्र (जन्म प्रमाण पत्र, स्कूल छोड़ने का प्रमाण पत्र या पैन कार्ड)

 स्वाहिद कुशल कोंवर सरजनिं ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम के लिए आवेदन कैसे करें?

पेंशन योजना के लिए आवेदन ऑनलाइन या ऑफ़लाइन किया जा सकता है। स्वाहिद कुशल  सरजनिं ब्रिद्ध पेंशन अचोनी असम योजना का आवेदन पत्र ग्राम पंचायत / विकास खंड/ नगर निगम / नगर पालिका बोर्ड/ नगर समिति में उपलब्ध है।योजना के लिए आवेदन करने में उनकी मदत करते है। सभी दस्तावेजों की सच्ची प्रतियां प्रदान करें, आवेदन पत्र को भरें और आवेदन को पूरा करने के लिए इसे सबमिट करें। पेंशन सीधे लाभार्थी वरिष्ठ नागरिकों के बैंक खातों में स्थानांतरित की जाएगी।

संबंधित योजनाए:

  • पेंशन योजना
  • वरिष्ठ नागरिको को लिए पेंशन योजना

 

 

पेंशन आपके द्वार योजना मध्य प्रदेश: मध्य प्रदेश के वरिष्ठ नागरिकों को उनके दरवाजे पर पेंशन प्राप्त करने के लिए –

मध्य प्रदेश सरकार ने पेंशन आपके द्वार योजना की घोषणा की है। मध्य प्रदेश के माध्यम से वरिष्ठ नागरिकों और अन्य लाभार्थियों को मासिक पेंशन उनके दरवाजे पर वितरित की जाएगी।

इस योजना के माध्यम से वृद्ध वरिष्ठ नागरिकों को अपनी पेंशन प्राप्त करने के लिए हर महीने बैंकों का दौरा करने की आवश्यकता नहीं होंगी। इस योजना को भारत डाक योजना की मदत से लागू किया जाएगा। इस योजना का लाभ पाने के लिए लाभार्थियों को केवल निकटतम डाकघर में अपना खाता खोलने की आवश्यकता है। इस योजना का कार्यान्वयन १  जनवरी २०१९ से शुरू हो गया है।

                                                                    Pension Aapke Dwar Yojana Madhya Pradesh (In English)

 मध्य प्रदेश पेंशन आपके द्वार योजना: एक मध्य प्रदेश सरकार की योजना जिसके तहत वरिष्ठ नागरिकों को मासिक पेंशन उनके दरवाजे पर प्रदान की जाएंगी।

 मध्य प्रदेश पेंशन आपके द्वार योजना  का लाभ:

  • मासिक पेंशन लाभार्थियों के दरवाजे पर वितरित की जाएंगी।
  • लाभार्थी को पेंशन राशि प्राप्त करने के लिए बैंकों में जाने की आवश्यकता नहीं है।
  • लाभार्थी को बैंकों में कतारों में खड़े होने की आवश्यकता नहीं है।

 मध्य प्रदेश पेंशन आपके द्वार योजना  के  लाभार्थी:

  • वरिष्ठ नागरिक
  • गांवों में पेंशन योजना के लाभार्थी

विभिन्न पेंशन योजना लाभार्थियों और वरिष्ठ नागरिकों को इस योजना का लाभ मिलेगा। उन्हें अपनी पेंशन पाने के लिए शहरों में जाने की जरूरत नहीं है। लाभार्थी को केवल भारतीय डाक में एक खाता खोलना होंगा या यदि उनके पास पहले से ही बैंक खाता होने पर उसे स्थानांतरित करना होंगा। उनकी मासिक पेंशन उनके डाकघर खाते में जमा की जाएगी और हर महीने उनके घरों तक पहुंचाई जाएगी। डाक विभाग खाता खोलने और खाता स्थानांतरण की सुविधा के लिए राज्य भर के ग्रामीण क्षेत्रों में शिविरों की व्यवस्था करेंगी।

पेंशन आपके द्वार योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

  • लाभार्थी को नजदीकी डाकघर में अपना खाता खोलने या स्थानांतरित करने के लिए जाना होंगा।
  • मौजूदा खाते के लिए आधार कार्ड, पते के प्रमाण पत्र और बैंक खाते के विवरण आवश्यक है।
  • लाभार्थी डाकघर का खाता खोले या अपना बैंक खाते को स्थानांतरित करे।

एक बार आपका खाता डाकघर में खुलने के बाद आपकी मासिक पेंशन आपके घर पर प्रदान की जाएगी।

और पढो:

  • मध्य प्रदेश में योजनाओं की सूची
  • मध्य प्रदेश में वरिष्ठ नागरिकों के लिए योजनाओं और सब्सिडी की सूची

संबंधित योजनाएं:

 

 

पढना लिखना अभियान: अशिक्षित परिवार के बड़े सदस्यों को पढ़ाने के लिए बच्चे

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) एक पढना लिखना अभियान शुरू करने वाला है।इस अभियान जिसके तहत बच्चे अशिक्षित परिवार के बुजुर्ग सदस्यों को पढ़ाएंगे। मानव संसाधन विकास मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने इस योजना की घोषणा की है। ६ वी से १० वीं कक्षा के बीच के स्कूल के बच्चों को परिवार में अपने माता-पिता,दादा-दादी और रिश्तेदारों को पढ़ाने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।अभियान का उद्देश्य देश में साक्षरता दर में वृद्धि करना और अशिक्षित नागरिक को सशक्त बनाना है।

अभिनव  पढना लिखना अभियान देश में निरक्षरता विकिरण में मदत करेगा। स्कूल के बच्चे अपने स्कूल के बाद शिक्षण का सौंपा गया काम (असाइनमेंट) कर सकते है। भारत देश भर में अगले २ महीने में पढना लिखना अभियान शुरू किया जाएगा।

                                                                                                              Padhna Likhna Abhiyan (in English)

पढना लिखना अभियान क्या है:

एक साक्षरता अभियान जिसके तहत अशिक्षित परिवार के सदस्यों को पढ़ाने के लिए स्कूल के बच्चों को प्रोत्साहित किया जाएगा।

मानव संसाधन विकास मंत्री ने एक बच्चे के रूप में कहा कि वह पढ़ने और लिखना सिखाकर परिवार और पड़ोसी बुजुर्ग सदस्यों को पढ़ाने का प्रयोग करता था।यह अभियान परिवार के छात्रों और बुजुर्गों दोनों की मदत करेगा।

पढना लिखना अभियान का उद्देश्य:

  • इस योजना के तहत भारत देश में साक्षरता के दर बढ़ाया जाएंगा।
  • इस योजना के माध्यम से देश में हर कोई पढ़ और लिख सकेंगा।
  • जो लोग अपनी जिन्दगी में शिक्षा प्राप्त नहीं कर सके उन लोगों को शिक्षा प्राप्त करने का अवसर प्रदान किया जाएंगा।

पढना लिखना अभियान का लाभ:

  • स्कूल के बच्चों को उनके परिवार के सदस्यों को पढ़ाते समय शिक्षक/गुरूजी होने का मौका मिलेंगा।
  • अशिक्षित बुजुर्गों को मुफ्त में शिक्षण प्रदान किया जाएंगा।
  • स्कूल के बच्चों को शिक्षण के लिए आवश्यक अध्ययन सामग्री प्रदान की जाएगी।

पढना लिखना अभियान में कौन भाग ले सकता है?

  • स्कूल के बच्चे जो ६ वीं से १० वीं कक्षा में पढ़ रहे है वह इस अभियान में भाग ले सकते है।
  • उनके माता-पिता,दादा दादी,रिश्तेदारों इत्यादि इस अभियान में भाग ले सकते है।

अभियान का सबसे महत्वपूर्ण उद्देश्य समाज में अशिक्षित महिलाओं को शिक्षित करना है। यह महत्वपूर्ण है कि माता-पिता शिक्षित हों ताकि वे अपने बच्चों को प्रेरित कर सकें और बच्चे को सही मार्गदर्शन प्रदान कर सकें।

संबंधित योजनाएं:

  • मानव संसाधन विकास (एमएचआरडी) मंत्रालय द्वारा योजनाएं की सूची।
  • प्रकाश जावडेकर द्वारा योजनाएं की सूची।

डाकघर बचत योजनाएं: जमा योजनाएं, शर्तें, ब्याज दरें, कर लाभ, Indiapost.gov.in पर ऑनलाइन आवेदन पत्र:

भारत सरकार ने भारतीय डाक के साथ डाकघर बचत योजनाएं के तहत विभिन्न बचत विकल्प शुरू किये है। इस योजना का मुख्य उद्देश लाभार्थी के बचत को बढ़ावा देना और विभिन्न बचत योजनाओं को प्रदान करना है। भारतीय डाक आयकर लाभ के साथ जमा और निकासी के लिए बचत, सरल, त्वरित और परेशानी मुक्त प्रक्रिया पर अच्छी ब्याज दरें प्रदान करती है।

                                                                                                     Post Office Savings Schemes (In English)

डाकघर बचत खाता:

  • ब्याज दर: व्यक्तिगत / संयुक्त खातों पर प्रति वर्ष ४.०%
  • न्यूनतम राशि: खाता खोलने के लिए २० रुपये
  • न्यूनतम शेष राशि: ५० रुपये
  • कर लाभ: वित्तीय वर्ष में १०,००० ब्याज प्रति वर्ष पर कोई कर नहीं है

वर्षीय डाकघर आवर्ती जमा खाता (आरडी):

  • ब्याज दर: ७.३ % प्रति वर्ष (१० रुपये = ७२५ रुपये  ५ साल के बाद )
  •  परिपक्वता: ५ साल
  • न्यूनतम राशि: १० रुपये  या ५ रुपये के गुणक
  • कर लाभ: आयकर अधिनियम १९६१  की धारा ८० सी के तहत कर लाभ

डाकघर समय जमा खाता (टीडी):

  • ब्याज दर: प्रथम वर्ष: ६.९%, दूसरा वर्ष: ७.०%, तीसरा वर्ष: ७.२%, पाचवे वर्ष: ७.८ % (वार्षिक देय ब्याज लेकिन त्रैमासिक गणना होंगी)
  • न्यूनतम निवेश: २०० रुपये और २०० रुपये के गुणक
  • टैक्स लाभ: आयकर अधिनियम १९६१ की धारा ८० सी के तहत कर लाभ

डाकघर मासिक आय योजना खाता (एमआईएस):

  • ब्याज दर: ७.३% वार्षिक
  • न्यूनतम राशि: १५०० रुपये और १५०० रुपये के गुणक
  • अधिकतम निवेश: एक व्यक्ति के लिए ४.५ लाख और संयुक्त खाते के लिए ९ लाख रुपये
  • कर लाभ: आयकर अधिनियम १९६१ की धारा ८० सी के तहत कर लाभ

वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (एससीएसएस):

  •  ब्याज दर: ८.७% वार्षिक
  • न्यूनतम राशि: १००० रुपये और १००० रुपये के गुणक
  • अधिकतम निवेश: १५ लाख रुपये
  •  परिपक्वता: ५ साल
  • कर लाभ: आयकर अधिनियम १९६१ की धारा ८० सी के तहत कर लाभ
  • पात्रता: ६० साल से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिक पात्र है

१५ साल सार्वजनिक भविष्य निधि खाता (पीपीएफ):

  • ब्याज दर: ८ % प्रति वर्ष
  • न्यूनतम राशि: ५०० रुपये
  • अधिकतम निवेश: १,५०,००० रुपये प्रति वर्ष
  •  परिपक्वता: १५ साल, ७ साल के बाद निकासी की अनुमति है
  • कर लाभ: आयकर अधिनियम १९६१ की धारा ८० सी के तहत कर लाभ
  • कर्ज सुविधा ३ साल बाद उपलब्ध है

राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र (एनएससी) और साल राष्ट्रीय बचत प्रमाण पत्र (आठवीं अंक):

  • ब्याज दर: ८% प्रति वर्ष
  • न्यूनतम राशि: १०० रुपये और १०० रुपये के गुणक
  • परिपक्वता: ५  साल
  • कर लाभ: आयकर अधिनियम १९६१ की धारा ८० सी के तहत कर लाभ
  • १०० रुपये की राशी बढ़कर ५ साल के बाद १४६.९३ होंगी

किसान विकास पत्र (केवीपी):

  • ब्याज दर: ७.७% प्रति वर्ष
  • न्यूनतम राशि: १००० रुपये और १००० रुपये के गुणक
  • परिपक्वता: ९ साल ४ महीने (११२ महीने)
  • सुकन्या समृद्धि लेखा:
  • ब्याज दर: ८.५% प्रति वर्ष
  • न्यूनतम राशि: १००० रुपये
  • अधिकतम राशि: १,५०,००० रुपये
  •  कर लाभ: आयकर अधिनियम १९६१ की धारा ८० सी के तहत कर लाभ
  • पात्रता: १०  साल से कम उम्र के लड़कियों के खाते खोले जा सकते है।
  • केवल २१ साल की उम्र पूरी होने के बाद बंद किया जा सकता है।
  • माता-पिता और अभिभावक लड़की के नाम पर खाता खोल सकते  है।

 

देव भूमि दर्शन योजना: हिमाचल प्रदेश में वरिष्ठ नागरिकों के लिए नि:शुल्क तीर्थ यात्रा योजना

हिमाचल प्रदेश के सरकार ने राज्य के वरिष्ठ नागरिकों के लिए मुफ्त / सब्सिडी प्रदान करने वाली तीर्थ यात्रा के लिए देव भूमि  दर्शन योजना की घोषणा की है। इस योजना के माध्यम से राज्य सरकार राज्य के बुजुर्ग नागरिकों के लिए प्रसिद्ध मंदिरों और तीर्थ स्थलों की यात्रा की सुविधा प्रदान करेगी। हिमाचल प्रदेश में करीब सात लाख वरिष्ठ नागरिक  है और बीपीएल परिवार के सभी लोग इस योजना का लाभ पाने के लिए पत्र है। इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य वरिष्ठ नागरिकों के जीवन में उपेक्षा और अकेलापन से बचाने के लिए है।

                                                                                                     Dev Bhoomi Darshan Yojana (In English)

 हिमाचल देव भूमि दर्शन योजना: वरिष्ठ नागरिकों के लिए हिमाचल सरकार द्वारा एक निःशुल्क / सब्सिडी प्रदान करने वाली तीर्थ यात्रा है।

देवभूमि दर्शन योजना का उद्देश्य:

  •  इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य वरिष्ठ नागरिकों के जीवन में उपेक्षा और अकेलापन से बचाने के लिए है।

देवभूमि दर्शन योजना का लाभ:

  • ८० साल से ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों के लिए मुफ्त तीर्थ यात्रा।
  • ८० साल से कम आयु के वरिष्ठ नागरिकों को तीर्थ यात्रा के लिए ५०% छूट या सब्सिडी प्रदान की जाएंगी।
  • ८० साल से ऊपर के वरिष्ठ नागरिकों के साथ सहायक को तीर्थ यात्रा के लिए ८०% छूट प्रदान की जाएंगी।

देवभूमि  दर्शन योजना के लिए पात्रता / मुफ्त में तीर्थ यात्रा कौन प्राप्त कर सकता है:

  • यह योजना केवल हिमाचल प्रदेश के निवासियों के लिए लागू है।
  • यह योजना केवल वरिष्ठ नागरिक और उनके साथ एक सहायक के लिए लागू है।
  •   यह योजना गरीब परिवारों के बुजुर्गों नागरिक के लिए है।
  • बुजुर्ग नागरिक की पारिवारिक आय प्रति वर्ष १ लाख रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।

प्रत्येक जिलों में जिला समितियां इस योजना को लागू करेंगी। प्रत्येक जिलों के डिप्टी कमिश्नर समितियों के अध्यक्ष होंगे।इस योजना के तहत यात्रा का अवधि एक सप्ताह का होंगा। देवभूमि  दर्शन योजना के तहत lलाभार्थी को मुफ्त यात्रा तीन साल में एक बार उपलब्ध होगी। जिला भाषा अधिकारी इस योजना के बारे में जागरूकता फैलाने का काम करेंगे।

हिमाचल प्रदेश आज पुरान राहों से योजना: राज्य की सांस्कृतिक, ऐतिहासिक और पुरातात्विक विरासत की रक्षा और प्रचार करने के लिए एक हिमाचल प्रदेश सरकार की एक योजना है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य की प्राचीन सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित करना है।

अन्य महत्वपूर्ण योजनाएं:

  • हिमाचल प्रदेश राज्य में योजनाओं की सूची
  • वरिष्ठ नागरिकों के लिए योजनाओं की सूची

 

 

 

 

 

श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना महाराष्ट्र: वृद्धों के लिए मासिक पेंशन योजना

श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना वृद्धावस्था में लाभार्थी को पेंशन देने के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा शुरू की गई एक योजना है। श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना एक राज्य सरकार की योजना है, जो इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत लाभ देती है, जिसे भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित किया जाता है। यह योजना वृद्धावस्था में लोगों को वित्तीय सहायता में मदत करती है जो गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) है। लाभार्थियों को इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत २०० रुपये प्रति महिना के हिसाब से पेंशन मिलाती थी और महाराष्ट्र राज्य सरकार लाभार्थी को ४००  रुपये प्रति महिना की पेंशन राशि देती है। अब लाभार्थी को ६०० रुपये प्रति महिना की पेंशन राशी मिलती है। श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के माध्यम से राज्य के निराधार वृद्ध व्यक्तियों को मासिक पेंशन प्रदान करना इस योजना का मुख्य उद्देश्य है।  श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना केवल महाराष्ट्र राज्य के नागरिकों के लिए लागु है या १५ साल से अधिक समय तक महाराष्ट्र राज्य में रहने वाले व्यक्ति पेंशन प्राप्त करने के लिए पात्र है। एक वृद्धावस्था व्यक्ति जिसने ६५ वर्ष की आयु पूरी की है और उसके पारिवारिक वार्षिक आय २१,००० रुपये या उससे कम है, वह इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए पात्र है। यह योजना जरूरतमंद व्यक्ति की मदत के लिए लागू की गई है। इस योजना की पेंशन राशि सीधे लाभार्थी व्यक्ति के बैंक खाते में जमा की जाएगी।

Shravan Bal Rajya Seva Nivrutti Vetan Yojana (In English)

श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना का लाभ:

  • लाभार्थी को ६०० रुपये प्रति माह के हिसाब से पेंशन राशि प्रदान की जाएगी।
  • बीपीएल परिवार से संबंधित लाभार्थी को ४०० रुपये प्रति माह के हिसाब से पेंशन राशि प्रदान की जाएगी और इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत २०० रुपये प्रति माह के हिसाब से पेंशन राशि प्रदान की जाएगी।

श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के लिए पात्रता:

  • लाभार्थी ६५ साल या उससे अधिक की आयु वर्ग का होना चाहिए और उस व्यक्ति की परिवार की वार्षिक आय २१,००० हजार रुपये से कम होना चाहिए।
  • लाभार्थी गरीबी रेखा के निचे (बीपीएल) परिवार से होना चाहिए।
  • १५ साल से लाभार्थी महाराष्ट्र राज्य का निवासी होना चाहिए।

श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • आवेदन पत्र
  • निवास का प्रमाण पत्र
  • आयु का प्रमाण पत्र
  • आय का प्रमाण पत्र
  • लाभार्थी का परिवार गरीबी रेखा के नीचे (बीपीएल) होने का सबूत

श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना आवेदन की प्रक्रिया:

  • आवेदक को गांव के तालाटी से संपर्क करना चाहिए।
  • आवेदक को तहसील कार्यालय से भी संपर्क कर सकते है।
  • शहरोमे संजय गांधी निराधार योजना की प्रक्रिया के लिए संबंधित जिले के जिला सामाजिक कल्याण अधिकारी से आवेदक संपर्क करे।

संदर्भ और विवरण:

  • श्रवण बाल राज्य सेवा निवृत्ति वेतन योजना की आधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे

ओल्ड एज पेंशन योजना दिल्ली: बुजुर्गो/वरिष्ठ नागरिकों के २००० रुपयों प्रति महीना तक वित्तीय सहायता

हमारे देश ने युवाओं की प्रतिभा और वरिष्ठ नागरिकों के अनुभव के संयोजन के साथ बड़ी सफलता हासिल की है। वरिष्ठ नागरिकों ने समाज के विकास के लिए इन सभी वर्षों में कड़ी मेहनत की है। उनके जीवन के विभिन्न चरणों में बहुत अनुभव है। वृद्धावस्था के चरण में, उन्हें विशेष महसूस करने के लिए देखभाल की आवश्यकता होती है। केंद्रीय और राज्य सरकार वरिष्ठ नागरिकों के स्वास्थ्य और सुरक्षा के लिए विभिन्न कार्यक्रमों को लागू कर रही है। दिल्ली सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों के लिए ओल्ड एज पेंशन योजना शुरू की है। इस योजना का मुख्य उद्देश्य वरिष्ठ नागरिकों को सहायता प्रदान करना है।

Old Age Pension Scheme (In English)

ओल्ड एज पेंशन योजना क्या है? दिल्ली सरकार द्वारा राज्य के बुजुर्गो के लिए सहायता योजना है जिसके हातात वरिष्ठ नागरिकोंको १,००० से २००० रुपयों तक वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है।

ओल्ड एज पेंशन योजना के लाभ:

  • वित्तीय सहायता: ६० से ६५ साल के बुजुर्गो को १,००० रुपये प्रति महीना वित्तीय सहायता और ७० साल से अधिक उम्र वाले वरिष्ठ नागरिकोंको १,५०० रुपये प्रति महीने की वित्तीय सहायता।
  • एससी / एसटी श्रेणी के संबंधित व्यक्ति को ५०० रुपये का अतिरिक्त लाभ प्रदान किया जाएगा।
  • यह पेंशन राशि हर महीने लाभर्थियों के बैंक खाते में डायरेक्ट डेबिट ट्रांसफर (डीबीटी) द्वारा सीधे ट्रांसफर की जाएगी।

ओल्ड एज पेंशन योजना के लिए पात्रता:

  • वरिष्ठ नागरिक की वार्षिक आय ६०,००० रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • वरिष्ठ नागरिक दिल्ली का रहिवासी होना चाहिए।
  • आवेदनक की उम्र ६० साल या उससे अधिक होनी चाहिए।

ओल्ड एज पेंशन योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज:

  • निवास प्राधिकरण ने प्रमाणित किया गया निवास प्रमाण पत्र
  • आधार कार्ड
  • बैंक विवरण, खाता धारक का नाम, खाता संख्या, आईएफएससी कोड, एमआईसीआर कोड
  • मतदाता पहचान पत्र
  • पासपोर्ट  आकार की तस्वीर
  • उम्र का प्रमाण पत्र(जन्म प्रमाण पत्र)
  • गरीबी रेखा से नीचे (बीपीएल) का प्रमाण पत्र
  • दिल्ली में चिकित्सा उपचार का  रिकॉर्ड

ओल्ड एज पेंशन योजना के लिए आवेदन कैसे करे:

  • ऑनलाइन आवेदन पत्र mcdonline.gov.in वेबसाइट पर उपलब्ध है।
  • आवेदक इस आवेदन पत्र को डाउनलोड करे और उसका एक प्रिंट आउट ले।
  • फॉर्म को पूरी तरह से भरे, पूरा विवरण सही तरीके से दे।
  • आवश्यक दस्तावेजोको फॉर्म के साथ जोड़े।
  • फॉर्म और दस्तावेजोको सीएसडी (कैंटीन स्टोर्स विभाग) में जमा करे।

ओल्ड एज पेंशन योजना के लाभ प्राप्त करने के लिए किससे संपर्क करे और कहां से संपर्क करना है:

  • नगर आयोग कार्यालय
  • जिला कलेक्टर कार्यालय
  • ग्राम पंचायत कार्यालय

ओल्ड एज पेंशन योजना दिल्ली के बारे में अधिक जानकारी, आवेदन पत्र, आवेदन की स्टेप-बाई-स्टेप प्रक्रिया के लिए यहाँ क्लिक करे।

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एमएसबीवाय) छत्तीसगढ़: वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वतंत्र चिकिस्ता उपचार प्रदान करने के लिए स्वास्थ बीमा योजना – आवेदन पत्र, पात्रता, लाभ एवं अस्पतालों की सूचि

छतीसगढ़ सरकार ने एक नई मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एमएसबीवाय)  राज्य के वरिष्ठ नागरिकों के स्वास्थ के लिएस्वतंत्र चिकिस्ता उपचार उपलध कराने के लिए योजना शुरु की है। योजना छत्तीसगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री श्री रमन सिंह  द्वारा रायपुर में ६९ वें गणतंत्र दिवस घटना के अवसर पर शुरु की है।

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना  (एमएसबीवाय)  योजना का लाभ:
राज्य सरकार जल्द ही वरिष्ठ नागरिकों के लिए स्वास्थ और चिकिस्ता के उपचार के लिए स्वास्थ कार्ड जारी करने वाली है.स्वास्थ कार्ड के तहत वरिष्ठ नागिरकों चिकिस्ता के उपचार के लिए ८०,००० रूपये तक की नि-शुल्क सेवा प्रदान की जाएगी। कैशलेस उपचार मे प्रयोगशाला परिक्षण,सर्जरी और विभिन्न स्वास्थ के मुद्दों को प्रदान की जाएगी। मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एम एस बी वाय) मे परिवार के ५ सदस्य को शमिल किया जाएगा। छत्तीसगढ़ राज्य मे १०० से ज्यादा बापू की कुट्टी शेड वरिष्ठ नागरिकों के लिए निर्माण किए जाएगे.शेड के अंदर टेलीविजन,रेडियो सेट, समाचार पत्र, कूलर,टेबल और कुर्सियां की व्यवस्था रहेंगी. मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एम एस बी वाय) के तहेत वरिष्ठ नागरिकों का देखभाल करना प्राथमिक कर्तव्य है। सरकार ने अब तक ५५.६६ परिवारों को ५०,००० रूपये तक का मुक्त इलाज उपलब्ध कराया है।

                                                                                  Mukhyamantri Swasthya Bima Yojna (In Engish)

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एमएसबीवाय)  के लिए पात्रता:

  • लाभार्थी छत्तीसगढ़ राज्य का निवासी होना चाहिए।
  • योजना के लिए केवल वरिष्ठ नागरिक आवेदन कर सकते है।

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एमएसबीवाय)  और राज्य स्वास्थ बीमा योजना (आरएसबीवाई) अस्पतालों
की सूची:

छत्तीसगढ़ सरकार ने राज्य भर मे ८८२ सरकारी और निजी अस्पतालों को मंजूरी दी है। उपचार इन अस्पतालों मे इस योजना के तहत नि:शुल्क किया जाएगा। ८८२ अस्पतालों मे से ३४८ सरकारी है और शेष ५३४ निजी अस्पताल है। मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एम एस बी वाय) और राज्य स्वास्थ बीमा योजना (आरएसबीवाई) के अस्पताल की सूचि डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करे

छत्तीसगढ़ राज्य के अपने जिले के अस्पतालों को खोजने के लिए अपने जिले को चुनें और सरकार द्वारा अस्पतालों खोजने के लिए भू-लक्ष्यीकरन (जीआईएस मैपिंग) प्रणाली का उपयोग किया जाएगा ताकि लाभार्थी को अस्पताल खोजने मे आसानी हो।

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एम एस बी वाय) और राज्य स्वास्थ बीमा योजना (आरएसबीवाई) के तहत छत्तीसगढ़ राज्य में अपने जिलों के अस्पतालों का स्थान। यहाँ भी आपको सिर्फ अपने जिले का चयन करे और मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (एम एस बी वाय) और राज्य स्वास्थ बीमा योजना (आरएसबीवाई) के तहेत राज्य के सभी अस्पतालों की सूचि दिखाई देगी।

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना  (एमएसबीवाय)  और राज्य स्वास्थ बीमा योजना (आरएसबीवाई) अस्पताल हेल्पडेस्क संपर्क नंबर:

टोल फ्री नंबर: १०४ / पोर्टल: http://rsbycg.nic.in

मुख्यमंत्री स्वास्थ बीमा योजना (MSBY) और राज्य स्वास्थ बीमा योजना (आरएसबीवाई) के तहत स्वास्थ संकुल की सूचि: अपनी दरे और विभिन्न स्वास्थ के मुद्दों का विवरण के साथ स्वास्थ संकुल की पूरी सूचि उपलब्ध है।

प्रधानमंत्री वय वंदन योजना (पी एम वि वाय ए): वरिष्ठ नागरिको के लिए कर मुक्त पेंशन योजना – पात्रता, फायदे, आवेदन पत्र और आवेदन की प्रक्रिया

भारत सरकार ने वरिष्ठ नागरिकों के पेंशन पर सम्मानजनक रिटर्न प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना (पी एम वि वाय ए) का शुभारंभ किया है. प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना के लिए वरिष्ठ नागरिकों की उम्र ६० साल या उससे ज्यादा होना चाहिए. इस योजना का नामांकन ३ मई २०१८ तक उपलब्ध रहेगा उसके बाद नामांकन नही होंगा कारन की यह एक वर्ष योजना है. प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना वरिष्ठ नागरिकों के लिए ८% प्रति वर्ष रिटर्न प्रदान करेगी उसके लिए १० वर्ष तक मासिक भुगतान करना पड़ेगा. प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना के तहत भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) योजना को लागू करने के लिए अधिकृत है.भारत के वित्तीय मंत्री श्री अरुण जेटली ने मई २०१७ मे योजना शुरु की है और प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना के तहत भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) ने अब तक ५८,१५२ दाखिले लिए गए और लाभार्थी को भुगतान के रुप मे २७०५ करोड़ रुपये प्रदान किए.

प्रधानमंत्री वाया वंदना योजना (पी एम वि वाय ए) की मुख्य विशेताएं:

  • एक पेंशन योजना जो ४ मई २०१७ को शुरू की गयी
  • वरिष्ठ नागरिकों के लिए केवल ३ मई २०१८ तक नामांकन प्रक्रिया उपलब्ध रहेगी
  • अधिकृत रुप से केवल एलआईसी इस योजना को बेच सकती है और एलआईसी के तहत ऑफलाइन या ऑनलाइन खरीदा जा सकता है
  • योजना के तहत साल मे एक बार प्रीमियम भुगतान करना होगा और कोई मासिक प्रीमियम भुगतान करने की आवश्कता नही है
  • योजना का कार्यकाल १० साल है और योजना खरीदने के अगले साल से मासिक पेंशन अगले १० वर्ष तक दी जाएगी
  • मासिक पेंशन भुगतान ८% की व्याज पर किया जाता है
  • वार्षिक पेंशन प्रीमियम १२,००० रुपये है जो मासिक,हर ३ महिने और हर ६ महिने के रुप में प्राप्त किया जा सकता है
  • न्यूनतम पेंशन योजना १,४४,५७८ रुपये की होगी
  • आधिकतम प्रीमियम ६०,००० रुपये प्रति साल पेंशन योजना के तहत अनुमति दी है और लाभार्थी को ७,२२,८९२ रुपये भुगतान राशि के रुप मे प्राप्त होंगे
  • प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (पी एम वि वाय ए) के परिपक्वता पर अगर पेंशनभोगी जिंदा है तो उसको पेंशन क़िस्त के साथ पेंशन कीमत मिल जाएगी अन्यथा नामांकित व्यक्ति को पेंशन कीमत मिल जाएगी
  • योजना कर मुक्त है और जीएसटी योजना पर लागू नही है
  • पेंशनभोगी या उसकी पत्नी बीमार होने पर अपनी पेंशन जमा राशि वापस ले सकते है और उस मामले मे लाभार्थी को जमा राशि के ९८% राशि प्राप्त होगी

प्रधानमंत्री वय वंदना योजना (पी एम वि वाय ए) खरीदने के लिए और अधिक विवरण जानने के लिए एल.आय.सी. अधिकृत वेबसाइट पर जाएँ, या तो अपने एलआईसी एजेंट से बात करे

स्मार्ट राशन योजना (एस आर वाय) पंजाब: नयी आटा दाल योजना – पात्रता, आवश्यक दस्तावेज़, आवेदन पत्र और आवेदन की प्रक्रिया

भारत सरकार के राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन (एनएफएसए)। के तहत पंजाब सरकार ने स्मार्ट राशन कार्ड योजना (SRCS) की सुरवात की है. ईस योजना के तहत लाभार्थी को राशन नई मजबूत जैव मीट्रिक प्रणाली के आधार पर वितरित किया जाएगा. राशन गरीब और जरुरतमंद लाभार्थीयों को वितरित किया जाये और जैव मीट्रिक प्रणाली के मदत से भ्रष्टाचार को रोकना यह योजना का मुख्य उद्देश है. पंजाब राज्य मे १.४१ करोड़ लोगो को नए स्मार्ट राशन कार्ड योजना के तहत लाभान्वित किया जाएगा और इस योजना के लिए सरकार आगामी बजट २०१८-२०१९ में ५०० करोड़ का बजट का प्रस्ताव करने वाली है. स्मार्ट राशन कार्ड योजना १ अप्रैल २०१८ से शुरू करने का निर्धार है.

स्मार्ट राशन कार्ड योजना (SRCS) पंजाब क्या है?

पंजाब सरकार की नई आटा दाल योजना जिसके तहत जैव मीट्रिक प्रणाली के आधार पर लाभार्थी को राशन विपरित किया जाएगा|

स्मार्ट राशन कार्ड योजना (SRCS) का लाभ:

  • पंजाब राज्य के १.४२ लोग स्मार्ट राशन कार्ड योजना (SRCS) योजना के तहत लाभान्वित किया जाए
  • गेहूं २ रूपए प्रति किलोग्राम से दिया जाएगा
  • राशन नई मजबूत जैव मीट्रिक प्रणाली के आधार पर दिया जाएगा
  • गेहूं 30 किलोग्राम पैकेजिंग मे दिया जाएगा
  • छह महीने का राशन (गेहूं) एक ही बार मे दिया जाएगा
  • राशन लाभार्थी के घर पर विपरित किया जाएगा
  • लाभार्थी बैग साथ मे रखे जिसमे उनको राशन दिया जा सके
  • एक परिवार मे परिवार के सदस्यों की संख्या के नुसार राशन मिलेगा उसके उपर राशन नही मिलेगा परिवार के सदस्य को प्रति माह 5 किलोग्राम के हिसाब से गेहूं दिया जाएगा
  • २० रूपए किलोग्राम योजना के तहत प्रत्येक लाभार्थी को आधा किलोग्राम दाल प्रति महिने के हिसाब दि जाएगी
  • एक किलोग्राम चीनी और चाय १०० ग्राम SRCS के तहत रियायती दरो पर दी जाएगी