बांग्ला कृषि सेवा योजना (पश्चिम बंगाल): ड्रिप सिंचाई के लिए छोटे और सीमांत किसानों के लिए आर्थिक सहायता  

पश्चिम बंगाल सरकार ने राज्य के छोटे और सीमांत किसानों के लिए बांग्ला कृषि सेवा योजना (बीकेएसवाई) को मंजूरी दे दी है। इस योजना के माध्यम से सरकार राज्य के किसानों को अपने खेतों में ड्रिप सिंचाई स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करेगी। अधिकांश राज्य पानी की कमी से पीड़ित है ऐसे में सूक्ष्म सिंचाई से किसानों को कम पानी के साथ अपनी भूमि में फसल पैदा करने में मदत करेगी। पश्चिम बंगाल राज्य में जंगलमहल, पुरुलिया और बांकुरा जिलों में बहुत कम बारिश होती है और बांग्ला कृषि सेवा योजना (बीकेएसवाई) खेती की परंपरागत तरीकों की तुलना में बहुत कम पानी का उपयोग करके विशेष रूप से फल, सब्जियों की फसलों की खेती करने के लिए मदत करेगी।

Bangla Krishi Sech Yojana (In English)

बांग्ला कृषि सेवा योजना (बीकेएसवाई) क्या है: पश्चिम बंगाल सरकार  की एक योजना जिसके तहत ड्रिप और सिंचाई सिंचन के लिए छोटे और सीमांत किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।

बांग्ला कृषि सेवा योजना उद्देश्य:

  • राज्य के किसानों को खेती में समर्थन करना।
  • पश्चिम बंगाल राज्य के किसानों को कम पानी का उपयोग करके अपनी भूमि में ज्यादा फसल पैदा करने में मदत करना।
  • राज्य में कम बारिश के कारन फसलों की नुकसान से किसानों को बचाना।

बांग्ला कृषि सेवा योजना के लाभ:

  • राज्य के किसानों को सूक्ष्म सिंचाई सुविधाओं को खरीदने के लिए वित्तीय सहायता।
  • लाभार्थी को मुक्त ड्रिप और सिंचन सिंचाई प्रदान की जाएगी।

बांग्ला कृषि सेवा योजना के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल किसानों के लिए लागू है।
  • यह योजना केवल पश्चिम बंगाल राज्य में लागू है।
  • यह योजना केवल गरीब और सीमांत किसानों के लिए लागू है।

बांग्ला कृषि सेवा योजना का आवेदन पत्र और आवेदन कैसे करें? पश्चिम बंगाल सरकार ने इस योजना की घोषणा की है। आवेदन पत्र, विवरण, ऑनलाइन पंजीकरण इत्यादि अभी तक उपलब्ध नहीं है।

बांग्ला कृषि सेवा योजना विशेषताएं और कार्यान्वयन:

  • पश्चिम बंगाल राज्य में गरीब किसानों को मुफ्त सूक्ष्म सिंचाई सुविधाएं प्रदान की जाएगीअभी तक उपलब्ध नहीं है।
  • योजना के तहत राज्य के किसानों को कम पानी का उपयोग करके अपनी भूमि में ज्यादा फसल पैदा करने में मदत करेगीअभी तक उपलब्ध नहीं है।
  • राज्य कृषि विभाग ने पानी बचाने के लिए ड्रिप सिंचाई और स्प्रिंकलर सिंचाई प्रक्रियाओं की सिफारिश की है जिसके आधार पर यह योजना सुरु की गयी है।
  • इस योजना को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंजूरी दी है।
  • राज्य के किसानों को प्रति एकड़ ड्रिप सिंचाई की लागत ७०,००० रुपये है।
  • राज्य के किसानों को प्रति एकड़ सिंचन सिंचाई की लागत २०,००० रुपये है।
  • इस योजना के तहत ड्रिप / स्प्रिंकलर सुविधाएं मुफ्त में उपलब्ध की जाएंगी।
  • पश्चिम बंगाल राज्य सरकार ने योजना के लिए ३५ करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।
  • सरकार परियोजना के साथ मदत करने के लिए विशेषज्ञों को रोजगार देगी।
  • विशेषज्ञ सूक्ष्म सिंचाई परियोजना की स्थापना के लिए किसानों की भी मदद करेंगे।
  • राज्य सरकार किसानों से प्रतिक्रिया के आधार पर विशेषज्ञों को उनकी मदत के लिए भुगतान करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *