‘परवाज़’ एक मार्केट लिंकेज सपोर्ट स्कीम, जम्मू और कश्मीर

८ जुलाई, २०२१ को जम्मू और कश्मीर सरकार ने बाजार लिंकेज सहायता योजना ‘परवाज़’ शुरू की। यह योजना मुख्य रूप से एयर कार्गो के माध्यम से जम्मू और कश्मीर में फसल खराब होने वाले कृषि और बागवानी उत्पादों के शिपमेंट के लिए शुरू की गई है। इस योजना के तहत पैनल में शामिल एयरलाइनों के माध्यम से शिपमेंट के लिए हवाई अड्डे के संचालन शुल्क सहित एयर कार्गो शुल्क पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी। यह सब्सिडी राशि समय-समय पर डीबीटी द्वारा प्रदान की जाएगी। वर्तमान में ३१ अगस्त, २०२१ तक प्रतिपूर्ति ऑफलाइन मोड में की जाएगी। इस योजना का उद्देश्य जम्मू और कश्मीर के फल उत्पादकों और किसानों की आय को दोगुना करना है जिससे उनका कल्याण सुनिश्चित हो सके। इस योजना को पशु, भेड़पालन एवं मत्स्य विभाग द्वारा दूध, मछली एवं अन्य शीघ्र खराब होने वाली वस्तुओं के लिए भी उपलब्ध धनराशि के अनुसार अपनाया जा सकता है।

योजना अवलोकन:

योजना का नाम: ‘परवाज़’ एक मार्केट लिंकेज सपोर्ट स्कीम
योजना के तहत: जम्मू और कश्मीर सरकार
लागू किया गया: जम्मू और कश्मीर
लॉन्च की तारीख: ८ जुलाई २०२१
लाभ: जम्मू-कश्मीर में खराब होने वाली कृषि और बागवानी उत्पादों को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार में पहुंचाने के लिए एयर कार्गो सेवा
उद्देश्य: जम्मू और कश्मीर में एयर कार्गो सेवा प्रदान करने और किसानों को लाभान्वित करने के लिए

योजना के उद्देश्य और लाभ:

  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य खराब होने वाली कृषि और बागवानी उत्पादों के लिए एयर कार्गो सेवा प्रदान करना है।
  • यह योजना फल उत्पादकों और किसानों की आय को दोगुना करके लाभान्वित करने के लिए शुरू की गई है।
  • यह खराब होने वाली उपज को आसानी से घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार में ले जाने की प्रवृत्ति रखता है।
  • इसका उद्देश्य जम्मू और कश्मीर में स्थानीय स्तर पर काटी गई उपज के लिए एक व्यापक बाजार को कवर करना है।
  • यह योजना स्थानीय लोगों के लिए रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देगी।
  • इसका उद्देश्य किसानों की समग्र आय और जीवनयापन में वृद्धि करना है।
  • इस योजना के तहत किसानों को उनकी उपज की कीमत सीधे उनके बैंक खाते में मिलेगी और बीच में कोई मध्यस्थ नहीं होगा।

योजना विवरण:

  • जम्मू और कश्मीर सरकार द्वारा ८ जुलाई, २०२१ को ‘परवाज़’ एक बाज़ार संपर्क सहायता योजना शुरू की गई है।
  • यह योजना मुख्य रूप से किसानों और फल उत्पादकों को लाभान्वित करने के लिए शुरू की गई है।
  • इसमें कृषि और बागवानी क्षेत्र की खराब होने वाली उपज को शामिल किया गया है।
  • इस योजना के तहत जम्मू-कश्मीर में खराब होने वाली कृषि और बागवानी उपज को घरेलू और अंतरराष्ट्रीय बाजार तक पहुंचाने के लिए हवाई कार्गो सेवा प्रदान की जाएगी।
  • सरकार एक या एक से अधिक पैनलबद्ध एयरलाइनों के माध्यम से शिपमेंट के लिए हवाई अड्डे के संचालन शुल्क सहित एयर कार्गो शुल्क पर सब्सिडी प्रदान करेगी।
  • यह सब्सिडी प्रतिपूर्ति किसानों/एफपीओ/एसएचजी/अन्य पंजीकृत बिचौलियों को समय-समय पर प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) के माध्यम से ऑनलाइन की जाएगी।
  • भुगतान संबंधित एयरलाइनों के मूल चालान/बिल के आधार पर किया जाएगा।
  • वर्तमान में ३१ अगस्त, २०२१ तक भुगतान ऑफलाइन मोड के माध्यम से किया जाएगा और उसके बाद केवल ऑनलाइन डीबीटी मोड का उपयोग किया जाएगा।
  • सरकार द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार रु. श्रीनगर से दुबई लदान के लिए १२८ रुपए किलो; श्रीनगर/जम्मू से शारजाह तक ५४ रुपये प्रति किलो तय किया गया है।
  • भारत में बाजारों में शिपमेंट के लिए दरें तय की गई हैं – श्रीनगर/जम्मू से दिल्ली के लिए रु. २९ प्रति किलो, श्रीनगर/जम्मू से चेन्नई के लिए रु. ५४ प्रति किलो, श्रीनगर/जम्मू से कोलकाता के लिए रु. ५२ प्रति किलो, श्रीनगर/जम्मू से मुंबई/पुणे के लिए रु. ३९ प्रति किलो, श्रीनगर/जम्मू से बेंगलुरु के लिए रु. ५५ प्रति किलो।
  • इन दरों में एयरपोर्ट हैंडलिंग शुल्क शामिल हैं।
  • योजनान्तर्गत जैविक/विदेशी सब्जियों की पहचान हेतु पृथक विशेषज्ञ समिति का गठन किया जायेगा।
  • यह योजना जम्मू और कश्मीर के बाजारों को जोड़ने के लिए एक तंत्र तैयार करेगी।
  • यह फल और सब्जी किसानों को अच्छी आय अर्जित करने में सक्षम बनाएगा।
  • जम्‍मू-कश्‍मीर में काटे गए उत्‍पादों के विपणन पर अलग प्रभाव पड़ेगा।
  • यह योजना किसानों की आय को दुगनी करके लाभान्वित करती है जिससे उनका आर्थिक और सामाजिक कल्याण सुनिश्चित होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *