छात्र प्रोत्साहन योजना, ओडिशा

४ अक्टूबर, २०२१ को ओडिशा सरकार ने राज्य में एससी और एसटी वर्ग के छात्रों को मुफ्त कोचिंग प्रदान करने के लिए ‘छात्र प्रोत्साहन योजना’ शुरू की। इस योजना के तहत छात्रों को मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं के लिए कोचिंग प्रदान की जाएगी। इस योजना के तहत कोचिंग के उद्देश्य से ७ उत्कृष्टता केंद्र शुरू किए जाएंगे। हर साल लगभग ३२० छात्रों को मुफ्त कोचिंग प्रदान की जाएगी। इसका उद्देश्य समाज के वंचित वर्गों के छात्रों को उच्च अध्ययन के लिए प्रोत्साहित करना है। इसका उद्देश्य छात्रों को प्रवेश परीक्षाओं को क्रैक करने और भविष्य में नई ऊंचाइयों को प्राप्त करने के लिए प्रेरित करना है।

अवलोकन:

योजना छात्र प्रोत्साहन योजना
योजना के तहत ओडिशा सरकार
लॉन्च की तारीख ४ अक्टूबर २०२१
लाभार्थी राज्य में अनुसूचित जाति/अनुसूचित जनजाति वर्ग के छात्र
लाभ मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षाओं के लिए नि:शुल्क कोचिंग
उद्देश्य आरक्षित वर्ग के छात्रों को प्रवेश परीक्षा की तैयारी करने और उच्च अध्ययन करने में मदद करने के लिए उन्हें मुफ्त कोचिंग प्रदान करना

उद्देश्य और लाभ:

  • योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य में आरक्षित श्रेणी के उन छात्रों को मुफ्त कोचिंग प्रदान करना है जो मेडिकल और इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा की तैयारी के इच्छुक हैं।
  • यह योजना राज्य में मेधावी एससी / एसटी छात्रों को कवर करती है।
  • छात्रों को यह वित्तीय बाधाओं और कठिनाइयों के बावजूद अध्ययन करने में सहायता प्रदान करता है।
  • यह पहल छात्रों को परीक्षा में सफल होने और उच्च अध्ययन करने के लिए प्रोत्साहित करती है।
  • राज्य भर में यह कई छात्रों को भौतिक और साथ ही आभासी मोड के माध्यम से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्राप्त करने में मदद करता है।

प्रमुख बिंदु:

  • ओडिशा सरकार ने आरक्षित श्रेणी के छात्रों के लिए ‘छात्र प्रोत्साहन योजना’ शुरू की, जिसके तहत उन्हें प्रवेश परीक्षाओं में मदद करने के उद्देश्य से मुफ्त कोचिंग प्रदान की जाएगी।
  • यह योजना एससी एड एसटी जैसी आरक्षित श्रेणियों के छात्रों के लिए शुरू की गई है ताकि उन्हें अध्ययन के समान अवसर प्राप्त करने में मदद मिल सके।
  • ऐसी श्रेणियों से संबंधित मेधावी छात्र जो अध्ययन करने और परीक्षा परीक्षाओं की तैयारी करने के इच्छुक हैं, लेकिन निजी संस्थानों में कोचिंग का खर्च नहीं उठा सकते हैं, इस योजना के तहत कवर किए गए हैं।
  • इस योजना के तहत राज्य सरकार राज्य के करीब ६२ स्कूलों में ७ सेंटर फॉर एक्सीलेंस शुरू करेगी।
  • एसएसडी स्कूलों में उत्कृष्टता के ये केंद्र स्थापित किए जाएंगे जो छात्रों की क्षमता की पहचान करने में मदद करेंगे।
  • एचएससी परीक्षा और चयन परीक्षा में उनके प्रदर्शन के आधार पर छात्रों का चयन कोचिंग के लिए किया जाएगा।
  • इस वर्ष प्रशिक्षण के लिए चयनित छात्रों को २०२३ में होने वाली परीक्षाओं के लिए तैयार किया जाएगा।
  • हर साल लगभग ३२० छात्रों को मुफ्त कोचिंग प्रदान की जाएगी।
  • लॉन्च के दौरान इस योजना के तहत चुने गए कोचिंग संस्थानों के साथ एमओयू साइन किए गए हैं।
  • सांसद डॉ. अमित पटनायक ने भी इस योजना के तहत छात्रों को २०० टैबलेट सौंपे।
  • ये टैबलेट डिजिटल शिक्षण सामग्री तक त्वरित पहुंच सुनिश्चित करेंगे।
  • इस योजना का उद्देश्य आरक्षित वर्ग के छात्रों को वित्तीय कठिनाइयों के बावजूद उच्च शिक्षा के लिए परीक्षाओं के अध्ययन में सफलता के लिए प्रोत्साहित करना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *