दरवाजे पर आधार नामांकन योजना: (आधार किट) तमिलनाडु के ५ साल से कम उम्र के  बच्चों के लिए-

तमिलनाडु सरकार ने ५ साल से कम उम्र के बच्चों के लिए दरवाजे पर आधार नामांकन प्रदान करने के लिए दरवाजे पर आधार नामांकन योजना शुरू की है। माता-पिता घर पर बैठे आधार के लिए अपने बच्चों को नामांकित कर सकते है। यह योजना नागरिकों को अपने बच्चों को आधार नामांकन करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। विभिन्न योजनाओं, छात्रवृत्ति के आवेदन के लिए आधार कार्ड की आवश्यकता होती है और इसका उपयोग हवाई अड्डे जैसे विभिन्न स्थानों पर पहचान साबित करने के लिए भी किया जाता है।

आधार नामांकन योजना के लिए राज्य सरकार को १३.६१ करोड़ रुपये का खर्चा है। आधार भारत सरकार के यूआईडीएआई द्वारा जारी किया जाता है। यह भारत देश के नागरिकों को बायो-मैट्रिक्स प्रणाली के आधार पर १२ अंकों का अद्वितीय पहचान नंबर प्रदान करता है।यह दुनिया का सबसे बड़ा पहचान कार्यक्रम है। दरवाजे पर आधार नामांकन योजना परेशानी मुक्त नामांकन प्रदान करेगी और लोगों को अपने बच्चों को नामांकित करने के लिए प्रोत्साहित करेगी।

                                                                                 Doorstep Aadhaar Enrollment Scheme (In English):

दरवाजे पर आधार नामांकन योजना का लाभ:

  • बच्चों के माता-पिता  घर बैठे अपने बच्चो  को आधार के  लिए  नामांकित कर सकते है।

दरवाजे पर आधार नामांकन योजना के लिए पात्रता:

  • यह योजना केवल तमिलनाडु राज्य में लागू है।
  • केवल ५  वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए यह योजना लागू है।

टीएन दरवाजे पर आधार नामांकन योजना: कार्यान्वयन

  • आधार अधिकारी पंजीकृत बच्चों के घर जाएंगे और बायो-मैट्रिक्स को इकट्ठा करेंगे।
  • अधिकारियों को बायो-मैट्रिक्स किट के साथ लैपटॉप कंप्यूटर प्रदान किया जाएंगा।
  • सत्यापन के आधार पर आधार कार्ड किट जारी की जाएंगी।
  • तमिलनाडु राज्य के मुख्यमंत्री ने इस योजना को शुरू किया है।
  • इस योजना का कार्यान्वयन १७ दिसंबर २०१८ से शुरू हुआ है।

संबंधित योजनाएं:

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *