पशुधन टीकाकरण योजना / कण्ट्रोल ऑफ़ फुट एंड माउथ डिजीज (एफ एम डी) एंड ब्रूसीलोसिस स्कीम

September 5, 2019 | By hngiadmin | Filed in: अंडमान व नोकोबार द्वीप समूह, कृषि, भारत सरकार, योजनाएं, आंध्र प्रदेश, खबरें, अरुणाचल प्रदेश, असम, बिहार, मणिपुर सरकार, छत्तीसगढ़, चंडीगढ़, दादरा और नगर हवेली, दमन और दीव, राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली, किसान, गोवा, गुजरात, हरयाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर, झारखंड, कर्नाटक, केरल, लक्षद्वीप, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, नगालैंड, ओडिशा, पुडुचेरी, राजस्थान, सिक्किम, तमिलनाडु, तेलंगाना, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पश्चिम बंगाल, पंजाब.

केंद्र सरकार ने घरेलु पशुओंके संवर्धन के लिए पशुधन टीकाकरण योजना / कण्ट्रोल ऑफ़ फुट एंड माउथ डिजीज (एफ एम डी) एंड ब्रूसीलोसिस स्कीम सुरु की है। इस योजना के तहत पशुओंमे होने वाली पैर और मुंह की बीमारियां और ब्रुसेलोसिस की समस्‍या से निपटने के लिए टीकाकरण किया जायेगा। केंद्र सरकार ने योजना के लिए १३.५०० करोड़ रुपये आवंटित किये है।

योजना: पशुधन टीकाकरण योजना / कण्ट्रोल ऑफ़ फुट एंड माउथ डिजीज (एफ एम डी) एंड ब्रूसीलोसिस स्कीम
लाभ: घरेलु पशुओंको मुफ्त टीकाकरण योजना
लाभार्थी: पशु पालक एवं किसान
प्रारंभ:  सितम्बर २०१९
बजट: १३.५०० करोड़ रुपये

उद्देश्य:

  • पशुओमे होनेवाली बीमारियोका पूरी तरह से उन्मूलन करना।
  • पशु उत्पाद में बढ़ोतरी लाना।
  • पशु पालक एवं किसानोंका पशुओंके स्वास्थ पर होने वाले खर्च को काम करना।
  • किसानों और पशु पालकों का मुनाफा बढ़ाना।

कण्ट्रोल ऑफ़ फुट एंड माउथ डिजीज (एफ एम डी) एंड ब्रूसीलोसिस प्रोग्राम क्या है?

  • भारत सरकार एक नयी योजना जिसके तहत पशुओंमे होने वाली बीमारियों से बचने के लिए मुफ्त टीकाकरण किया जायेगा।
  • आने वाले पांच सालो में अलग अलग चरणोमे पशु टीकाकरण किया जायेगा।
  • योजना के तहत 30 करोड़ गाय, बैल और भैसे, 20 करोड़ बकरिया अवं १ करोड़ सुअरोका मुफ्त टीकाकरण किया जायेगा।
  • पैर और मुंह की बीमारियां और ब्रुसेलोसिस की समस्‍या के कारन कई गंभीर परिणाम पशुओं पे होते है। जैसे की पशुओमे दूध की कमी होना, वह अनुपजाऊ हो जाते है।
  • इससे पशु पालकोंको भरी नुकसान हो जाता है।
  • इन बीमारियो के वजह से देश का हर साल १८,००० – २०,००० करोड़ का नुकसान हो जाता है।
  • भारत सरकार का पशुपालन और मत्स्य पालन मंत्रालय इस योजना को लागु करेगा।
  • बहोत लम्बे समय से लागु है लेकिन अब इस योजना का प्रचार प्रसार अधिक प्रभावी रूप से किया जायेगा, जिससे अधिक से अधिक मात्रा में पशुपालक इसके बारे में जानकारी पा सके और अपने पशुओंको समय रहते टीकाकरण कर सके।

Tags: , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *