प्रबुद्ध योजना: कर्नाटक में अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के छात्रों के लिए विदेशों में अध्ययन करने के लिए वित्तीय सहायता –

कर्नाटक सरकार ने राज्य में विदेशों में अध्ययन करने के लिए अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति के छात्रों का समर्थन करने के लिए प्रबुद्ध योजना शुरू की है। राज्य सरकार अनुसूचित जनजातियों और अनुसूचित कक्षा के छात्रों के लिए पाठ्यक्रम शुल्क, आवास और यात्रा का खर्च  प्रदान करेंगी। यह योजना महिलाओं को ३३% और विकलांग छात्रों को ४ % आरक्षण प्रदान करेंगी।इस योजना का प्राथमिक उद्देश्य सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों के छात्रों को बराबर अवसर प्रदान करना है।

                                                                                                                      Prabuddha scheme (In English)

प्रबुद्ध योजना: राज्य में अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति छात्रों को विदेशों में अध्ययन करने में मदत करने के लिए कर्नाटक योजना सरकार की एक योजना है।

प्रबुद्ध योजना का उद्देश्य:

 अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति छात्रों और उनके परिवारों को सशक्त बनाया जाएंगा।

सामाजिक रूप से पिछड़े वर्गों के छात्रों को बराबर अवसर प्रदान किये जाएंगे।

प्रबुद्ध योजना का लाभ:

अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति छात्रों को विदेशों में अध्ययन करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान की जाएंगी।

पाठ्यक्रम शुल्क, यात्रा, आवास इत्यादि का खर्चा सरकार प्रदान करेंगी।

छात्र विदेशी विश्वविद्यालयों में स्नातक, स्नातकोत्तर और पीएचडी कार्यक्रमों का पीछा कर सकते है।

सरकार १००% शिक्षा का खर्च उन छात्रों को प्रदान करेंगी जिनकी पारिवारिक की वार्षिक आय प्रति वर्ष ८ लाख रुपये कम है।

सरकार १००% शिक्षा का खर्च उन छात्रों को प्रदान करेंगी जिनकी पारिवारिक की वार्षिक आय ८ से १५ लाख रुपये के बीच है।

सरकार ३३% शिक्षा का खर्च उन छात्रों को प्रदान करेंगी जिनकी पारिवारिक की वार्षिक आय १५ लाख रुपये से अधिक है।

प्रबुद्ध योजना के लिए पात्रता:

केवल कर्नाटक के स्थायी निवासियों के लिए यह योजना लागू है।

अनुसूचित जाति (एससी) और अनुसूचित जनजाति (एसटी) के छात्र केवल आवेदन कर सकते है।

छात्र योजना के तहत केवल एक बार आवेदन कर सकते है।

एक परिवार के अधिकतम २  छात्र आवेदन कर सकते है।

केवल वे छात्र जिन्होंने स्नातक अभिलेख परीक्षा (जीआरई), स्नातक प्रबंधन प्रवेश परीक्षा (जीमैट), छात्रवृत्ति योग्यता / आकलन परीक्षा (एसएटी) और अन्य योग्यता परीक्षाएं मंजूरी दे दी है।

राज्य सरकार ने इस योजना के लिए १२० करोड़ रुपये का बजट आवंटित किया है।अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति समुदायों के ४०० छात्र योजना से लाभान्वित हो सकते है और विदेशों में अध्ययन कर सकते है। स्नातक के अंतर्गत का पाठ्यक्रम (अंडर ग्रेजुएट कोर्स) के लिए २५० छात्र और स्नातकोत्तर के लिए १५० छात्र को प्रबुद्ध योजना के तहत नि:शुल्क विदेशी अध्ययन के लिए चुना जाएगा। कर्नाटक राज्य का सामाजिक कल्याण विभाग इस योजना को लागू करेगी।

पाठ्यक्रम प्रबुद्ध योजना के अंतर्गत आते है: इंजीनियरिंग, मूल विज्ञान, कृषि विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, वाणिज्य, अर्थशास्त्र, मनोविज्ञान, कानून, ललित कला और अन्य पाठ्यक्रम प्रबुद्ध योजना के अंतर्गत आते है ।

संबंधित योजनाएं:

अनुसूचियों जनजाति

अनुसूचित जनजाति विकलांग छात्र को ८ वी से १० वी कक्षा में अध्ययन करने के लिए छात्रवृति

कर्नाटक

विदेशों में अध्ययन

अनुसूचित जनजाति

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *