दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने की नई योजना

२६ अगस्त, २०२१ को तमिलनाडु सरकार ने दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने के लिए एक नई योजना की घोषणा की। यह घोषणा तमिलनाडु के स्कूल शिक्षा मंत्री अंबिल महेश पोय्यामोझी ने कार्यालय से एक आधिकारिक बयान के माध्यम से की। इस योजना के तहत १८ वर्ष से कम आयु के विकलांग स्कूली बच्चे जो कई शारीरिक और बौद्धिक अक्षमताओं के कारण स्कूल नहीं जा पा रहे हैं, को कवर किया जाएगा। यह योजना ऐसे बच्चों को उनकी आवश्यकताओं के लिए १०,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करके सहायता करेगी। राज्य सरकार ऐसे बच्चों के लिए प्रशिक्षित चिकित्सक और विशेष शिक्षक भी उपलब्ध कराएगी। यह योजना यह सुनिश्चित करती है कि राज्य में कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे।

अवलोकन:

योजना का नाम दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने की नई योजना
योजना के तहत तमिलनाडु सरकार
द्वारा घोषित तमिलनाडु के स्कूल शिक्षा मंत्री अंबिल महेश पोय्यामोझी
घोषणा तिथि २६ अगस्त २०२१
लाभार्थी राज्य में १८ वर्ष से कम आयु के विकलांग बच्चे
लाभ सहायता के लिए अन्य उपायों के साथ-साथ १०,००० रुपये की वित्तीय सहायता
उद्देश्य राज्य में विकलांग बच्चों का कल्याण सुनिश्चित करने के लिए उन्हें सहायता और सहायता प्रदान करना।
कुल बजट रु. ७.८ करोड़

उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में दिव्यांग छात्रों को सहायता प्रदान करना है।
  • यह १८ वर्ष से कम आयु के सभी बच्चों को कई शारीरिक और बौद्धिक अक्षमताओं के साथ कवर करेगा।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार ऐसे बच्चों की सहायता के लिए प्रत्येक को १०,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करेगी।
  • प्रशिक्षित चिकित्सक और विशेष शिक्षक ऐसे बच्चों के घरों का दौरा करेंगे और आवश्यक सहायता प्रदान करेंगे और राज्य सरकार इसके लिए आवश्यक सहायता प्रदान करेगी।
  • यह योजना इस बात पर नियंत्रण रखती है कि राज्य में कोई भी बच्चा शिक्षा से वंचित न रहे
  • यह राज्य में विशेष रूप से विकलांग बच्चों के कल्याण को सुनिश्चित करता है।

प्रमुख बिंदु:

  • तमिलनाडु सरकार ने २६ अगस्त, २०२१ को दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने के लिए एक नई योजना की घोषणा की।
  • यह घोषणा तमिलनाडु के स्कूल शिक्षा मंत्री अंबिल महेश पोय्यामोझी ने कार्यालय से एक आधिकारिक बयान के माध्यम से की।
  • इस योजना के तहत १८ वर्ष से कम आयु के विकलांग स्कूली बच्चे जो कई शारीरिक और बौद्धिक अक्षमताओं के कारण स्कूल नहीं जा पा रहे हैं, को कवर किया जाएगा।
  • यह योजना ऐसे बच्चों को उनकी आवश्यकताओं के लिए १०,००० रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान करके सहायता करेगी।
  • राज्य सरकार ऐसे बच्चों के लिए प्रशिक्षित चिकित्सक और विशेष शिक्षक भी उपलब्ध कराएगी और राज्य सरकार इसका समर्थन करेगी।
  • यह प्रत्येक विकलांग बच्चे के लिए आवश्यक उपचार के साथ-साथ विशेष शिक्षा सुनिश्चित करता है।
  • इसका उद्देश्य ऐसे छात्रों को समान अवसर देना भी है।
  • यह योजना राज्य में विशेष बच्चों के कल्याण और विकास को सुनिश्चित करेगी।
  • योजना के लिए आवंटित कुल बजट ७.८ करोड़ रुपये है।
  • शिक्षा विभाग ने उन छात्रों के लिए विभिन्न भाषाओं में सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों का तमिल में अनुवाद करना भी शुरू कर दिया है जो तमिल भाषा में उच्च शिक्षा प्राप्त करना चाहते हैं।
  • इन अनुवादित पुस्तकों का प्रकाशन तमिलनाडु पाठ्यपुस्तक और शैक्षिक सेवा निगम द्वारा किया जाएगा।
  • राज्य सरकार ने पुस्तकों के अनुवाद और प्रकाशन के लिए २ करोड़ रुपये आवंटित किए हैं।
  • शिक्षा विभाग १८ साल से कम उम्र के तीन बच्चों को कविमणि पुरस्कार भी देगा।
  • इस पुरस्कार में बच्चों के लिए २५,००० रुपये नकद और प्रशस्ति पत्र शामिल होंगे।
  • विभाग सरकारी स्कूल के छात्रों को तमिलनाडु, काराकट्टम, कुम्मी और कावड़ी की पारंपरिक लोक कलाओं को भी पढ़ाएगा।
  • विभाग राज्य के सरकारी स्कूलों को ३५ करोड़ रुपये के खेल उपकरण भी उपलब्ध कराएगा।
  • यह तकनीकी उच्च शिक्षा प्राप्त करने के लिए विशेष रूप से विकलांग छात्रों के लिए एक छात्रवृत्ति योजना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *